Category: रिश्ते में चुदाई

loading...

“मेरा पहला चुम्बन मेरे लिये घातक बना”-4

सोच कर मैं तो सूखे पत्ते की तरह काँप गया| मैं तो तब चौंका जब मोना नें आँखे मलते हुए कहा,’गुड-मोर्निंग फूफाजी |’ मैं भला क्या कहता| मोना
Read More

“मेरा पहला चुम्बन मेरे लिये घातक बना”-2

मेरे पास उसे गोद में उठानें का सुनहरा अवसर था| मैनें उसे गोद में उठा लिया| उसे भला क्या ऐतराज़ हो सकता था|  उसके पैर में तो चोट
Read More

“मेरे साथ मेरी अम्मा की भी चुदाई हुई”-3

अब चाचू का मुँह मेरे सामनें था! उनका चेहरा लाल हो चुका था| वो मेरे चेहरे की तरफ देख भी नहीं रहे थे| उन्होंनें अपनें इनर को उठाया!
Read More