loading...

“मेरी चाची की जिस्म की आग”

आप सब अन्तर्वासना पोर्न स्टोरीज डाट कम पढ़नें वालों को नमस्कार! मेरा नाम आर्यन है। मै वेस्ट बंगाल का रहनें वाला हूँ। मै अन्तर्वासना पोर्न स्टोरीज डाट कम का नियामित पाठक हूँ और मै एक गोरे बदन और स्मार्ट दिखनें वाला लड़का हूँ।
मेरा उम्र 21 साल है। मेरा लम्बाई 5 फुट 5 इंच है। मेरा लण्ड लगभग 6.8 इंच है।

मै आज पहली बार अपनी आपबीती बतानें जा रहा हूँ, मै सोचता हूँ शायद आप सभी को पसंद आएगी।

बात उस समय की है। जब मै 12वीं में पढ़ता था। तब मै अपनें चाचा के घर में रहता था। मतलब वही रह कर पढ़ाई करता था।
मेरे चाचा की नई नई शादी हुई थी और वो एक प्राइवेट जॉब करते थे। तो चाचा को ज्यादातर बाहर जाना पड़ता था जिस वजह से चाची अकेली रह जाती थीं।
तो चाचा नें मुझे अपनें पास बुला लिया और मै तब से वही से पढ़ाई करनें लगा।

चलिए मै अब पॉइंट पर आता हूँ। मेरी जो चाची हैं। वो बहुत खूबसूरत हैं। उनकी उम्र अभी 23 साल थी। क्या माल थीं। उनका फिगर 34:-28:-30 का था। एकदम गोरा बदन।

मैनें जब से उन्हें देखा था। तब से ही उन्हें चोदनें का मन बना लिया था। मेरी चाची बीए कर चुकी थीं। वे मुझे पढ़ानें भी लगीं और मै उनके पास पढ़नें लगा।
पढ़ते समय मै चाची को देखता जब वो लिखतीं। तो मै उनके मम्मों देखता रहता था।
चाची घर में नाइटी में रहती थीं तो उनके बड़े:-बड़े चूचे पहाड़ की तरह खड़े रहते थे। मै उन्हें जब भी देखता। तो चोदनें का सोचता रहता।

एक दिन चाचा को कोई काम से दस दिनों के लिए बाहर जाना पड़ा।

तो चाचा नें मुझे कहा:- कही जाना मत।
चाची का ख्याल रखना।
मैनें कहा:- ठीक है।
तो उस दिन मै स्कूल भी नही गया और,
दिन भर चाची के साथ घर में रहा।
अब चूंकि मै चाची के साथ थोड़ा हँसी:-मज़ाक भी करनें लगा था, चाची भी मुझसे काफी खुल कर बात करनें लगी थीं।
चाची नें एक प्लान बनाया आर मुझसे कहा:- चलो आज मार्किट चलते हैं।
तो मैनें कहा:- ठीक है। चलिए।

शाम को हम दोनों मार्किट चले गए। चाची नें ढेर सारी खरीददारी की और अंत में वो एक लेडीज शॉप में गईं। उन्होंनें मुझे बाहर रहनें को कहा। तो मै बाहर रुक गया।
कुछ देर बाद चाची बाहर आईं और हम दोनों घर चले आए।

घर आनें के बाद हम दोनों नें मिलकर खाना खाया और मै चाची के रूम में टीवी देखनें लगा।
टीवी देखते:-देखते मुझे कब नींद आ गई और मै वही सो गया।

अचानक मुझे कैसा महसूस हुआ कि कोई मेरे लण्ड के साथ खेल रहा है। तो मै झट से उठा और देखा कि चाची मेरे सामनें एक पारदर्शी नाइटी में बैठी है और मेरे लण्ड के साथ खेल रही हैं।

तो मैनें चाची से कहा:- यह क्या कर रही हैं आप?
चाची नें कहा:- कुछ नही बस सोये हुई चिड़िया को जगा रही हूँ।
यह कहानी आप अन्तर्वासना पोर्न स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !

मै हंसनें लगा।
तो चाची नें कहा:- जब मै तुम्हें पढ़ाती थी। तब तुम मेरे चूचों को देखते थे। मुझे सब पता है।
मै उनको कातिल निगाहों से घूरनें लगा।
चाची नें फिर कहा:- आज मेरी प्यास बुझा दो आर्यन।

मैनें चाची को अपनें पास खींच लिया और उनके होंठों को चूमनें लगा।
उन्होंनें लिपिस्टिक लगा रखी थी और मै जोर से उनके होंठों को चूस रहा था। वो भी मेरा साथ दे रही थीं।

उसके बाद मै उनकी चूचियों को दबानें लगा।
हाय क्या मस्त लग रहा था। पहली बार किसी की चूचियों को दबा रहा था।

मैनें उनकी नाइटी को खोलना शुरू किया। तो वो अन्दर लाल रंग की ब्रा और पैन्टी पहनें हुई थीं।
क्या मस्त बदन लग रहा था उनका। एकदम गोरा बदन और उस पर कसी हुई लाल रंग की ब्रा।
फिर मैनें ब्रा के ऊपर से उनकी चूचियों को सहलाया और दबानें लगा।
चाची नें अपनी चूचियों को मेरी तरफ और तान दिया।

