loading...

“मैंने अपनी चाचा की कुँवारी बेटी की चुदाई की”

हेल्लो। फ्रेंड्स। मेरा नाम आकाश है। मै सरकारी नौकरी करता हूँ| मै आपको पहले भी बता चुका हूँ कि मेरी सभी कहानियाँ काल्पनिक हैं जिनका किसी से भी कोई सम्बन्ध नहीं है अगर होता भी है तो यह मात्र एक संयोग ही होगा|
मै डेढ़ महीनें से ज्यादा गाँव में रहा और सिला भाभी जी के साथ काफी मजा किया| मेरी छुट्टियाँ समाप्त हो गई थी इसलिए मै वापस अपनें घर आ गया|

मै घर आया तब तक मेरे भैया छुट्टियाँ समाप्त करके अपनी ड्यूटी पर जा चुके थे इसलिये अब मै अपनी पायल भाभी जी के साथ उनके कमरे में सोनें लगा और मेरे और भाभी जी के शारीरिक सम्बन्ध बननें फिर से चालू हो गये|

मुझे गाँव से आये हुए अभी दस दिन ही हुए थे कि एक दिन शाम को जब मै क्रिकेट खेलकर घर आया तो देखा कि ड्राईंगरूम में महेन्द्र चाचाजी बैठे हुए थे| उनको देखकर मै थोड़ा सा डर गया कि कहीं उनको मेरे और सिला भाभी जी के बारे में पता तो नहीं चल गया और वो उसी की शिकायत करनें के लिये यहाँ आये हों?
खैर मै उनके चरण स्पर्श करके सीधा अन्दर चला गया और जब अन्दर गया तो देखा की जिया (महेन्द्र चाचा की बेटी) भी आई हुई थी। बाद में मुझे पता चला कि जिया को नौकरी के लिये कोई एग्जाम देनी है। उसी के लिये महेन्द्र चाचाजी जिया को शहर लेकर आये हैं|
जिया की एग्जाम अगले दिन थी इसलिये वो दोनों उस रात हमारे घर पर ही रहे| अगले दिन एग्जाम के बाद वो जाना चाहते थे मगर मेरे मम्मी पापा जिया को हमारे घर कुछ दिन रुकनें के लिये कहनें लगे|
वैसे तो जिया की छुट्टियाँ ही चल रही थी मगर वो अपनें कपड़े लेकर नहीं आई थी इसलिए वो मना करनें लगी|

इसके लिये मेरी मम्मी नें उनहें पायल भाभी जी के कपड़े पहननें के लिये बताया और आखिरकार जिया रुकनें के लिये मान गई| जिया को हमारे घर पर ही छोड़कर महेन्द्र चाचाजी वापस गाँव चले गये|
जिया के रूकनें से मेरे मम्मी पापा तो खुश थे मगर इसका खामियाजा मुझे भुगतना पड़ा क्योंकि जिया मेरी भाभी जी के साथ उनके कमरे में सोनें लगी और मुझे फिर से ड्राईंगरूम में बिस्तर लगाना पड़ा जिससे मेरे और मेरी भाभी जी के शारीरिक सम्बन्ध होनें बन्द हो गये। हमारे सम्बन्ध बस चूमनें चाटनें और लिपटनें तक ही सीमित होकर रह गये थे। और वो भी तभी होता जब भाभी जी रात को घर का मुख्य दरवाजा बन्द करनें के लिये ड्राईंगरूम से होकर आती जाती थी|
हमारे घर का मुख्य दरवाजा मेरी भाभी जी ही खोलती और बन्द करती थी क्योंकि रात को भाभी जी ही घर के काम निपटा कर सबसे आखिर में सोती और सुबह जब दूधवाला आता तो भाभी जी ही दूध लेनें के लिये सबसे पहले उठकर दरवाजा खोलती थी। इसके लिये उन्हें ड्राईंगरूम से होकर गुजरना पड़ता था|

