loading...

“सुहागरात की वो हसीन लम्हें”

 Antarvasna sex stories, desi kahani, hindi sex stories, chudai ki kahani, 
Antarvasna दोस्तों आज की ये हॉट कहानी मेरे फूफी के लड़के की मधुरजनी यानी की उसकी सुहागरात के ऊपर है. शादी की रात को वो काफी खुश और चहकता हुआ लग रहा था आज चोदने का लाइसेंस जो मिला था. और एक कुंवारी लड़की को पहली बार लंड देने का उत्साह भला कम थोड़ी होता है. इसलिए उसकी ख़ुशी सामान्य ही थी उस अवसर पर. मेरे को मेरे भाई ने दुसरे दिन अपनी फर्स्ट नाईट की सब बात बताई थी. जिसे मैंने सोचा की नाम बदल के इस साईट पर भेज दूँ. मेरा नाम जय है और मैं एमपी से हूँ. मेरी उम्र अभी 20 बरस की है. और जब बुआ के लड़के की मेरेज हुई तो वो 23 बरस का था.
वो लोग पैसे वाले और बड़े घर के मालिक है. शादी के अवसर पर उनका पूरा घर गेस्ट लोगों से भरा पड़ा था. मैं कुछ दिन पहले से ही उनके वहाँ था क्यूंकि उन लोगो के काफी गेस्ट आने थे इसलिए इंतजाम और काम के लिए मेरी जरूरत थी इसलिए फूफा जी ने पहले ही मेरे को बुला लिया था. शादी के पहले से ही हम सब लोग काम में थे. और दिन ऐसे निकले की पता ही नहीं चला की कब शादी का दिन भी आ गया. शादी में काफी धूम थी और फूफा जी ने पैसे बहा दिए थे. मेरे बुआ का लड़का नवीन काफी तगड़ा है और वो डेली जिम करता है. उसकी हाईट भी करीब करीब 6 फिट की है. और उसे भी चोदने का सुख मयस्सर हुआ जब उसकी सुहागरात आ गई तो. आज वो एक कुंवारी लड़की की अक्षत योनी को भेद के अपने लंड के पानी की सिग्नेचर उसके ऊपर करनेवाले थे. और बाकि लोगों के जैसे ही मैं भी काफी खुश था. नयी भाभी को हम लोगों ने इंट्रो दिया और उन्हें रोना बंद करवाने के लिए हंसी मजाक भी की. रात होती गई और महमान लोग अब धीरे धीरे कम होने लगे. भैया की सेज दुसरे माले पर के कमरे में सजाई गई थी. भैया ने हम लोगों को 10000 रूपये दिए थे सजाने के लिए ही. जब वो लोग कमरे में जाने लगे तो हम सब दोस्त लोग उन्हें परेशान कर रहे थे जिस से नवीन भाई शर्मा रहे थे.

बिस्तर के ऊपर फूलों की पत्तियाँ डाली हुई थी हमने जिसकी चद्दर सी बन गई थी. बेड के हर कौने में एक एक परफ्यूम की बोतल खाली कर दी थी हमने. पुरे कमरे से अलग अलग खुसबू आ रही थी जैसे. मेरे मन में कब से ये विचार था की आज तो भैया और इस नयी नवेली भाभी की सुहागरात देख लेता हूँ. और तभी तो मैंने एक वीडियो केमरा चुपके से फूलों के बिच में छिपा के रख दिया था जीसके ऊपर किसी और का ध्यान नहीं था.

लड़कियों ने भाभी को बेड के ऊपर बिठा दिया. वो लाल जोड़े में थी और सर के ऊपर घुंघट था उसके. वो बड़ी सुंदर लग रही थी उस जोड़े में. और मेरे मन में ऐसा भी ख़याल आया की भैया की जगह मैं ही भाभी के साथ सुहागरात मना लूँ. लेकिन काश ये हो सकता! अन्तर्वासना पोर्न स्टोरीज डॉट कॉम
अब लड़कियों ने नविन भाई को भी कमरे में धकेला और फिर हम सब लोग बहार आ गए. अब जो कुछ आप को बता रहा हूँ वो मैंने अगले दिन अपने केमरे के अंदर देखा था.

कमरे के अंदर घुस के भैया ने पहले तो डोर लोक किया और पलंग के निचे चेक किया की कोई छिपा तो नहीं. और फिर वो भाभी के पास बैठे और दोनों कुछ बातें करने लगे.

