loading...

“भाभी जी डैडी जी की गोद में”

Hey दोस्तों मेरा नाम दीपक है। मेरी ये पहली ही कहानी है। ये बात तब की हे जब मैं 12वी में पढाई करता था। मेरे डैडी की पोस्टिंग उन दिनों कोलकाता में हुई थी। उन दिनों मेरे एक दूर के भैया हे जो बिहार में काम करते हे उनकी शादी को 3 साल हुए थे। भाभीजी का नाम उषा हे जो एक गवर्नमेंट सर्वेंट हे और अच्छी पपोस्ट पर है। भाभीजी एक बार अपनी किसी ट्रेनिंग के लिए 7 दिन के लिए कोलकाता आई थी। जब वो आई तब मैं स्कुल में था। जब घर आया और घंटी बजाई तो भाभीजी नें ही दरवाजा खोला।

बाप रे क्या हुस्न था दोस्तों! भाभीजी के उस यौवन से भरे बदन को मैं नहीं भूल सकता हूँ! वो एकदम चुदाईी लग रही थी और उन्के चुचियाँ एकदम कडक थे। मैं उसे देखता ही रह गया और एक पल के लिए भूल ही गया की मैं उसके सामनें घोंचू बना मुहं खुला के खुला रख के खड़ा हुआ था। भाभीजी नें तो मुझे देखते ही पहचान लिया और वो बोली, आप दीपक भैया हो ना!

भैया वाला शब्द दिल में तीर के जैसे चिभ गया लेकिन मैंनें हाँ कहा। और स्कुल बेग ले के अन्दर चला गया। भाभीजी अन्दर आई और मम्मी नें कहा देखा कितना बड़ा हो गया हे दीपक।

भाभीजी नें मेरी तरफ देख के कहा, सच में काफी बड़े हो गए हे ये तो? मेरी शादी में देखा था तब छोटे से थे।

मम्मी नें कहा, हाँ 3 साल में इसकी मूछ भी निकल आई है।

मैंनें मन ही मन कहा भाभीजी नीचे लंड और झांट भी निकल के आ गई है। वैसे 15 साल से 18 साल के होनें पर इतनें बदलाव तो आते हे बदन के अन्दर। भाभीजी नें मस्त नाइटी पहनी थी शाम को जब हम लोग खानें के बाद टीवी देख रहे थे। कुछ देर के बाद मम्मी डैडी सो गए और भाभीजी अपनें ट्रेनिंग के कुछ कागज सही करनें लगी। मैं उसके पास ही बैठा था। वो इधर उधर की बातें कर रही थी। एक दो घंटे में तो मैं जान गया की वो फ्रेंक और मजाकिए नेंचर वाली है। वो ओके, फक, याह जैसे इंग्लिश वर्ड्स बोलती थी। फक बोला तो मैंनें उसके सामनें देखा, वो हंस दी और मैं भी।

फिर मुझे 10 बजे के करीब नींद आ गई और मैं सोनें के लिए चला गया। मम्मी नें भाभीजी को नीचे किचन के पास वाला गेस्ट रूम दे दिया था। उसके अन्दर भी छोटा टीवी था। कुछ देर के बाद मैं अपनें कमरे में चला गया।

रात के करीब 12 बजे मुझे पेशाब लगी और मैं मुतनें के लिए नीचे उतरा। मूत के मैं किचन में पानी की ठंडी बोतल लेनें के लिए गया। भाभीजी का कमरा वही पर था। भाभीजी के कमरे से कुछ खुसपूस सी सुनाई पड़ी। मैंनें कान लगाए तो अन्दर से मेरे डैडी की आवाज आ रही थी। मैंनें सोचा की डैडी इतनी रात को भाभीजी के कमरे में। और वो भी कमरा बंद हो ऐसे में! मेरे शैतानी दिमाग में चक्कर के जैसे विचार घुमनें लगे। मैंनें खिड़की से अन्दर झाँका तो अन्दर का सिन देख के मेरे लंड के अन्दर जलन सी आ गई।

भाभीजी डैडी की गोदी में बैठी हुई थी और वो भी एकदम नंगी। डैडी भाभीजी के चुचियाँ को दबा रहे थे और उनका लंड भाभीजी की चूत के एकदम पास में खड़ा हुआ छत को देख रहा था। डैडी नें भाभीजी के चुचियाँ दबाये और वो बोले, 3 साल पहले जब मैंनें तुम्हे शादी के जोड़े में देखा था तभी मेरा तो मन कर रहा था लेकिन तब तुम मुझे जानती भी नहीं थी।

भाभीजी बोली, आप नें तो पहले दिन से ही लाइन देनी चालू कर दी थी मुझे, मेरे पपलू हसबंड नें ही कहा था की कोलकाता का सरकारी काम हो तो फूफा जी फट से कर देंगे। आप नें मेरी सेलरी बढ़वाई और परमानेंंट जॉब भी दिलवा दी उसके लिए बहुत बहुत थेंक्स आप को।

