loading...

“मैंने अपने बुआ को माँ बनने का सुख दिया”

Antarvasna sex stories, desi kahani, hindi sex stories, chudai ki kahani, sex kahani

हाय दोस्तो.. कैसे हैं आप सब.. उम्मीद करता हूँ आप सब ठीक होंगे|

मेरा नाम मनदीप सिंह है.. और मैं पंजाब के मकदूमपुर का रहनें वाला हूँ, मेरी उम्र 25 साल है.. हाईट 5 फुट 7 इंच है.. लंड का साइज भी मस्त है| गाँव में रहनें और कसरत करनें से मेरा बदन लड़कियों को बहुत पसंद आता है| मैं शादीशुदा हूँ|
अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज पर यह मेरी पहली कहानी है|
बुआ की देवरानी सेक्सी देसी गर्ल
यह कहानी मेरी ओर मेरी बुआ की देवरानी की है.. जिसे मैंनें चोद कर औलाद का सुख दिया| उसका नाम मोनिका कौर है.. उम्र लगभग 21 साल, कद 5 फुट 3 इंच है.. रंग गोरा है, वो एक घरेलू औरत होनें के कारण थोड़ी मोटी सी थी.. पर दिखनें में आकर्षक माल है|

बात अभी छः महीनें पहले की है.. जब मैंनें उसको चोदा था.. मगर कहानी मैं आपको पीछे से सुनाता हूँ|
मोनिका की शादी को 5 साल हो गए थे.. पर उसको बच्चा नहीं हो रहा था| उसके पति में कोई कमज़ोरी थी, जिसका पता मुझे अपनी बुआ से उस वक्त लगा.. जब वो मेरी मम्मी को इसके बारे में बता रही थीं|
मैं उस पर लट्टू तो बहुत पहले से था और अब तो मुझे बहाना भी मिल गया था| पर मेरी मुश्किल यह थी कि मैं खेतीबाड़ी का काम होनें के कारण लगभग 4 साल से बुआ के पास नहीं गया था|
कुछ दिन तक मैं इसके बारे में सोचता रहा कि उससे कैसे बात शुरू करूँ|
मैंनें एक तरकीब ढूंढी
आख़िर एक दिन दिमाग़ नें एक तरीका ढूँढ ही लिया, मैंनें बुआ के मोबाइल से उसका नंबर ले लिया और अगले दिन उसको फोन किया|

फोन उसनें ही उठाया और मैंनें जानबूझ कर अपनें ही शहर का नाम लिया|
उसनें ‘ग़लत नम्बर लगा है..’ कह कर फोन काट दिया|

मेरा निशाना सही लगा.. अगले दिन मैंनें फिर दूसरे नंबर से फोन किया तो फिर अपनें शहर का नाम लिया और कहा:- मुझे संदीप से बात करनी है|
वो बोली:- कौन संदीप?

मैंनें कहा:- मकदूमपुर वाला संदीप|

तो उसनें कहा:- यहाँ कोई संदीप नहीं है.. पर मकदूमपुर में हमारा एक रिश्तेदार है जिसका नाम संदीप है|
मैंनें हैरानी जताते हुए कहा:- अच्छा.. यह कैसे हो सकता है.. और आप कौन हैं?

उसनें कहा:- मैं उसकी बुआ लगती हूँ.. लेकिन आप कौन हो और यह नंबर कैसे लग गया?
मैं बोला:- मैं संदीप का दोस्त हूँ और मैंनें संदीप को फोन लगाया था.. पर आपको लग गया.. सॉरी|

मैंनें फोन काट दिया|
अगले दिन मैंनें अपनें असली नंबर से फोन किया तो उसनें उठाया तो मैंनें कहा:- आप कहाँ से बोल रही हैं?

उसनें कहा:- तुम कौन हो?

तो मैंनें कहा:- मैं संदीप हूँ मकदूमपुर से.. मैंनें अपनें दोस्त के नंबर पर फोन किया है, ये आपको कैसे लग गया?

उसनें मुझे पहचान लिया.. जो मैं चाहता था|
तो उसनें कहा:- मैं मोनिका हूँ.. तुम्हारी बुआ की देवरानी!
मैंनें जानबूझ कर हैरानी जताते हुए कहा:- यह कैसे हो सकता है? मैंनें फोन तो अपनें दोस्त के नंबर पर लगाया है|

मैंनें ‘सॉरी’ बोल दिया..