मै उन्हें कभी कभी वहीं पर पकड़ लेता था मगर अब तो भाभी जी उसके लिये भी मना करनें लगी क्योंकि एक बार जब मै भाभी जी को ड्राईंगरूम में पकड़ कर चूम रहा था तो अचानक से जिया आ गई। उसनें हमे देख लिया था| इसके बारे में जिया नें किसी से कुछ कहा तो नहीं मगर उसको हमारे सम्बन्धों का शक हो गया था इसलिये वो अब हम दोनों पर नजर रखनें लगी। मगर वो जाहिर ऐसा करती जैसे कि उसे कुछ पता ही नहीं हो|
मुझे जिया से चिढ़ सी होनें लगी थी। मै सोचता रहता कि आखिर यह कब हमारे घर से जायेगी और इसी तरह हफ्ता भर गुजर गया|
एक बार रात में बिजली नहीं थी क्योंकि शाम को काफी जोरो से आँधी और बारिश होनें के कारण लगभग पूरे शहर की ही बिजली गुल थी| बिजली नहीं होनें के कारण सभी नें जल्दी ही खाना खा लिया| मेरे मम्मी पापा तो खाना खाते ही सो गये और मेरी भाभी जी और जिया घर के काम निपटानें लगी|
बिजली के बिना पूरे घर में अन्धेरा था। बस मोमबत्ती की रोशनी से ही काम चल रहा था। मै मोमबत्ती की रोशनी में पढ़ाई तो कर नहीं सकता था। इसलिये खाना खानें के बाद ऐसे ही ड्राईंगरूम में लेट रहा था और भाभी जी के बारे में ही सोच रहा था|
तभी ड्राईंगरूम के अन्दर कोई आया और बाहर की तरफ चला गया| ड्राईंगरूम में इतना अन्धेरा था कि कुछ दिखाई नहीं दे रहा था बस दोनों तरफ के दरवाजे ही बाहर से आनें वाली थोड़ी सी रोशनी की वजह से अन्धेरे में दिख रहे थे|
मै समझ गया कि भाभी जी घर का मुख्य दरवाजा बन्द करनें के लिये गई हैं। तभी मेरे शैतानी दिमाग में एक योजना आई। मै सोचनें लगा कि आज चारों तरफ अन्धेरा है और ड्राईंगरूम में तो कुछ भी दिखाई देना मुश्किल है इसलिये क्यों ना आज अन्धेरे का फायदा उठा लिया जाये|
वैसे भी मुझे भाभी जी के साथ सम्बन्ध बनाये हफ्ता भर हो गया था इसलिये मेरी हवश भी काफी जोर मार रही थी| इस मौके का फायदा उठानें की सोचकर मै तुरन्त बिस्तर से उठकर खड़ा हो गया और भाभी जी के वापस आनें का इन्तजार करनें लगा|
जैसे ही भाभी जी घर का मुख्य दरवाजा बन्द करके ड्राईंगरूम से होकर वापस जानें लगी। मेनें उन्हें पकड़ लिया और उनकी गर्दन और गालों पर चुम्बनों की झड़ी लगा दी|

अन्धेरे में अचानक हमले से भाभी जी सकपका गई और जब तक वो कुछ समझ सकें तब तक मेनें उनके दोनों होंठों को अपनें मुँह की गिरफ्त में ले लिया ‘उम्म्ह,, अहह,, हय,, याह,,’ मजा आ गया|
भाभी जी नें अपनें होंठों को छुड़ानें की भी कोशिश की मगर मेनें एक हाथ से उनकी गर्दन को पकड़ लिया और उनके होंठों को जोर से चूसनें लगा|

भाभी जी काफी डर रही थी। वो मेरा विरोध तो नहीं कर रही थी मगर काफी कसमसा रही थी|
भाभी जी के होंठों को चूसते हुए ही मेनें अपना दूसरा हाथ उनके शर्ट के अन्दर भी डाल दिया और उनके पेट को सहलाते हुए धीरे धीरे उरोजों की तरफ बढ़नें लगा जिससे उनका पूरा बदन कांपनें लगा। पता नहीं उन्हें ये कंपकपी डर के कारण हो रही थी या फ़िर उत्तेजना के कारण। मै कुछ समझ नहीं पा रहा था,,
भाभी जी नें मेरे हाथ को रोकनें के लिये पकड़ना भी चाहा मगर तब तक मेरा हाथ उनके उरोजों तक पहुँच गया था| शर्ट के नीचे भाभी जी नें ब्रा पहन रखी थी इसलिये मै ब्रा के उपर से ही उनके उरोजों को मसलनें लगा मगर आज उनके उरोज मुझे कुछ छोटे और काफी कसे हुए से महसूस हुए|
और फिर तभी मेरे दिमाग में एक सवाल सा कौन्ध गया,,कही यह जिया तो नहीं?

