loading...

“मामा की लड़की ने खुद अपनी चुत चुदवाई मुझे पटा कर”

Antarvasna sex stories, desi kahani, hindi sex stories, chudai ki kahani, sex kahani
मेरा नाम जोहन है| मैं वाराणसी उत्तर प्रदेश से हूँ|

यह मेरी सच्ची कहानी है ममेरी बहन की बुर चुदाई की!
दो साल पहले की बात है कि मेरे मामा की मृत्यु एक दुर्घटना में होनें के बाद मैं मामी के पास उनकी मदद के लिये रहनें लगा| मेरे मामा के दो लड़के थे और एक छोटी लड़की मोनी 20 साल की थी| उसकी फिगर 34:-26:-35 बहुत ही सेक्सी लगती थी| वो मुझे भैया कहती थी!
बड़ा लड़का मामा के मरनें के बाद उनकी जगह नौकरी करता था| मेरे वहाँ रहनें से पूरे घर की जिम्मेदारी मेरी थी| सब्जी लानें से लेकर बिजली का बिल तक मैं ही जमा करता था|
कुछ दिनों से मोनी के पेट में दर्द होनें लगा तो मामी नें मुझसे कहा:- इसे दवा दिला दो!

मैं बाइक पर उसे दवा दिलानें ले गया| उसके बाद मैं कई बार उसे दवा के लिये ले गया|
एक बार दवा के लिये जाना था तो मैंनें कहा:- आज मुझे कुछ काम है| तुम किसी और के साथ चली जाओ!

तब उसनें कहा:- मैं जाऊंगी तो आपके साथ| नहीं तो दवा नहीं लूँगी!

उसके बाद से उसका व्यवहार मेरे प्रति कुछ बदलनें लगा| वो मेरे साथ कुछ अलग तरीके से पेश आनें लगी जैसे कोई प्रेमिका या पत्नी अपनें पति के साथ पेश आती है| मैं घर में कहीं भी रहूँ वो मेरे पास चली आती और शरारत करनें लगती!
मुझे शक हुआ तो मैंनें उससे पूछा:- क्या बात है| तुम्हारा व्यवहार मेरे लिये कुछ बदला सा क्यों है?

तो उसनें कहा:- मैं आपसे प्यार करती हूँ|

मैंनें कहा:- यह गलत है| तुम अपनी सोच बदल लो! नहीं मैं यहाँ से अपनें घर चला जाऊँगा|

वो नहीं मानी तो मैं अपनें घर चला आया|
उसनें उसकी माँ से मुझे बुलानें को कह दिया तो मेरी मामी नें मुझे फोन किया| कहा:- तुम्हें मेरी कसम है| आना ही पड़ेगा! नहीं हमारा रिश्ता खत्म हो जायेगा!

मजबूरन मुझे जाना पड़ा|
जब दोबारा मैं गया तो मोनी और भी खुलकर हंसी मजाक करनें लगी!

मामी नें कहा:- कुछ भी करो जोहन मेरी लड़की खुश रहनी चाहिये!

फिर मेरी भी सोच बदलनें लगी|
एक दिन मैं बाहर से अंदर कमरे में गया तो देखा कि मोनी केवल सलवार में है और ऊपर कुछ नहीं है|

मैं देखता ही रह गया| उसकी बड़ी:-बड़ी चूची देख कर मेरा लंड खड़ा हो गया लेकिन मैं लौट आया|
इत्तेफाक से उसी दिन मामी और उनके दोनो बेटों के साथ उनके मायके चली गई और कहा:- मैं आज नहीं आऊँगी|

अब घर में केवल मैं और मोनी रह गये|
मैं शाम को एक पार्टी में गया| वहाँ मैंनें शराब पी ली थी| मैं रात को 9 बजे वापस आया तो गेट नॉक किया| मोनी दरवाजा खोलनें आई|

उसनें जैसे ही दरवाजा खोला| मेरा लंड उसे देखते ही खड़ा हो गया| मोनी नें बिल्कुल टाइट सलवार सूट पहन रखा था और दुपट्टा नहीं लिया था| उसकी चूची आधी बाहर आ रही थी| मैं बिना कुछ कहे अंदर चला गया|
जब मैं रात को सोनें के लिये मेरे कमरे में गया तो वह मेरे पास आई| बोली:- मुझे अकेले में डर लग रहा है| मैं आपके पास सोऊँगी|

मैंनें कहा:- ठीक है| आओ सो जाओ!