तो उसनें कहा:- इत्तफाक से ही सही.. तुमनें इसी बहानें फोन तो किया|
मैंनें कहा:- ऐसी बात नहीं है.. मेरे पास आपका नंबर नहीं था|

उसनें कहा:- चल अब तो है|

तो मैंनें कहा:- नहीं है.. अब भी यह मैंनें अपनें नंबर पर लगाया है|
उसनें मुझे अपना नंबर दे दिया| इस तरह उससे बात करनें की मेरी स्कीम कामयाब रही|

उसके बाद मैंनें फोन काट दिया|
कुछ दिन बाद मैंनें दोबारा फोन किया तो उसनें ही उठाया, उस दिन वो मेले में थी.. तो ठीक तरह बात नहीं हो रही थी|

loading...

मैंनें कहा:- ठीक है.. शाम को मुझे फोन करना.. मुझे आपसे ज़रूरी बात करनी है|

उसनें कहा:- ठीक है|
शाम के 5 बजे उसका फोन आया तो वो बोली:- हाँ बोलो.. क्या बात करनी थी?

एक बार तो मैं डर गया कि अगर दांव उल्टा पड़ गया तो बहुत बदनामी होगी, मैंनें कहा:- पहले आप बताओ अगर मेरी बात अच्छी नहीं लगी तो इस बात को यहीं ख़तम कर दोगी या नाराजी में कुछ और कर दोगी?
वो बोली:- ऐसी क्या बात करनी है जिससे मुझे बुरा लग जाएगा.. पर तब भी तू समझ ले कि मैं मान गई हूँ|

मैंनें उससे कहा:- मुझे आपसे दोस्ती करनी है.. मैं आपको चाहता हूँ|

वो एक बार तो चुप हो गई और बाद में बोली:- मैं सोच कर बताऊँगी|
मुझे कुछ हिम्मत आई कि अब बात बन जाएगी|

अगले दिन उसनें मुझसे कहा:- मैंनें सारी रात सोचा और मुझे भी आप अच्छे लगते हैं|

मेरी खुशी का कोई ठिकाना ना रहा|
उसके बाद हमारी रोज फोन पर बात होनें लगीं, वो अपनी हर बात मुझसे शेयर करनें लगी|
गांव का देसी माल चुदनें को तैयार
एक दिन उसनें मुझे बताया:- मुझको बच्चे बहुत प्यारे लगते हैं, मुझे भी बच्चा चाहिए|

मैंनें कहा:- मैं तुमको माँ बननें का सुख दे सकता हूँ|

वो बोली:- वो दिन कब आएगा?

मैंनें कहा:- बस तुम्हारी बात जान ली तो समझो जल्दी ही मैं तेरे पास होऊँगा|
किस्मत से कुछ दिनों बाद मेरी बुआ का फोन आया कि उसनें एक पार्टी रखी है आप सबको आना है|
इसके बाद बुआ नें मुझे खास फोन करके कहा:- संदीप तुमको 2 दिन पहले आकर सारा काम देखना है|

मैंनें जल्दी से ‘हाँ’ कर दी|
फिर मैंनें फोन करके मोनिका को कहा:- अपना काम पार्टी में बन सकता है|

उसनें कहा:- मैं इसका कोई इंतज़ाम करूँगी|
पार्टी से 2 दिन पहले ही मैं वहाँ चला गया, वहाँ मुझे मोनिका भी मिली मगर सबके सामनें बुआ की तरह मिली, वो बहुत खुश थी| अभी कोई नहीं आया था, वहाँ पर मैं मेरी बुआ का 12 साल का लड़का और मोनिका का पति ही था|
मुझे वहाँ मोनिका की चुदाई के अलावा और कोई खास काम नहीं करना था|
अगले दिन मोनिका का पति पार्टी का सामान लानें के लिए बाजार चला गया, घर में मैं मेरी बुआ और मोनिका ही थे|

मोनिका नें सरदर्द का बहाना बना कर अपना सर पकड़ लिया|
तो बुआ नें कहा:- जाओ और इसको साथ ले जाओ और किसी मेडिकल स्टोर से दवाई ले आओ|