यह हिंदी सेक्स स्टोरी आप अन्तर्वासना पोर्न स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!
क्योंकि आज मुझे भाभी जी का व्यवहार भी कुछ अजीब ही लग रहा था। पहले जब कभी मै भाभी जी को चुम्बन करता था तो वो हमेशा मेरा साथ देती थी मगर आज वो साथ देनें की बजाय कसमसा रही थी और काफी घबरा भी रही थी|
यह बात मेरे दिमाग में आते ही मेरा हाथ जहाँ था वहीं का वहीं रूक गया और मै चूती तरह से घबरा गया| मेरी भाभी जी की और जिया की लम्बाई समान ही थी और उस दिन दोनों नें ही सलवार सूट पहन रखा था इसलिये अन्धेरे में मै पहचान नहीं सका कि ये मेरी भाभी जी है या जिया?
मेनें गलती से आज जिया को पकड़ लिया था| जिया भी डर और शर्म के कारण कुछ बोल नहीं रही थी| शायद वो इस वजह से शर्मा रही थी कि अगर वो कुछ कहेगी तो मै ये जान जाऊँगा कि उसे मेरे और मेरी भाभी जी के सम्बन्धों के बारे में पता है और उस दिन उसनें मुझे और भाभी जी को देख लिया था। ऊपर से जिया बहुत डरपोक भी थी|
अब तो मुझे पता चल गया था कि ये पायल भाभी जी नहीं है बल्लि जिया है मगर फिर भी मेनें जिया को छोड़ा नहीं और उसे वैसे ही पकड़े रखा। क्योंकि इतना सब करनें के बाद मै अब अगर जिया को छोड़ देता हूँ तो वो भी समझ जायेगी कि मेनें उसे क्यों छोड़ दिया। अब जिया के जैसी स्थिति में ही मै भी फँस गया था!
मेरे दिमाग में अब एक साथ काफी सवाल चल रहे थे|

जिया को छोड़ दूँ या फिर पकड़े रहूँ? यह मालूम होनें के बाद कि ये जिया है और डर और शर्म के कारण कुछ बोल नहीं रही है तो ना जानें क्यों मुझे बहुत रोमाँचित सा भी लग रहा था और रह रह कर जिया के प्रति मेरी वासना भी जोर मार रही थी|
मेरे दिमाग में एक साथ अनेंक विचारों का भूचाल सा मच रहा था। मै सोच रहा था कि अगर जिया डर और शर्म की वजह से कुछ बोल नहीं रही है तो क्यों ना मै भी इसका फायदा उठा लूँ!
आखिरकार वासना मेरे विचारों पर भारी पड़नें लगी और अपनें आप ही मेरे हाथों की पकड़ जिया के उरोजों पर फिर से कसती चली गई|
मै जिया के होंठों को कसकर चूसनें लगा और साथ ही धीरे धीरे उरोजों को भी मसलता रहा जिसका वो विरोध तो नहीं कर रही थी मगर अब भी कसमसाये जा रही थी|
कुछ देर उरोजों को दबानें के बाद मेनें अपना हाथ जिया के शर्ट से बाहर निकालकर धीरे से उसकी जाँघों की तरफ बढ़ा दिया और सलवार के ऊपर से ही एक बार उसकी चूत को मसल दिया जिससे जिया चिहुँक पड़ी। उसनें मेरे हाथ को वहाँ से हटाकर अपनी दोनों जाँघो को भींच लिया|
तभी बाहर किसी की आहट सी सुनाई दी। शायद ये मेरी भाभी जी थी| अब जिया भी मुझसे छुटानें का जोरों से प्रयास करनें लगी इसलिये मै उसे छोड़ कर अलग हो गया। मै नहीं चाहता था कि जिया को पता चले कि मै उनके साथ ये सब जानबूझ कर कर रहा था| मुझसे छुटते ही जिया जल्दी से ड्राईंगरूम से बाहर चली गई|
जिया तो जा चुकी थी मगर मेरे अन्दर हवस का एक तूफान सा उमड़ रहा था इसलिये उस रात मेनें दो बार हस्तमैथुन किया तब जाकर मुझे नींद आ सकी|
अगले दिन सुबह मै बिना नाश्ता किये जल्दी ही स्कूल चला गया इसलिये घर में मेरी किसी से भी बात नहीं हुई मगर दोपहर को जब मै स्कूल से आया तो मेरे दिल में हल्का सा डर था। कहीं जिया नें रात वाली बात किसी को बता ना दी हो?