भाभी निचे देख रही थी और शायद हां हूँ में ही आन्स्वर कर रही थी भैया की बातों का. अब भैया भाभी के और भी क्लोज होते गए. और फिर उन्होंने धीरे से भाभी के चहरे के ऊपर के घुंघट को थोडा ऊपर किया. घुंघट के हटने से भाभी को बड़ी शर्म आ रही थी और उसने अपने चहरे को निचे कर लिया.

और फिर भैया ने आगे हो के भाभी के मस्तिक पर चुम्बन दे दिया. भाभी ने खड़े हो के दूध का ग्लास भैया को दिया एकदम शर्माते हुए. भैया ने भाभी के बूब्स की तरफ दिखा के कहा मेरे को भेंस का नहीं लेकिन ये दूध पीना है!

ये सुन के भाभी हंस पड़ी और फिर भाई ने पूरा दूध पी के ग्लास खाली कर दिया. और फिर उन्होंने भाभी को खिंच के अपनी गोदी में ले लिया और फिर उन्हें ले के वो बिस्तर में लेट गए. भाभी के गहनों को एक एक कर के उतारना चालू कर दिया भाई ने. और भाभी भी इस काम में भैया का पूरा साथ दे रही थी. और गहने उतारते हुए भैया भाभी को चुमते भी थे. कभी उनके मस्तक पर, कभी गाल पर तो कभी होंठो को भी किस कर रहे थे वो.

10 -12 मिनिट तक ये काम चला, सब गहने उतर गए थे. और भाभी का फेस शर्म की वजह से एकदम रेड हो गया था. शायद वो गरम भी हो गई थी पूरी तरह से. अब भाभी के कंधे को पकड़ के भाई ने उसे उठाया. और फिर वो उसके ब्लाउज को उतारने लगे. भाभी की जवानी वो ब्लेक ब्रा में कूट कूट के भरी हुई थी. मैं क्लिप देख के लंड को पकड बैठा तो भैया की क्या हालत हुई होगी वो सब लाइव देख के! नवीन भाई का लंड भी टाईट हो गया होगा!

अब नविन भाई ने भाभी की पीठ के ऊपर किस कर दिया और चुमते चुमते ही बड़े स्टाइल से उन्होंने भाभी के लहंगे को खिंच लिया. भाभी ने जैसे काली ब्रा वैसे ही निचे काली पेंटी पहन रखी थी. और वो गोरी चमड़ी की थी इसलिए उसके ऊपर वो ब्लेक कलर की ब्रा और पेंटी बहुत ही सेक्सी लग रही थी. भाई ने अब हिम्मत कर के ब्रा के हुक को खोल दिया जिसकी वजह से ब्रा निचे गिर पड़ी भाभी की गोदी में. और उसके दो बड़े आम की साइज़ के बूब्स भैया के सामने खुल गए. वो दोनों बूब्स एकदम टाईट और तने हुए थे. भाई ने अब भाभी की पेंटी को भी उतार दिया. और भाभी को उन्होंने अपने सामने एकदम नंगा कर दिया था. भाभी ने शायद सुहागरात के लिए झांट बनाई हुई थी क्यूंकि चूत एकदम क्लीन थी उसकी. भाभी को अब नंगे होने के बाद भैया से शर्म आ रही थी. इसलिए उसने अपने चहरे को दोनों हाथ से ढँक लिया था.

नविन भाई भाभी को नंगा करने के बाद अब अपने कपडे निकालने लगे. और एक मिनिट के अंदर ही वो पुरे न्यूड हो गए. उनका लंड लोहे की सलाख के जैसा सीधा खड़ा था जिसे भाभी ने तिरछी नजरों से देखा. अब भैया ने भाभी को लंड मुहं में लेने के लिए कहा. लेकिन भाभी ब्लोवजॉब के लिए मना कर रही थी. नविन भाई ने अब भाभी को गोदी में उठा के बिस्तर के ऊपर सीधा लिटाया और वो माथे से ले के भाभी के पैरों तक अपने होंठो से उन्हें गरम गरम चुम्बन दे रहे थे. भाभी जी के हाथ चादर को मरोड़ रहे थे और उनका बदन कांपने लगा था. उनके मुहं से सिस्कारियां निकलने लगी थी. अन्तर्वासना पोर्न स्टोरीज डॉट कॉम

loading...

