loading...

“मामा भांजी की चुदाई”

 Antarvasna sex stories, desi kahani, hindi sex stories, chudai ki kahani, 
मित्रो! मैं यह कहानी किसी मित्र के अनुरोध पर लिख रहा हूँ! यह मेरे जीवन यादगार घटना है। यह घटना तकरीबन साल 2003 की है.. तब मैं पढ़ रहा था। मैं मेरी मौसी के यहाँ शहर में पढ़ता था। एक दिन मेरी मौसी की बेटी चन्दा मौसी से मिलनें आई। यह जो घटना मेरे जीवन में घटी.. वो अनायास ही घटी है मेरी मौसी की बेटी बहुत ही सुंदर है और वो अपनी एकलौती बेटी सोनल को साथ में लाई थी।
मेरे मन में कुछ भी नहीं था.. लेकिन सोनल नई-नई जवान लौंडिया थी.. उसकी गोरी चमड़ी तथा उठे हुए मम्मे बहुत ही सुंदर लग रहे थे.. उसनें सफेद फ्रॉक पहना हुआ था। शरीर से गबरू होनें के कारण बहुत ही जानदार लग रही थी। उसका फ्रॉक घुटनों तक आ रहा था.. उसकी टाँगें भी बहुत चिकनी और गोरी थीं।
मैंनें उसे अपनी तरफ बुला लिया और अपनें पास पर बिठा लिया। वो बहुत होशियार तथा सुंदर ढंग से बातें कर रही थी.. लेकिन थोड़ी समय बाद उसके बड़े-बड़े मुलायम कूल्हों की नर्माहट नें मेरे लंड को खड़ा कर दिया।
मेरी बहन उसी शाम को वापस जानें वाली थीं.. लेकिन मौसी नें ज़िद करके रोक लिया।
रात का खाना खानें के बाद बहुत गप्पें लड़ानें के बाद सोनें का इंतज़ाम हुआ और चूंकि घर में सीमित साधन थे.. सो ऊपर वाले नें मेरी सुन ली.. सोनल को मेरे साथ खटिया पर सोनें का प्रबंध हो गया। मेरी मुँह माँगी मुराद पूरी हो गई।

वो मुझे उम्र में छोटी थी.. मैं एकदम से उसके साथ कुछ कर तो नहीं सकता था.. लेकिन बाहरी मज़े तो ले ही सकता था।
सोनल मेरी खटिया पर आकर मेरे एक तरफ लेट गई। वो मेरी तरफ पीठ करके सो गई.. उसकी फ्रॉक घुटनों के ऊपर तक आ गई थी। रात के दूधिया उजाले में वो परी सी लग रही थी।
बहुत गप्पें लड़ानें के बाद धीरे-धीरे घर के सब लोग गहरी नींद में सो रहे थे। लेकिन मैं जाग रहा था.. इतना कमसिन और मदमस्त माल मेरे बगल में मुझसे चिपक कर लेटा हुआ था.. पीछे से उसकी गाण्ड की गहरी दरार देखकर मेरा लंड खड़ा हो चुका था। मैं एक हाथ से अपनें लंड को सहला रहा था।
अब रात के 11:45 हो गए.. सारे लोग गहरी नींद में सो गए थे.. तब सोनल नें मेरी तरफ़ पलटी मारी और उसनें अपना एक पैर मेरे ऊपर डाल दिया.. तब मैंनें अपनी रज़ाई हम दोनों के ऊपर ओढ़ ली.. और मैंनें उसकी साँसों की गरमी को महसूस किया।
अब मैंनें अपना बरमूडा नीचे खिसका दिया.. अब मेरे लौड़े के ऊपर सिर्फ एक निक्कर ही बची थी। अब आपस में हमारी रानों की नर्माहट को मैं महसूस कर रहा था।
एक हाथ मैंनें उसकी पीठ पर रख दिया और उसे आहिस्ता से सहलानें लगा.. जब उसकी कोई उजरदारी नहीं हुई तो मैंनें धीरे से उसकी फ्रॉक को ऊपर को किया और उसकी कमर के ऊपर तक उठा दिया।
अब मेरा हाथ उसके बड़े-बड़े गोल-गोल चूतड़ों पर रखा। एक छोटी सी चड्डी में उसके दो बड़े-बड़े कूल्हे फंसे हुए थे।