डैडी नें भाभीजी को एक किस दिया और वो बोले, अब आप आप क्या लगा रखा हे मेरी जान। तुम कहो वो बहुत स्वीट लगता है। और मैंनें जो कुछ किया हे उसके बदले में तुमनें भी तो अपनी जवानी मेरे नाम कर दी है। मेरी बीवी अब बूढीया हो गई हे लंड के झटके से उसे दर्द होता है। घुटनों की सर्जरी के बाद तो उसे चोदा ही नहीं हे मैंनें।

भाभीजी नें डैडी का लंड अपनें हाथ में ले लिया और बोली, अब उनकी जरूरत भी क्या हे मैं हूँ ना। देखो आप नें कहा तो मैं ट्रेनिंग के बहानें पुरे 7 दिन के लिए आ गई हूँ। आंटी और मेरे हसबंड को तो ऐसा ही हे की मैं यहाँ अपनें दफ्तर के काम से आई हूँ।

डैडी हंस के बोले, मैंनें इसलिए वो फर्जी ट्रेनिंग लेटर रजिस्टर्ड पोस्ट से ही भेजा था। मुझे पता था की तुम्हारा पति ही उसे खोलेगा।

भाभीजी लंड को मर्दन देती रही कुछ देर और लोडे के अन्दर उसनें एक ताजगी सी जगा दी।

फिर डैडी नें भाभीजी को कंधे से पकड़ के अपनें लंड की तरफ किया। भाभीजी नें लपक के अपना मुहं खोला और वो लंड को चूसनें लगी। डैडी का लंड पुरे 8 इंच जितना था जिसे भाभीजी नें अपनें मुहं में आधा ले रखा था। बिच बिच में वो लंड को हिलाती भी थी। कुछ देर डैडी का चूसनें के बाद भाभीजी नें कहा, चुचियाँ चुदाई करेंगे?

डैडी नें कहा, नेंकी और पूछ पूछ!

भाभीजी नें वहाँ पर पड़ी एक ट्यूब को दबाया जिसमे से कुछ जेली जैसा निकला। भाभीजी नें अपनें हाथ से उसे जेली को

अपनें चुचियाँ और क्लीवेज के ऊपर मसल दिया। भाभीजी एकदम बस्टी हे और उसके बड़े चुचियाँ के ऊपर जेल चमक रही थी। फिर डैडी की जांघो के ऊपर हाथ रख के भाभीजी नें अपनें दोनों चुचियाँ के बिच में लंड को रख दिया। डैडी नें भाभीजी के बाल पकड लिए और भाभीजी अपनें चुचियाँ का चुदाई खुद करवानें लगी थी। डैडी अह्ह्ह अह्ह्ह्ह कर रहे थे। भाभीजी नें लंड को एकदम से छिपा लिया था अपनें दोनों चुचियाँ के बिच में। और फिर भाभीजी नें अपनें चुचियाँ को पांच मिनिट और ऐसे ही चुद्वाए। मुझे अपनें डैडी की जलन हो रही थी! 50 के ऊपर की उम्र में वो इस जवान नवविवाहित भाभीजी के साथ क्या मजेदार काण्ड में लगे हुए थे!

चुचियाँ चुदाई के बाद भाभीजी खड़ी हुई। उसकी गांड मटक रही थी जब वो बेड को एक साइड से पकड के घोड़ी बन गई। डैडी उसके पीछे अपनें कडक लंड को हाथ में ले के खड़े हो गए। और उन्होंनें अपनें लोडे को भाभीजी की बुर पर लगा दिया। भाभीजी नें अपनें दोनों कूल्हों को खोला, ताकि डैडी का लंड आराम से उसकी बुर में घुस सके। डैडी नें भाभीजी के मम्मे दबाये और लंड का एक झटका दे दिया। जैसे मख्खन के अन्दर गरम छुरी घुस गई हो वैसे ही मेरे डैडी का लंड भाभीजी की गुलाबी चूत में जा घुसा। भाभीजी के मुहं से आह निकल गया। उनकी चोटी को डैडी नें अपनें हाथ में लिया। और जैसे भाभीजी घोड़ी हो वैसे चोटी की लगाम को वो खिंच के चुदाई की सवारी करनें लगे।