मैनें उनकी ब्रा को खोल दिया और उनके सफ़ेद कबूतर बाहर निकल आए।
फिर मैनें उनकी पैन्टी को खोला। तो देखा कि चाची नें चुत की झांटों को पूरा का पूरा साफ करके रखा हुआ है।
मुझसे रहा नही गया और मैनें उनकी चुत चाटनें लगा।
अब चाची मादक आवाजें निकालनें लगीं:- आह। आह्ह। आहहहह। आह्हह। उन्हहहह। उहहहह्ह। उहहहह्ह!

फिर उन्होंनें मेरा पैंट भी खोल दिया और मेरा लण्ड अपनी मुँह में लेकर चूसनें लगीं।
मुझे लौड़ा चुसवानें में बहुत मज़ा आ रहा था। मै पहली बार किसी लड़की के साथ सेक्स कर रहा था।
हम 69 की तरह हो गए, दस मिनट तक हम दोनों इसी लण्ड:-चुत की चुसाई में लगे रहे।

अचानक चाची की चुत का पानी निकल गया। मैनें जैसे ही उनके रस को चखा। आह्ह। दिल खुश हो गया। क्या मस्त खुशबू थी। पर मैनें अपना मुँह हटा लिया। तो चाची नें मेरे सर को पकड़ कर अपनी चुत के साथ लगा दिया।

फिर मै भी झड़ गया और मेरा पूरा वीर्य उनके मुँह में घुस गया।
इस तरह हम दोनों झड़ कर शांत हो गए।

फिर हम लोग एक दूसरे से लिपट कर बात करनें लगे। उसके बाद चाची बोलीं:- अब मुझे चोद दो।
मै उठा और उनके नंगे बदन के ऊपर आकर लंड को चुत पर रखा, चाची नें मेरा लंड पकड़ कर अपनी फुद्दी के छेड़ पे रखा और कहा:- घुसा दे!
लेकिन उनकी चुत बहुत तंग थी। मेरा मोटा लवड़ा अन्दर नही घुस रहा था।

मैनें किसी तरह सुपारा उनकी चुत में फंसा कर जोर लगाया। तो आधा अन्दर चला गया और चाची जोर से चिल्ला पड़ीं:- आह्ह। हहहह्ह। माआ।
मै डर गया कि पता नही क्या हुआ फिर भी मै उन्हें चोदता रहा।
एक बार मैनें और जोर लगाया तो पूरा का पूरा लौड़ा चुत के अन्दर चला गया। चाची कराह कर रह गईं। फिर धीरे धीरे उनकी चुत नें मेरे लवड़े को आत्मसात कर लिया।

उसके बाद मै उन्हें धकापेल चोदनें लगा था।
तो वो अजीब:-अजीब सी आवाज़ निकाल रही थीं:- आहहहह्ह। अहहहहह्ह। उहहहह्ह। माआआअ। चोदो आर्यन। और जोर से। बहुत मज़ा आ रहा है।

लगभग हम दोनों में 15 मिनट तक जबर्दस्त चुदाई का खेल खेलते रहे, उसके बाद चाची झड़ गई थीं।

अब बारी मेरी थी। तो मैनें चाची से पूछा:- क्या करूँ। अन्दर डाल दूँ या बाहर निकालूँ।
उन्होंनें कहा:- अन्दर ही डाल दो।

तो मैनें कुछ दमदार धक्के लगाए और अपना माल उनकी चुत के अन्दर ही डाल दिया। मै बहुत थक गया था तो निढाल हो कर वही चाची के शरीर के ऊपर गिर गया।

कुछ देर बाद हम दोनों उठ कर बाथरूम गए। खुद को साफ किया।
मै चाची के चूचों को साफ करनें लगा। कुछ देर बाथरूम में मस्ती करनें के बाद हम दोनों बाहर आ गए।
उसके बाद चाय पी। और सो गए।

बस अब तो रोज:-रोज यही सिलसिला चलनें लगा। फिर चाचा वापस आए तो ये सब बंद करना पड़ा।
फिर भी कभी:-कभी मै मौक़ा पाकर चलते फिरते उनके चूचे दबा देता था।
मैनें अपनें जीवन का पहला सेक्स किया था और इसमें मुझे बहुत मज़ा आया था।

उसके बाद मेरे एग्जाम खत्म हो गए। मै अपनें घर चला आया।
उसके बाद अभी तक किसी को नही चोदा है। सोचता हूँ चाची के घर से फिर से घूम आऊँ।

धन्यवाद दोस्तो। अगर अब किसी के साथ सेक्स किया तो फिर मिलेंगे दूसरी कहानी को लेकर। आप सबों को जरूर सुनाऊंगा। यह मेरी पहली कहानी है। कुछ अधिक नही लिख सका हूँ। उस रात को बहुत कुछ हुआ था।

loading...
error: Protected