मगर ऐसा कुछ नहीं हुआ। सब कुछ सामान्य ही रहा और जिया का व्यवहार तो ऐसा था जैसे कल रात के बारे में उसे कुछ पता ही नहीं|
इसी तरह तीन दिन गुजर गये जो बिल्कुल सामान्य ही रहे मगर पता नहीं क्यों जिया के प्रति मेरी सोच को क्या होता जा रहा था। अब वो मुझे बहुत खूबसूरत लगनें लगी थी|

जिया को गाँव से आये हुए अभी एक हफ्ता ही हुआ था और हफ्ते भर में ही जिया का रंग रूप काफी निखर गया था। ऊपर से वो मेरी भाभी जी के सलवार सूट पहनती थी जो उस पर इतनें खिलते थे उनको देखकर कोई कह ही नहीं सकता कि यह गाँव की वही सामान्य सी दिखनें वाली लड़की है|
बिल्कुल गोल चेहरा। बड़ी बड़ी भूरी आँखें। पतले और सुर्ख गुलाबी होंठ। लम्बी सुराहीदार गर्दन। हाँ उनका वक्षस्थल मेरी भाभी जी के मुकाबले में कुछ छोटा था मगर उसमें काफी कटाव और कसाव था। लम्बा कद। बिल्कुल पतली सी कमर और उसके नीचे भरे हुए माँसल गुदाज नितम्ब और जाँघें!
उस समय भी जिया के शरीर का कटाव किसी फिल्मी अभिनेंत्री से कम नहीं था बस कुछ समय की ही दरकार थी| अभी तक मेनें जिया को कभी ऐसे नहीं देखा था| जिया सही में इतनी खूबसूरत हो गई थी। या फिर पता नहीं उस रात के बाद मुझे ही ऐसा लगनें लगा था|
जिया के परिवार और हमारे परिवार के बीच काफी करीबी सम्बन्ध थे। उसके पापा को मै चाचा ही मानता था मगर फिर भी पता नहीं क्यों मै जिया के प्रति आसक्त सा होता जा रहा था और दिल ही दिल में उसको हासिल करनें कल्पना करनें लगा था|
मेनें अपनें आप को समझानें की काफी कोशिश भी की मगर जब मुझसे रहा नहीं गया तो आखिरकार मेनें जिया को पानें के लिये एक योजना बना ली और इसके लिये सबसे पहले तो मेनें अपनी भाभी जी को सारी बात बता दी|
मेरी बात सुन कर पहले तो भाभी जी गुस्सा हुई मगर फिर मान गई और मेरा साथ देनें के लिये भी तैयार हो गई|
1 सप्ताह के भीतर 5 सेंटीमीटर पर मानव लिंग बढ़ानें का एक गारंटी तरीका होता है!

1 सप्ताह के भीतर 5 सेंटीमीटर पर मानव लिंग बढ़ानें का एक गारंटी तरीका होता है!

सिर्फ 14 दिनों में मेरा लिंग काफी बड़ा हो गया!

सिर्फ 14 दिनों में मेरा लिंग काफी बड़ा हो गया!

1 सप्ताह के भीतर 5 सेंटीमीटर पर मानव लिंग बढ़ानें का एक गारंटी तरीका होता है!

loading...

1 सप्ताह के भीतर 5 सेंटीमीटर पर मानव लिंग बढ़ानें का एक गारंटी तरीका होता है!

ad from ADXXX

करीब दो दिन बाद ही मुझे मौका मिल गया। उस दिन हल्की सी बारिश होनें के कारण मौसम थोड़ा सा खराब था इसलिये शाम को मौका देखकर मेनें शार्ट-सर्किट का बहाना करके जान बूझ कर हमारे घर की बिजली खराब कर दी जिससे हमारे पूरे घर में अन्धेरा हो गया|
मै उस दिन की तरह ही अन्धेरे का फायदा उठाना चाहता था और इसके लिये मेनें अपनी योजना पहले ही भाभी जी को बता दी थी|