उसके बाद हम दोनों एक ही बेड पर लेट गये| वो मेरे बाईं तरफ सीशी लेट गई| उसकी चूचियाँ आधी अंदर और आधी बाहर थी|
चूंकि मैं नशे में था| मैं बहुत विचलित हो गया| मेरा लंड पूरा तन गया| मैं यह भूल गया कि यह मेरी ममेरी बहन है| मैंनें पहले उसकी कमर पर हाथ रख दिया और उसके बाद उसकी चूची पकड़ कर मसलनें लगा|
वो मदहोश होनें लगी|
अब मैं उसकी शमीज में हाथ डालकर उसकी चूची सहलानें लगा| उसके बाद मैंनें एक एक कर उसके सारे कपड़े उतार दिये| सफेद रोशनी में उसका सेक्सी बदन गजब लग रहा था| उसकी बड़ी:-बड़ी चूची| पतली सी कमर| चौड़े चूतड़| मोटी मोटी जांघें…
मैंनें भी अपनें सारे कपड़े निकाल दिए| अब हम दोनों बिल्कुल नंगे हो गये| मेरा लम्बा लंड तन गया| मोनी मेरे लंड को निहारनें लगी और बोली:- इतना लंबा और मोटा लंड?

और वो मेरे लंड को पकड़ कर हिलानें लगी|

मैंनें कहा:- मुंह में लो|
तब वो मेरा लंड अपनें मुंह में लेकर चूसनें लगी|वो मेरी जिंदगी का एक अद्भुत अहसास था… मुझे लगा कि मैं सीधा स्वर्ग में आ गया हूँ|
कुछ देर बाद मैंनें उसकी चूचियों को पीना शुरू किया| उसके जिस्म कोई भी ऐसा अंग नहीं था जिसे मैंनें जीभ से न चाटा हो|

मैंनें जब उसकी चुत पर जीभ लगाई तो वो सिहर उठी| बिना बालों की उसकी फूली हुई बुर… मैं तो देखकर स्तब्ध रह गया| वो मेरी जिन्दगी का पहला मौका था जब मैंनें किसी लड़की की बुर देखी थी|
उसके बाद मैंनें अपनी बीच वाली लम्बी उंगली उसकी बुर में डाली और जीभ से उसकी बुर का दाना चाटनें लगा और वो सित्कारें भरनें लगी| उसका पेट फूलनें और सिकुड़नें लगा|

मैं उसकी बुर को चाटता रहा!

नमकीन स्वाद था|
कुछ मिनट बाद वो जोर से आहें भर कर ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ संतुष्ट हो गई!

उसके बाद मैं उसकी चूचियों को मसलनें लगा और पीनें लगा| उसकी जीभ को अपनें मुंह में लेकर चूसनें लगा|
कुछ देर बाद वो फिर से गर्म हो गई!

अब मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा था| मैंनें उसके चूतड़ बेड के किनारे खींचे| मैं नीचे जमीन पर खड़ा हो गया और मेरा लंड उसकी बुर के छेद पर लगाया!

उसकी बुर से जैसे आग निकल रही थी और पानी उसकी बुर से बह कर गांड की तरफ जा रहा था| मैंनें उस पानी को हाथ से पौंछ कर मेरे लंड पर लगाया और अपना मोटा लंड अपनी बहन की बुर में डालनें लगा|
मेरे लंड का सुपारा जैसे ही उसकी बुर में गया| उसनें अपनी आंखें बंद कर ली| और मुझे इतना मजा आया जितना जिंदगी में पहले कभी नहीं!

जैसे ही मेरा पूरा लंड उसकी बुर में घुसा| उसनें मुझे जोर से अपनी बाहों में कस लिया और मैं खड़े खड़े धक्के लगानें लगा|
एक मिनट बाद ही मेरा वीर्य उसकी बुर में छुट गया लेकिन मैंनें लंड को बाहर नहीं निकाला|

मेरा लंड थोड़ा छोटा हो गया लेकिन कुछ देर बाद स्ट्रोक लगानें के बाद उसकी बुर में ही फिर से टाइट हो गया|

उसके बाद मैंनें अपनी बहन को जोर जोर से चोदना शुरू किया|
कुछ देर तो मोनी खूब मजा लेकर में चुदवाती रही ‘और जोर से चोदो मुझे… और तेज…’ कहती रही|

उसको बाद वो झड़ गई और बोली:- बस करो!

लेकिन मेरा वीर्य नहीं निकला था इसलिये मैं उसे जोर से चोदता रहा|
कुछ देर बाद मेरा गिरनें वाला था| मैंनें उससे पूछा:- मेरा वीर्य पीयेगी?

उसनें कहा हाँ!