मेरा लंड ये सिन को देख के एकदम कडक हो गया था और कसम से भाभी के सेक्सी बदन को देख के किसी का लंड भी खड़ा हो जाए ऐसा ही था वो. भाभी जोर जोर से सिस्कारियां लेने लगी थी. अब भैया ने चुपके से भाभी के साथ ६९ पोजीशन बना ली. और अब भाभी इतनी गर्म थी की वो लंड मुहं में लेने से मना नहीं कर पाई. और भैया ने जैसे ही अपनी जबान से भाभी को चूत कू टच किया तो वो जैसे एकदम से उछल ही पड़ी. भैया के हाथ भाभी की जांघ को सहला रहे थे और वो अपनी जबान से चूत क चाटने लगे थे. दोनों ने कुछ देर तक म्यूचल ओरल सेक्स किया और वो दोनों ही झड़ गए.

भैया भाभी की जांघ को चाटने लगे और फिर भाभी को सीधा कर के उन्होंने अपना लंड फिर से उनके मुहं में दे दिया. भाभी ने लांद को चूस चूस के उसे वापस खड़ा कर दिया. भैया ने भाभी को घुटने मोड़ के ऊपर की और किया और फिर अपनी सब से बड़ी ऊँगली को भैया ने भाभी की गीली चूत में डाला. भाभी की चीख ही निकल पड़ी जिसके अंदर बड़ी तदप थी, अह्ह्ह्ह मम्मी!

कसम से वो सिन ऐसा था की किसी गन्दी से गन्दी फिल्म से भी ज्यादा हॉट कर दे आप को. भैया अपनी ऊँगली को जोर जोर से भाभी की चूत में हिला रहे थे और उस वजह से भाभी एक बार फिर से झड़ गई.

अब नविन भाई ने अपनी जगह भाभी की दोनों जांघो के बिच में बनाई और वो अपने लंड को भाभी की चूत में घुसाने लगे. और जैसे ही एक धक्का दिया उन्होंने तो उनका लंड फिसल के साइड में हो गया क्यूंकि भाभी की चूत एकदम कुंवारी बिना चुदाई वाली थी. भैया उठे और उन्होंने जो मेडिकल से ग्लिसरीन ला के रखा था उसे ले के अपने लंड पर लगा के उसे चिकना कर दिया. और उन्होंने भाभी की गांड के निचे एक तकिया भी लगा दिया. तकिये की वजह से चूत ऊपर को उठी और थोड़ी खुल गई.

अब नविन भैया ने होंठो से होंठो को मिला दिए और अपने लोडे को भाभी की थोड़ी खुली हुई चूत पर लगा के एक धक्का मारा. धक्के की वजह से भाभी चीख पड़ी लेकिन भैया ये जानते थे इसलिए पहले से ही उन्होंने भाभी के होंठो को अपने होंठो से लोक कर रखा था.

भाभी जी की चूत सच में बड़ी टाईट थी और लंड अंदर घुसा नहीं लेकिन घुसेड़ा गया था. भाभी के दर्द को देख के भैया ने जल्दबाजी नहीं की. वो कुछ देर आधे लंड को ऐसे ही चूत में घुसा रहने दे के पड़े रहे. भाभी को दर्द खूब हो रहा था और वो तडप उठी थी. और फिर भैया ने भाभी को किस कर के उसके बूब्स दबा के और प्यार भरी बातें कर के गरम कर दिया. और भाभी जब हॉट हुई तो उसका दर्द कम हुआ और वो लंड को पूरा लेने के लिए अपनी गांड को हिलाने लगी थी. और भैया ने भी सही मौका देख के अपने लंड को पूरा भाभी की चूत में पेल दिया. वो अब जोर जोर के धक्के देने लगे थे भाभी को. दोनों की गर्म गर्म सिस्कारियां माहोल को और भी रंगीन बना रही थी. और कुछ देर की चुदाई के बाद भैया और भाभी साथ में ही झड़ गए. अन्तर्वासना पोर्न स्टोरीज डॉट कॉम

नविन भैया ने अपने सब वीर्य को भाभी की कुंवारी चूत में ही छोड़ दिया जिसके अंदर से खून भी निकला था. और वो दोनों एक दुसरे को गले लगा के प्यार भरी बातें करते हुए बिस्तर में पड़ गए.

पूरी क्लिप में मैंने देखा की भाभी की सुहागरात में तिन बार चुदाई हुई थी. अलग अलग पोज में भैया ने अपनी नयी नवेली दुल्हन के साथ खूब एन्जॉय किया. मैं आज भी कभी कभी भैया और भाभी के सुहागरात के काण्ड की क्लिप को देख के अपने लंड को हिलाता हूँ!

loading...