बिजली ना होनें के कारण रात को सभी नें जल्दी खाना खा लिया और सोनें की तैयारी करनें लगे| मेरे मम्मी पापा तो खाना खाते ही अपनें कमरे में जाकर सो गये और मै ड्राईंगरूम में आ गया|
अब बर्तन साफ करना और बचे हुए काम मेरी भाभी जी और जिया को करनें थे|

मेरी योजना के अनुसार भाभी जी नें पहले ही तबियत खराब होनें का बहाना बना लिया और बचे हुए काम जिया को खत्म करनें के लिये बोल कर अपनें कमरे में जाकर सो गई|
जिया नें करीब आधे घण्टे में ही सारे काम निपटा लिये और अब बस उसे घर का मुख्य दरवाजा बन्द करनें के लिये आना था। मगर जिया शायद दरवाजा बन्द करनें के लिये आना नहीं चाहती थी क्योंकि काम खत्म होनें के बाद भी काफी देर तक वो रसोईघर में ही खड़ी रही। वो असमन्जस में थी कि दरवाजा बन्द करनें के लिये जाये या ना जाये!
इसके लिये वो अब भाभी जी को बता भी नहीं सकती थी। आखिर वो करे तो क्या करे?
कुछ देर तक तो जिया ऐसे ही रसोईघर में खड़ी रही और फिर दरवाजा बन्द करनें की बजाय सीधा भाभी जी के कमरे में चली गई। शायद आज वो दरवाजा बन्द करना ही नहीं चाहती थी। इससे तो मेरी सारी योजना विफल होनें वाली थी। मगर फ़िर भगवान नें मेरी सुन ली क्योंकि कुछ देर बाद ही मोमबत्ती जलाये हुए कोई ड्राईंगरूम की तरफ आनें लगा|
मै समझ गया कि यह जिया ही है। वो मोमबत्ती जलाकर इसलिए आ रही है ताकी मोमबत्ती की रोशनी में मै उसे पहचान लूँ और उस दिन की तरह कोई हरकत ना करूँ मगर आज तो यह सारी योजना मेरी ही बनाई हुई थी|
मै तुरन्त ड्राईंगरूम के दरवाजे के साथ चिपक गया और जैसे ही जिया नें दरवाजे में पैर रखा सबसे पहले मेनें मोमबत्ती को ही झपटा मारकर नीचे गिरा दिया|

मोमबत्ती नीचे गीरते ही बुझ गई और बिल्कुल अन्धेरा हो गया|

अचानक हमले से जिया घबरा गई और तुरन्त वापस मुड़नें लगी मगर मेनें उन्हें पकड़ कर ड्राईंगरूम के अन्दर खींच लिया और वो कुछ बोले उससे पहले ही उनके होंठों को अपनें मुँह में भरकर बन्द कर दिया| अब जिया के दोनों होंठ मेरे मुँह में थे इसलिये वो कुछ बोल तो नहीं सकती थी मगर कसमसाते हुए पीछे की तरफ हटनें लगी|
मेनें भी उसे छोड़ा नहीं और उसके साथ साथ पीछे होता रहा मगर वो ज्यादा पीछे नहीं जा सकी क्योंकि थोड़ा सा पीछे होते ही दीवार आ गई इसलिये अब वो अपनें दोनों हाथों से मुझे धकेलनें लगी मगर आज मै कहाँ माननें वाला था। मेनें उसे दीवार से सटा लिया और जोरो से उसके होंठों को चूसता रहा|
जिया के होंठों को चूसते हुए ही मेनें अपना एक हाथ उसके शर्ट के अन्दर डाल दिया। नीचे उसनें ब्रा पहन रखी थी इसलिये मेनें ब्रा के ऊपर से ही उसकी चूचियों पर अपना हाथ रख दिया|

जिया के उरोजों को मै चूचियाँ इसलिये कह रहा हूँ क्योंकि वो काफी छोटी थी और मेरी भाभी जी के उरोजों के मुकाबले में तो वो चूचियाँ ही थी|
मेनें बस एक बार उन्हें हल्का सा सहलाकर ब्रा के किनारे को पकड़ लिया और आहिस्ता आहिस्ता उसको ऊपर खींचते हुए उसकी दोनों चूचियों को शर्ट के अन्दर ही ब्रा की कैद से आजाद कर लिया|