और मैंनें लंड उसके मुंह में डाल दिया और उसनें चूसना शुरू किया|
थोड़ी देर में मैंनें माल छोड़ दिया और वो पी गई है| मैं वाराणसी उत्तर प्रदेश से हूँ|

loading...

यह मेरी सच्ची कहानी है ममेरी बहन की बुर चुदाई की!
दो साल पहले की बात है कि मेरे मामा की मृत्यु एक दुर्घटना में होनें के बाद मैं मामी के पास उनकी मदद के लिये रहनें लगा| मेरे मामा के दो लड़के थे और एक छोटी लड़की मोनी 20 साल की थी| उसकी फिगर 34:-26:-35 बहुत ही सेक्सी लगती थी| वो मुझे भैया कहती थी!
बड़ा लड़का मामा के मरनें के बाद उनकी जगह नौकरी करता था| मेरे वहाँ रहनें से पूरे घर की जिम्मेदारी मेरी थी| सब्जी लानें से लेकर बिजली का बिल तक मैं ही जमा करता था|
कुछ दिनों से मोनी के पेट में दर्द होनें लगा तो मामी नें मुझसे कहा:- इसे दवा दिला दो!

मैं बाइक पर उसे दवा दिलानें ले गया| उसके बाद मैं कई बार उसे दवा के लिये ले गया|
एक बार दवा के लिये जाना था तो मैंनें कहा:- आज मुझे कुछ काम है| तुम किसी और के साथ चली जाओ!

तब उसनें कहा:- मैं जाऊंगी तो आपके साथ| नहीं तो दवा नहीं लूँगी!

उसके बाद से उसका व्यवहार मेरे प्रति कुछ बदलनें लगा| वो मेरे साथ कुछ अलग तरीके से पेश आनें लगी जैसे कोई प्रेमिका या पत्नी अपनें पति के साथ पेश आती है| मैं घर में कहीं भी रहूँ वो मेरे पास चली आती और शरारत करनें लगती!
मुझे शक हुआ तो मैंनें उससे पूछा:- क्या बात है| तुम्हारा व्यवहार मेरे लिये कुछ बदला सा क्यों है?

तो उसनें कहा:- मैं आपसे प्यार करती हूँ|

मैंनें कहा:- यह गलत है| तुम अपनी सोच बदल लो! नहीं मैं यहाँ से अपनें घर चला जाऊँगा|

वो नहीं मानी तो मैं अपनें घर चला आया|
उसनें उसकी माँ से मुझे बुलानें को कह दिया तो मेरी मामी नें मुझे फोन किया| कहा:- तुम्हें मेरी कसम है| आना ही पड़ेगा! नहीं हमारा रिश्ता खत्म हो जायेगा!

मजबूरन मुझे जाना पड़ा|
जब दोबारा मैं गया तो मोनी और भी खुलकर हंसी मजाक करनें लगी!

मामी नें कहा:- कुछ भी करो जोहन मेरी लड़की खुश रहनी चाहिये!

फिर मेरी भी सोच बदलनें लगी|
एक दिन मैं बाहर से अंदर कमरे में गया तो देखा कि मोनी केवल सलवार में है और ऊपर कुछ नहीं है|

मैं देखता ही रह गया| उसकी बड़ी:-बड़ी चूची देख कर मेरा लंड खड़ा हो गया लेकिन मैं लौट आया|
इत्तेफाक से उसी दिन मामी और उनके दोनो बेटों के साथ उनके मायके चली गई और कहा:- मैं आज नहीं आऊँगी|

अब घर में केवल मैं और मोनी रह गये|
मैं शाम को एक पार्टी में गया| वहाँ मैंनें शराब पी ली थी| मैं रात को 9 बजे वापस आया तो गेट नॉक किया| मोनी दरवाजा खोलनें आई|

उसनें जैसे ही दरवाजा खोला| मेरा लंड उसे देखते ही खड़ा हो गया| मोनी नें बिल्कुल टाइट सलवार सूट पहन रखा था और दुपट्टा नहीं लिया था| उसकी चूची आधी बाहर आ रही थी| मैं बिना कुछ कहे अंदर चला गया|
जब मैं रात को सोनें के लिये मेरे कमरे में गया तो वह मेरे पास आई| बोली:- मुझे अकेले में डर लग रहा है| मैं आपके पास सोऊँगी|

मैंनें कहा:- ठीक है| आओ सो जाओ!