मैंनें उसका एक पैर जो मेरे ऊपर था उसे और ऊपर कर दिया और उससे चिपक गया।
अब लोहा और चुंबक आपस में चिपक गए थे.. मैं बहुत खुश था। मेरा लवड़ा डिस्को कर रहा था।
हमारी नंगी रानेंं एक-दूसरे से चिपक गई थीं.. तभी मैंनें उसकी गाण्ड की तरफ से उसकी चड्डी की इलास्टिक में अपना एक हाथ घुसा दिया।
कुछ पलों तक स्थिति को समझनें के बाद मैंनें अपना हाथ उसके गोल चूतड़ों पर दबा दिया और सहलानें लगा।
वो बेसुध सो रही थी.. मैंनें उसका फ़्रॉक और ऊपर उठा दिया और आगे से उसके चीकू के आकार के स्तनों पर हाथ फेरा.. उसके बदन की मदहोश कर देनें वाली खुशबू.. मुझे बेचैन कर रही थी.. मेरा कड़क हो चुका लण्ड उसकी चूत के सामनें निक्कर से बाहर आनें के लिए फुंफकारें भर रहा था।
तब मैंनें सोनल को चित्त लिटा दिया और पहली बार मैंनें उसकी नाज़ुक चूत पर उसकी चड्डी की ऊपर से हाथ रखा।
उसकी चूत गरम साँसें छोड़ रही थी। मैं धीरे से उसके स्तनों को सहलाता हुआ.. नीचे उसकी नाभि को भी सहलानें लगा।
फिर नाभि से नीचे उसकी चड्डी की इलास्टिक में हाथ घुसा दिया.. अब उसकी चूत का इलाका.. जिधर उसकी चूत पर इनें-गिनें रेशम से मुलायम बाल उगे हुए थे।
आज एक कच्ची कली मेरे पास थी.. और बस मैं कैसे खुद को रोकता.. नीचे मेरी उंगलियाँ सरक गईं.. मेरी हथेली उसकी फूली हुई पावरोटी की तरह चूत पर छा चुकी थी।
तब उसकी साँसें निकल गईं.. उसकी चूत के फलक बड़े-बड़े थे.. आपस में एकदम से मिले हुए थे।

मैं अपनी बहन को धन्यवाद दे रहा था कि क्या चूत को जन्म दिया है।
मैं क्या करूँ ये मेरी समझ में नहीं आ रहा था। तब मैंनें मेरा लंड निक्कर से बाहर निकाला और हिम्मत करके उसके दोनों पैर मेरी कमर पर रख लिए।
अब मैंनें एक बार इधर-उधर देखा.. सारे लोग तथा बहन आराम से सो रहे थे। मैं अपनी भांजी की चूत का उद्घाटन करनें जा रहा था। अब मैंनें उसकी चड्डी कमर से घुटनों तक नीचे को खिसका दी।
मैंनें फिर एक बार आस-पास सभी को देखा.. सब सो रहे थे। तब मैंनें रज़ाई नीचे की.. और देखा कि उसकी सफेद छोटी सी चड्डी उसके घुटनों तक आ गई थी। उसकी नाज़ुक कमसिन चूत रसमलाई की तरह दिख रही थी.. उसके फलक चिपके हुए थे.. उसकी चूत से दाना थोड़ा सा बाहर को निकल रहा था।
मैंनें लंड का निशाना बराबर बनाया और सुपारे को छेद पर लगा दिया। मेरे बड़े सुपारे नें उसकी चूत का मुँह पूरा बंद कर दिया था।
अब मुझे बहुत खुशी हुई कि मेरा लंड उसकी नाज़ुक चूत का चुम्मा कर रहा था।

तब मैंनें उसकी चूत की दोनों फाँकों को अलग किया और मेरा सुपारा छेद में सटा दिया।
मेरा लंड लार टपका रहा था.. तब मैंनें अपनें लण्ड को पीछे से हाथ से पकड़ कर सहलाते हुए हिलानें लगा.. और थोड़े ही समय में मेरा लावा.. जो कि गाड़ा वीर्य था.. उस कुंवारी चूत पर फूटा..
मेरा माल उसकी चूत के ऊपर-नीचे चारों तरफ से जहाँ जगह मिली.. निकलनें लगा।
तभी कामांध होकर मैंनें एक धक्का मार दिया.. तब उसकी पुष्पकली मेरा आधा सुपारा निगल गई।

उसनें मेरा पानी अन्दर कितना लिया.. यह मुझे मालूम नहीं.. लेकिन उसकी चूत के मुँह में मैंनें ढेर सारा मेरा खारा पानी छोड़ दिया.।

मुझे बाद में मालूम हुआ कि वो जाग रही थी।
फिलहाल तो मेरा तनाव उस कच्छी कली को बिना चोदे ही खत्म हो गया था।

इसके बाद उसकी चुदाई भी हुई.. वो मैं आप सभी को बाद में लिखूँगा।

loading...
error: Protected