अब उसकी दोनों नँगी चूचियाँ मेरी मुट्ठी में थी जिनको मै धीरे धीरे सहलानें लगा|
जिया की चूचियाँ मेरी भाभी जी से छोटी थी मगर भाभी जी के मुकाबले में काफी सख्त और मुलायम थी। मुझे ऐसा लग रहा था जैसे कि मेरे हाथ में रबड़ की कोई गेंद आ गई हो|
मै ऐसे ही जिया की दोनों चूचियों को मसलता रहा और ऊपर उनके होंठों को चूसते हुए अपनी ज़ुबान को भी उनके होंठों के दरम्यान में धकेलनें की कोशिश करनें लगा। मगर उसनें दाँतों को बन्द कर रखा था जिसके कारण मेरी जीभ अन्दर नहीं जा सकती थी इसलिये मै उनके होंठों को ही अन्दर से चाटनें लगा। फिर कुछ देर बाद ही आहिस्ता आहिस्ता जिया के दाँत अपनें आप थोड़ा सा अलग हुए जिससे मेरी ज़ुबान को अन्दर जानें की इजाज़त मिल गई और अगले ही पल मेरी ज़ुबान जिया की ज़ुबान से टकरानें लगी!
कुछ देर तक मै ऐसे ही जिया के होंठों और जुबान के रस को चूसता रहा और एक हाथ से उसकी दोनों चूचियों को भी गूँथता रहा जिससे जल्द ही उसकी चूचियों के छोटे छोटे दोनों निप्पल कठोर हो गये और साँसें गर्म और गहरी होनें लगी|
जिया के होंठों का जी भर कर रसपान करनें के बाद मेनें होंठों को छोड़ दिया और उसकी गर्दन पर से चूमते हुए धीरे से नीचे उसकी चूचियों पर आ गया| जिया के होंठ अब आजाद थे मगर फिर भी डर के कारण वो कुछ बोल नहीं रही थी बस उसके मुँह से गहरी गहरी साँसें फूट रही थीं और कसमसाये जा रही थी|
वो आज भी यही सोच रही थी की मै उसे पायल भाभी जी समझ कर ये सब कर रहा हूँ|
तब तक मेनें जिया के शर्ट के निचले सिरे को पकड़ कर ऊपर की तरफ खींच लिया। शर्ट ढीला ही था इसलिये वो आसानी से चूचियों के ऊपर तक उठता चला गया और अब उनकी दोनों चूचियाँ निर्वस्त्र थी जिन पर मेरी गर्म साँसें पर पड़ रही थी| जिया भी लम्बी लम्बी साँसे ले रही थी जिससे उनकी दोनों चूचियाँ जोरो से उपर नीचे हो रही थी। यहाँ तक की उनके दिल की धड़कन तक मुझे सुनाई दे रही थी|
और जैसे ही मेनें अपनें होंठों के हल्के स्पर्श से बूब को छुआ,, उम्म्ह,, अहह,, हय,, याह,, जिया के जिस्म में एक तनाव सा पैदा हो गया और उसके जिस्म नें एक झुरझुरी सी ली मगर मै रूका नहीं और अपनें होंठों से उसकी छोटी छोटी चूचियों को एक बार प्यार से चूम लिया जिससे जिया के पूरे बदन में झनझनाहट सी दौड़ गई जिसको मेनें स्पष्ट महसूस किया|
मेनें जिया की चूचियों को बस एक बार चूमा और फिर अपनें होंठों को उनके निप्पलों के पास ले आया और आहिस्ता से अपनी ज़ुबान को बाहर निकाल कर उसके एक निप्पल को अपनी ज़ुबान से सहलानें लगा|
जैसे जैसे मेरी ज़ुबान उसके नर्म निप्पल को सहला रही थी। वैसे वैसे जिया के जिस्म में बेचैनी बढ़नें लगी| जिया एक कुँवारी लड़की थी जिसके लिए यह सब कुछ पहली बार हो रहा था|