उसके बाद हम दोनों एक ही बेड पर लेट गये| वो मेरे बाईं तरफ सीशी लेट गई| उसकी चूचियाँ आधी अंदर और आधी बाहर थी|
चूंकि मैं नशे में था| मैं बहुत विचलित हो गया| मेरा लंड पूरा तन गया| मैं यह भूल गया कि यह मेरी ममेरी बहन है| मैंनें पहले उसकी कमर पर हाथ रख दिया और उसके बाद उसकी चूची पकड़ कर मसलनें लगा|
वो मदहोश होनें लगी|
अब मैं उसकी शमीज में हाथ डालकर उसकी चूची सहलानें लगा| उसके बाद मैंनें एक एक कर उसके सारे कपड़े उतार दिये| सफेद रोशनी में उसका सेक्सी बदन गजब लग रहा था| उसकी बड़ी:-बड़ी चूची| पतली सी कमर| चौड़े चूतड़| मोटी मोटी जांघें…
मैंनें भी अपनें सारे कपड़े निकाल दिए| अब हम दोनों बिल्कुल नंगे हो गये| मेरा लम्बा लंड तन गया| मोनी मेरे लंड को निहारनें लगी और बोली:- इतना लंबा और मोटा लंड?

और वो मेरे लंड को पकड़ कर हिलानें लगी|

मैंनें कहा:- मुंह में लो|
तब वो मेरा लंड अपनें मुंह में लेकर चूसनें लगी|वो मेरी जिंदगी का एक अद्भुत अहसास था… मुझे लगा कि मैं सीधा स्वर्ग में आ गया हूँ|
कुछ देर बाद मैंनें उसकी चूचियों को पीना शुरू किया| उसके जिस्म कोई भी ऐसा अंग नहीं था जिसे मैंनें जीभ से न चाटा हो|

मैंनें जब उसकी चुत पर जीभ लगाई तो वो सिहर उठी| बिना बालों की उसकी फूली हुई बुर… मैं तो देखकर स्तब्ध रह गया| वो मेरी जिन्दगी का पहला मौका था जब मैंनें किसी लड़की की बुर देखी थी|
उसके बाद मैंनें अपनी बीच वाली लम्बी उंगली उसकी बुर में डाली और जीभ से उसकी बुर का दाना चाटनें लगा और वो सित्कारें भरनें लगी| उसका पेट फूलनें और सिकुड़नें लगा|

मैं उसकी बुर को चाटता रहा!

नमकीन स्वाद था|
कुछ मिनट बाद वो जोर से आहें भर कर ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ संतुष्ट हो गई!

उसके बाद मैं उसकी चूचियों को मसलनें लगा और पीनें लगा| उसकी जीभ को अपनें मुंह में लेकर चूसनें लगा|
कुछ देर बाद वो फिर से गर्म हो गई!

अब मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा था| मैंनें उसके चूतड़ बेड के किनारे खींचे| मैं नीचे जमीन पर खड़ा हो गया और मेरा लंड उसकी बुर के छेद पर लगाया!

उसकी बुर से जैसे आग निकल रही थी और पानी उसकी बुर से बह कर गांड की तरफ जा रहा था| मैंनें उस पानी को हाथ से पौंछ कर मेरे लंड पर लगाया और अपना मोटा लंड अपनी बहन की बुर में डालनें लगा|
मेरे लंड का सुपारा जैसे ही उसकी बुर में गया| उसनें अपनी आंखें बंद कर ली| और मुझे इतना मजा आया जितना जिंदगी में पहले कभी नहीं!

जैसे ही मेरा पूरा लंड उसकी बुर में घुसा| उसनें मुझे जोर से अपनी बाहों में कस लिया और मैं खड़े खड़े धक्के लगानें लगा|
एक मिनट बाद ही मेरा वीर्य उसकी बुर में छुट गया लेकिन मैंनें लंड को बाहर नहीं निकाला|

मेरा लंड थोड़ा छोटा हो गया लेकिन कुछ देर बाद स्ट्रोक लगानें के बाद उसकी बुर में ही फिर से टाइट हो गया|

उसके बाद मैंनें अपनी बहन को जोर जोर से चोदना शुरू किया|
कुछ देर तो मोनी खूब मजा लेकर में चुदवाती रही ‘और जोर से चोदो मुझे… और तेज…’ कहती रही|

उसको बाद वो झड़ गई और बोली:- बस करो!

लेकिन मेरा वीर्य नहीं निकला था इसलिये मैं उसे जोर से चोदता रहा|
कुछ देर बाद मेरा गिरनें वाला था| मैंनें उससे पूछा:- मेरा वीर्य पीयेगी?

उसनें कहा हाँ!

और मैंनें लंड उसके मुंह में डाल दिया और उसनें चूसना शुरू किया|
थोड़ी देर में मैंनें माल छोड़ दिया और वो पी गई

loading...