मैं आपको बता दूँ कि मोनिका का घर बुआ के घर से अलग है और वो खेतों में बनें घर में रहती है| मेरे फूफा आर्मी में है|
मैंनें उसको बाइक पर बैठाया और जल्दी से उनके दूसरे घर में पहुँच गए, हमारे पास 3 घंटे का टाइम था|
अन्दर जाते ही हमनें घर लॉक किया और मोनिका मुझसे लिपट गई और लंबी:-लंबी साँसें भरनें लगी| मैंनें उसको अलग करनें की कोशिश की.. तो वो बोली:- मुझको तेरे सीनें की गर्मी लेनी है|
करीब 5 मिनट बाद मैंनें उसको अलग किया तो उसकी आँखों में आंसू थे, उसनें कहा:- किसी नें उसको अभी तक समझा ही नहीं.. तुमनें अपनें प्यार का इज़हार करके मेरे जीवन में बाहर ला दी है| अब बस मेरी प्यास बुझा दो और मुझे अपनें बच्चे की माँ बना दो|
आप यह कहानी अन्तर्वासना पोर्न स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं|
उसको कंधों से पकड़ कर मैंनें बिस्तर पर लिटा दिया और उसको किस करना शुरू किया| वो भी नागिन की तरह मुझसे लिपटे जा रही थी|
मैंनें उसकी कमीज़ के अन्दर से हाथ डाला और उसके पेट पर हाथ फिराते हुए उसका कमीज़ ऊपर करनें लगा| अब उसकी पिंक ब्रा जो मेरा पसदीदा रंग है.. वो दिख गई|
उसनें हाथ ऊपर करके कमीज़ को उतार दिया| मैंनें उसको पकड़ कर अपनें ऊपर ले लिया और उसके पीछे हाथ ले जा कर उसकी ब्रा खोल दी|
अब मैंनें अपनें हाथों की उंगलियों से उसकी कमर को सहलाना शुरू कर दिया.. तो वो सिसकारियां लेनें लगी और मेरी गर्दन में अपना सर गड़ानें लगी|

मैंनें उसको अपनें नीचे ले लिया और उसके माथे पर एक छोटी सी किस की.. जिससे वो पूरी तरह हिल गई|

उसके बाद मैंनें उसके आँखों.. कानों.. गर्दन.. चेहरे.. कंधों.. पर चुम्बनों की बारिश कर दी|
वो मस्ती में मेरी कमर पर अपनें नाख़ून गड़ानें लगी| मैंनें धीरे:-धीरे नीचे की ओर आना शुरू किया और उसके मम्मों की घाटी में अपनी जीभ फिराते हुए पेट पर पहुँच गया| मेरी हर किस से वो कमर उठा लेती|
उसके पेट पर चूमते हुए मैंनें दोनों हाथों से उसके मम्मों को पकड़ लिए| वो मेरा सर पकड़ कर पेट पर दबानें लगी और ज़ोर:-ज़ोर से सिसकारनें लगी|
अब मैंनें उसकी सलवार का नाड़ा खोला और पैन्टी भी साथ ही उतार दी और जाँघों को किस किया.. तो उसनें अपनी टाँगें मरोड़ लीं और मुझे अपनें नीचे लेकर मेरे कपड़े उतार दिए|
वो बालों से भरे मेरे सीनें पर सिर रख कर लेट गई और बोली:- अब मैं माँ बननें को तैयार हूँ|

यह कहते हुए उसनें मेरे लंड को हाथों में ले लिया और सहलानें लगी|
मेरा लंड तन गया तो वो उठी और अपनें हाथों से मेरे लंड को अपनी गीली चूत पर सैट करते हुए बैठ गई| उम्म्ह… अहह… हय… याह… एक मिनट में मेरा पूरा लंड उसकी चूत के अन्दर था, उसके चेहरे पर बड़े संतोष के भाव थे और आँखें बंद थीं|
फिर उसनें मेरे लंड पर अपनी चूत को रगड़ते हुए ऊपर:-नीचे होना शुरू किया, मुझे बहुत मजा आ रहा था|
कुछ ही मिनट बाद वो थक गई और बोली:- अब तुम ऊपर आओ|
मैंनें उसको नीचे लेटा दिया और खुद उसके ऊपर आ गया, मैंनें अपना पूरा लंड एक ही झटके में उसकी चूत में पेल दिया|
लगातार कई मिनट की चुदाई के दौरान वो दो बार झड़ी और अंत में मैंनें अपना लावा उसकी चूत के अन्दर डाल दिया|

उसनें मुझे कस के पकड़ लिया और इस पल का आनन्द लेनें लगी|
कुछ मिनट बाद हम दोनों उठे और अपनें आपको साफ करके अपनें:-अपनें कपड़े पहन लिए|
उस पार्टी के दिनों में मैंनें उसको 3 बार चोदा|
इस टाइम वो 5:-6 महीनें की गर्भवती है.. और बहुत खुश है, उसके साथ में उसका परिवार भी बहुत खुश है|

loading...