अपनें जिस्म के साथ हो रही इस छेड़-छाड़ को वो बर्दाश्त नहीं कर पा रही थी मगर डर और शर्म के कारण वो कुछ बोल भी नहीं पा रही थी|
मेनें आहिस्ता से उसके एक निप्पल को अपनें होंठों के बीच ले लिया और उसे हौले हौले से चूसनें लगा जिससे उसकी चिकनाहट मेरे मुँह में घुलनें लगी| मै चूसते हुए उनके निप्पलों को अपनी ज़ुबान से सहला भी रहा था। वो पहले ही काफी कठोर हो गये थे मगर अब तो वो तन कर पत्थर हो गये|
जिया मेरा विरोध तो नहीं कर रही थी मगर वो बड़ी जोर से कसमसाते हुए बस मेरी हरकतों से बचनें का प्रयास कर रही थी जिसका मुझ पर कोई असर नहीं हो रहा था|
मै जिस हाथ से जिया दीदी की चूचियों को सहला रहा था उसे अब जिया के नँगे पेट पर ले आया था जहाँ पर उन्होंनें सलवार बाँध रखी थी| वैसे तो मै जिया की सलवार में हाथ डालना चाहता था मगर सलवार का नाड़ा काफी सख्त बाँधा हुआ था जिस कारण मेरा हाथ अन्दर नहीं गया। इसलिये मै धीरे धीरे उनके पेट को ही सहलानें लगा|
जिया की साँसें बड़ी जोर से चल रही थी जिससे उनका पेट फैल और सिकुड़ रहा था|

यह हिंदी सेक्स स्टोरी आप अन्तर्वासना पोर्न स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!
कुछ देर तक मै ऐसे ही उनके मखमली पेट और नाभि को सहलाता रहा और अबकी बार जिया के साँस लेनें पर जैसे ही उनका पेट थोड़ा सा सिकुड़ा,, मेनें धीरे से अपनें हाथ की उंगलियाँ सलवार के अन्दर घुसा दी जो उसकी पेंटी से टकराई|
जिया मेरे हाथ को पकड़ना चाहती थी मगर जब तब तक वो मेरे हाथ को पकड़ती तब तक मेरा पूरा हाथ उनकी सलवार और पेंटी में उतर गया|

और जैसे जैसे मेरा हाथ उनकी पेंटी में उतरता गया। वैसे वैसे ही जिया का बदन में कंपकपी सी चढ़ती गई। उस‌नें अपनें दोनों हाथों से मेरा हाथ पकड़ लिया और अपनी दोनों जाँघों को भी भींचकर बन्द कर लिया| शायद जिया का यह पहला अवसर था कि उसकी चूत को कोई छू रहा था इसलिये उसका इस तरह से डरना और शर्माना लाजमी ही था|
मेरा हाथ अब जिया की पेंटी में दोनों जाँघों के बीच उसकी चूत पर था जिस पर बिल्कुल छोटे छोटे और नर्म मुलायम बाल महसूस हो रहे थे। शायद जिया नें उन्हें हफ्ते भर पहले ही साफ किया होगा। तभी मुझे पेंटी में हल्की सी नमी भी महसूस हुई और इसका मतलब था कि मेरी हरकत से जिया को भी मजा आ रहा था|
अब तो मेरा हौसला और अधिक बढ़ गया। मेरा हाथ जिया की दोनों जाँघों के बीच फंसा हुआ था जिसे मै हिला तो नहीं सकता था मगर मेनें अन्दर ही अन्दर धीरे धीरे अपनी उंगलियों से उनकी चूत को मसलना शुरु कर दिया जिससे जिया अपनी जाँघों को एक दूसरी के साथ रगड़ कर अपनी चूत को मेरी उंगलियों से बचानें का प्रयास करनें लगी और साथ ही मेरे हाथ को भी अपनी सलवार से बाहर खींचनें लगी|
मगर मै कहाँ रुकनें वाला था। मै अन्दर ही अन्दर उसकी चूत को मसलता रहा जिससे अपनें आप ही धीरे धीरे जिया की जाँघें खुलनें लगी और मेरा हाथ स्वतन्त्र हो गया। अब मै पूरे हाथ को फैला कर धीरे धीरे उसकी चूत को सहलाते हुए उसकी रूपसिला का मुआयना कर रहा था|

