loading...

“मौसा की लड़की की चुदवाने की जिग्यासा”

Antarvasna sex stories, desi kahani, hindi sex stories, chudai ki kahani,

हेल्लो दोस्तों! मौसा की लड़की की चुदवानें की जिग्यासा | आइये कहानी में जानते हैं। दोस्तो! मेरा नाम अमित है|लुधियाना में रहता हूँ… मेरी उम्र अभी 20 साल है| मैं आपको अपनी पहली और सच्ची कहानी सुनानें जा रहा हूँ|

यह कहानी है 2 साल पहले की| जब मेरी खाला(अम्मी की बहन) की लड़की सोनम मुझे पहली बार मेरे मामूजान के लड़के के निकाह में मिली थी| वो मेरी हम उम्र ही थी! कुछ माह ही बड़ी थी वो मुझसे!
गोरी! भरे बदन की मेरी बहन नें अपनी बड़ी बड़ी आँखों में उसनें काजल लगाया हुआ था! गुलाबी लिपस्टिक लगाई हुई थी! माल लग रही थी|
उस लड़की का बड़ा मन था चुदाई करवानें का| क्योंकि उसनें मुझे रात में अकेले में आकर कहा- आज रात को मैं तुम्हारे साथ सोऊँगी|

जैसे ही उसनें ये कहा| तो मैं अचानक से चौंक गया कि ये क्या कहना चाहती है|
मैंनें कहा- क्या मतलब?
उसनें कहा- मुझे अपनें साथ सुलाओगे?
तो मैंनें उसके कूल्हों पर हाथ फ़ेरते हुए कहा- हाँ सोनम यार! तू मेरे साथ ही सोना !
कह कर मैंनें उसके चुतड़ों को जोर से मसल दिया लेकिन तभी किसी के आनें की आहट पाकर मैं उससे अलग हो गया|
यह कहानी आप अन्तर्वासना पोर्न स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !

मैं मन ही मन बड़ा खुश हुआ| लेकिन पूरी फैमिली और रिश्तेदार होनें की वजह से मैं उसे चोद नहीं पाया|

लेकिन 3 महीनें के बाद वो हमारे घर रहनें के लिए आई| जब मुझे इस बात का पता चला| तो मैं बहुत खुश हुआ! इतना खुश हुआ कि उसी टाइम उसके नाम की मुट्ठी भी मारी मैंनें|
जिस टाइम वो हमारे घर आई थी| उसी टाइम मैंनें उसके अकेले में लाकर कहा- आज तो तुम्हारी चुदाई पक्की है|
उसनें कहा- मैं भी चुदनें के लिए रेडी हूँ|

जैसे ही रात हुई| तो घर वाले सब सो गए थे| मैंनें उसके फोन पर एसएमएस किया- आ जाओ| मैं अकेले ही लेटा हूँ अपनें रूम में|
उसका रिप्लाई आया- एक मिनट में अभी आती हूँ|
उसनें दरवाजा खटखटाया| मैंनें कहा अन्दर आ जाओ| दरवाजा खुला है|

loading...

उसनें सलवार सूट पहना हुआ था उसके अन्दर आते ही सबसे पहले दरवाजा बंद करके| उसकी जबरदस्त चुम्मी की| लगभग 15 मिनट तक उसे चूमता ही रहा! फिर उसके मम्मों को काफ़ी देर तक दबाया| फिर मैंनें उसकी शर्ट उतारा! उसनें अन्दर गुलाबी ब्रा पहनी हुई थी! मैंनें जल्दी से उसकी ब्रा हटा कर उसकी मोटी-मोटी चूचियों को पहले हाथों से मसला फ़िर एक आम को बेदर्दी से चूसनें लगा और दूसरी चूची को ज़ोर-ज़ोर से मसकनें लगा|

वो भी मस्ती में आकर अपनें मम्मों को मिंजवा रही थी|

उसके बाद मैंनें सलवार को उतारा| उस साली की चुदास इतनी अधिक थी कि उसनें अन्दर अपनी पैन्टी नहीं पहनी थी| उसकी चुत पर कोई बाल नहीं था| एकदम साफ़ शेविंग की हुई चुत थी|
मैंनें उसकी चुत में एक उंगली डाली| तो उसकी चुत एकदम टाइट थी| मैंनें उसकी चुत से उंगली बाहर निकाली और उसकी चुत को चाटना शुरू कर दिया|

उसके मुँह से आवाज़ आ रही थी- आअहह| उउऊहह| और वो कहनें लगी- भाईजान… अब और बर्दाश्त नहीं हो रहा है| अब अपना लंड मेरी चुत में डाल भी दो|
फिर मैंनें अपनें सारे कपड़े उतार दिए और अपना 6 इंच का लंड उसकी चुत पर रखा और पेल दिया|
उसके मुँह से एक चीख निकली- आऐयय ईइईए| मर गई रे| बहुत दर्द हो रहा है|

मैंनें जल्दी से लंड बाहर निकाल लिया और उसे समझाया- कुछ नहीं होगा| थोड़ी देर में तुम्हें भी मज़ा आनें लगेगा|
वो बोली- अबकी बार अपना लंड थोड़ा आराम से डालना|

मैंनें उसके होंठों से अपनें होंठ लगाए और अपना लंड उसकी चुत में आराम से डाला| उसनें थोड़ी हरकत की| लेकिन मैंनें अभी उसे नहीं छोड़ा| और धीरे-धीरे उसकी चुत में अपना लंड घुसड़ेना शुरू कर दिया|
वो दर्द से चीख रही थी| लेकिन उसके मुँह से मैंनें अपना मुँह नहीं हटाया था|
फिर एक जोरदार धक्का मारा और पूरा लंड उसकी चुत में जड़ तक पेल दिया| मैंनें उसकी चुत की सील को फाड़ डाला और धीरे-धीरे धक्के मारनें लगा|

कुछ देर उसके चूचों को सहलाया तब उसका दर्द भी कम हो गया था और वो भी मेरा साथ देनें लगी| देर तक उसको दबा कर चोदनें के बाद जब मैं झड़नें वाला था| तो मैंनें जल्दी से अपना लंड बाहर निकाल कर उसके आमों के ऊपर ही झाड़ दिया|
कुछ देर हम दोनों मजे से लेते रहे एक-दूसरे को प्यार से चूमते रहे|

उसके बाद वो अपनें कमरे में सोनें चली गई|

loading...