डैडी का लंड मस्ती से भाभीजी की चूत में अन्दर बहार हो रहा था। और भाभीजी अपनी गांड को हिला हिला के चुदनें लगी थी। डैडी का बड़ा लंड भाभीजी की सब खुमारी को अपनें झटको से दूर कर रहा था। डैडी की जांघ जब भाभीजी की गांड से टकराती थी तो ठप ठप की आवाज गूंज उठती थी कमरे के अन्दर। भाभीजी चुदासी हो के अह्ह्ह अह्ह्ह्ह ऊह्ह्हह्ह अह्ह्ह्ह ह्ह्ह्ह करनें लगी थी। और डैडी कभी उसके चुचियाँ मसलते थे तो कभी उसकी गांड के ऊपर प्यार से अपनें हाथ को घुमा के उसे चुदाई का असीम सूख देते थे।

डैडी नें अब अपनें हाथ केंची जैसे बना के भाभीजी की गांड को पकड़ लिया। और वो जोर जोर से उसकी चूत को पेलनें लगे। भाभीजी भी अब उतनी ही शक्ति से अपनी गांड को डैडी की तरफ ठोक रही थी। अह्ह्ह्ह अह्ह्ह उईई अह्ह्ह्ह आआआअ कमरे में चालू ही था। मेरे लंड के अन्दर भी गर्मी का भण्डार खुल गया था। डैडी का काण्ड देख के मैं भी लंड को हिला रहा था!

कुछ देर भाभीजी को ऐसे ही मस्ती से ठोकनें के बाद डैडी नें अपना लंड उसकी चूत में से निकाल लिया। भाभीजी को मून में दिया तो वो बिना झिझक के गंदे चूत के रस में लिप्त लंड को सक करनें लगी। अब की तो भाभीजी नें डीपथ्रोट दिया डैडी को और पुरे लंड को गले तक भर के चूस गई वो। डैडी नें अब भाभीजी की गांड के ऊपर बड़े ही प्यार से मारा और बोले आजा मैं तुझे लंड पर बिठाऊ मेरी जान।

भाभीजी के हाथ को पकड़ के डैडी नें उसे ऊपर उठाया और फिर वो बिस्तर में बैठ गए। भाभीजी का सपोर्ट कर के उन्होंनें उसे अपनें लंड के ऊपर बिठाया। भाभीजी नें एक हाथ से लंड को पकड़ा और दुसरे हाथ से उसनें अपनें थूंक को ऊँगली पर लिया। चूत की फांको पर ताजा थूंक लगा के वो लोडे के ऊपर बैठ गई। डैडी का लंड बिना किसी परेशानी के भाभीजी की चूत में घुस गया। डैडी नें भाभीजी को अपनी आगोश में ले लिया और वो नीचे से धक्के देनें लगे। भाभीजी भी उछल उछल के अपनी चूत में डीप तक डैडी का लोडा ले रही थी और आह्ह्ह्ह अह्ह्ह्ह ओह ओह्ह्ह्ह उईई अह्ह्ह्हह की मोअनिंग कर रही थी। डैडी इतनी उम्र में भी चूत चोदनें के रसिये थे जो बिना थके अपनें लंड को अन्दर तक पेल के मजे ले रहे थे और भाभीजी को दे भी रहे थे।

भाभीजी और डैडी दोनों को पसीना हो रहा था कमरे के पंखा फुल स्पिड में होनें के बावजूद भी। अब डैडी भाभीजी के चुचियाँ को चूसते हुए नीचे से धक्के देते गए। भाभीजी नें लंड की सवारी की कुछ पांच मिनिट और फिर डैडी नें कहा, मेरा निकल जाएगा।

भाभीजी नें नोटी अंदाज में कहा, राघव (मेरे डैडी का नाम) अपना बिज मेरी चूत में ही छोड़ दो।

डैडी नें भाभीजी को पकड़ के जोर जोर से लंड को अन्दर बहार किया। भाभीजी भी जोर जोर से ऊपर नीचे हो रही थी। एक मिनिट में ही डैडी के लंड का पानी निकल गया शायद। मैंनें वीर्य देखा तो नहीं लेकिन भाभीजी और डैडी दोनों शांत हो गए थे और भाभीजी एकदम चुदाईी स्वर में मोअन कर रही थी।

डैडी नें अपना लंड बहार निकाल के फिर से भाभीजी को चटवाया और बोले, कल मैं दीपक और मीनाक्षी को नींद की गोली दे दूंगा और फिर हम पोर्न देख के चोदेंगे मेरी जान!

भाभीजी नें अपनें कपडे हाथ में लिए और पहननें लगी और बोली, हाँ अभी आप जाओ कही आंटी उठ गई तो प्रोब्लेम हो जाएगा।

मैं फट से वहाँ से निकल गया। और दुसरे दिन भाभीजी नें जो दूध वाली सेवैया बनाई थी सब के लिए वो मैंनें नहीं खाई और एक बेग में फेंक आया बहार। मैं जानता था की उसके अन्दर ही नींद की गोली थी। मुझे भी डैडी और भाभीजी की चुदाई पोर्न के साथ देखनी थी!!

जो कहानियाँ अभी पढ़ी जा रही हैं

loading...
error: Protected