जिया की चूत बिल्कुल छोटी सी थी मगर काफी फ़ूली हुई लग रही थी। ऐसा महसूस हो रहा था जैसे मिट्टी के एक बड़ी सी ढेरी के बीचोंबीच उंगली से एक छोटी सी सिला खींच रखी हो|
मेनें धीरे से अपनें अँगूठे और बीच वाली उंगली से चूत की कोमल फाँकों को थोड़ा सा फैलाया और आहिस्ता से एक उंगली को चूत की दरार के बीच में रख दिया जिससे जिया का पूरा बदन झनझना गया और उसके मुँह से बहुत ही धीमी एक आह निकल गई|
धीरे धीरे मेनें चूत की दरार को सहलाना शुरू कर दिया जिससे जिया के मुँह से धीमी धीमी सिसकारियाँ सी निकलनें लगी और दोनों जाँघो के बीच का दायरा भी बढ़नें लगा| मेरी उंगली चूत की दोनों फाँको के बीच चूत के उपरी भाग से लेकर नीचे चूतद्वार तक चल रही थी और ऐसे करते हुए जब भी मेरी उंगली उसकी चूत के अनारदानें को छूती तो जिया का पूरा बदन ऐसे झटका सा खाता जैसे उन्हें कोई करेंट लगा हो। और ना चाहते हुए भी उसके मुँह से दबी जुबान में एक हल्की सी कराह फ़ूट पड़ती|
कुछ देर तक मै ऐसे ही जिया की चूत के साथ खेलता रहा जिससे जल्द ही मेरी उंगलियाँ चूत रस से भीग गई| जिया अब भी कसमसाये जा रही थी मगर अब वो मेरे हाथ को हटानें का प्रयास नहीं कर रही थी क्योंकि उसे भी अब मजा आ रहा था और वो काफी उत्तेजित हो गई थी|

मुझे तो लग रहा था कि कुछ ही देर में वो अपनी ज़िंदगी में पहली बार चूत रस छोड़नें के मुकाम तक पहुँच जानें वाली थी| मै भी यही चाह रहा था कि ऐसे ही उसकी चूत का पहला पानी निकाल दूँ जिससे उसे भी इस खेल का थोड़ा बहुत स्वाद तो मिल सके!
मेनें अपनें हाथ के साथ साथ उसके निप्पलों पर अपनें होंठों का दबाव भी बढ़ा दिया। बल्कि अब मै उसके निप्पलों को अपनें दांतों से हौले हौले काटनें भी लगा था जिससे तेज-तेज सांसों के साथ जिया के मुँह से हल्की हल्की सिसकारियाँ भी निकलनें लगी,, वो अपनी सिसकारियो को रोकना चाह रही थी मगर फिर भी वो मुझे सुनाई दे रही थी|
चंद लम्हों के बाद ही जिया के जिस्म नें जैसे ज़ोरदार झटका सा खाया और उसके बदन का तापमान अचानक से बढ़ गया। जिया का पूरा जिस्म अकड़ गया और उसकी चूत मेरे हाथ पर ही रह रह कर पानी उगलनें लगी|

मै समझ गया कि जिया की चूत पहली पहली बार पानी छोड़ रही है इसलिये मेनें उसकी चूत को अपनें हाथ से जोर से दबा लिया और उसके जिस्म को अपनें जिस्म के साथ भींच लिया|

थोड़ी ही देर में जिया की चूत नें अपना सारा रस मेरे हाथ पर ही उगल दिया जिससे मेरा पूरा हाथ और जिया की पेंटी यहाँ तक कि सलवार भी गीली हो गई। जिया का जिस्म अब मेरी बांहों की गिरफ्त में बिल्कुल ढीला हो गया था|
जिया अब निढाल हो गई थी मगर मेरा हाथ अभी तक उसकी पेंटी में चूत पर ही था जो अभी तक धीरे धीरे उसकी चूत को सहला रहा था। चूत रस से मेरा पूरा हाथ लिस गया था इसलिये अब वो और भी आसानी से चूत पर फिसल रहा था|
मेनें धीरे से जिया के गर्दन को अपनी तरफ घुमाकर उसके होंठों को चूम लिया। तभी जिया जैसे अभी अभी नीन्द से जगी हो। उसनें चेहरे को घुमाकर अपनें होंठों को मेरे होंठों से अलग कर लिया मगर मै ऐसे कहाँ छोड़नें वाला था मेनें उसकी गर्दन को पकड़कर फिर से उनके होंठों को मुँह में ले लिया और अपनी जीभ उसके होंठों के बीच घुसा दी जिससे वो कसमसानें लगी और मुझसे छुटानें का प्रयास करनें लगी मगर मेनें उसे वैसे ही पकड़े रखा और उसके होंठों को चूसता रहा। साथ ही उसकी चूत को भी धीरे धीरे मसलता रहा|
कहानी का अगला भाग जल्द ही आएगा|

loading...