loading...

भाई ने करवाई जन्नत की शैर

Antarvasna sex stories, desi kahani, hindi sex stories, chudai ki kahani,

हैलो फ्रेंड्स मेरा नाम राजुल है और में 21 साल की हूँ। मै नाईटडिअर की कहानी बहुत दिनों से पढ़ रही हूँ !! मुझे इसके बारे में अपनी फ्रेंड से पता चला !! दोस्तों मेरे घर पर कुल 5 सदस्य रहते है मम्मी, पापा, में, मेरी एक बहन और मेरा भाई और मेरा भाई 19 साल और बहन 18 साल की है, वो दिखनें मे बहुत सेक्सी है। उसके भी बहुत चाहनें वाले है। दोस्तों में दिखनें मे बहुत खूबसूरत हूँ और मेरी बहन भी बहुत खूबसूरत है, मेरी हाईट 5’4 इंच है और मेरा रंग गोरा है। मेरे बूब्स बहुत बड़े और बड़ी गांड है। मेरी साईज 32-34-36 है। मेरे कॉलेज मे मुझे सारे लड़के लाईन मारते है और मुझे देखकर अपनें लंड को हिला हिला कर पानी निकालते है। मेरे बॉयफ्रेंड का नाम रमेश है। मेरे भाई का नाम राजीव है और बहन का नाम श्वेता है।

दोस्तों ये उस समय की बात है जब मेरे मम्मी – पापा मामाजी के यहाँ पर किसी काम से गये हुए थे। तो वहाँ पर माँ को एक दिन अचानक एक बाइक नें टक्कर मार दी इसलिए माँ को वहाँ पर ही रुकना पड़ा साथ मे पापा भी रुक गये। अब में घर पर बिल्कुल फ्री थी। मुझे कोई रोकनें वाला नहीं था। अब में अपनें बॉयफ्रेंड से मिलनें जब मर्जी हो तब जा सकती थी। फिर एक दिन की बात है, में अपनें बॉयफ्रेंड के साथ फिल्म देखनें गयी थी। फिल्म देखनें के बाद हमारा चुदाई का प्लान था वैसे में कई बार उससे चुदवा चुकी थी।

फिर में जिस दिन से मम्मी – पापा गये थे उससे रोज चुदवाती थी। कभी उसके घर तो कभी मेरे घर पर जब मेरे भाई और बहन स्कूल जाते थे तो ठुकवा लेती थी। तभी एक दिन की बात है। मेरा भाई और बहन स्कूल गये हुए थे। तभी मैंनें अपनें बॉयफ्रेंड को घर पर बुला लिया और फिर कुछ देर बाद वो आ गया और हम साथ मे बैठकर बात करनें लगे। फिर धीरे धीरे हमनें अपनें पूरे कपड़े खोल दिए और वो मुझे किस करनें लगा फिर कुछ देर बाद उसनें मुझे चोदना शुरू किया और फिर वो मुझे जोर जोर से चोदता रहा में भी पड़ी पड़ी अपनें दोनों हाथो से कभी बूब्स कभी चूत को सहला कर चुदाई के मजे मे मस्त थी। मेरे मुहं से सिसकियां निकल रही थी में अहाहाहहाहै ऊऊहैहा रमेश और ज़ोर से चोदो मुझे और ज़ोर से फक मी फक मी कर रही थी। लेकिन मुझे पता ही नहीं चला कि कब मेरा भाई और बहन स्कूल से आ गये और वो मुझे चुदते हुए खिड़की से देख रहे थे।

अब रमेश मुझे जोर से पूरे जोश से चोदे जा रहा था कि तभी उसनें अपना सारा वीर्य मेरी चूत मे ही छोड़ दिया और फिर उसनें जल्दी से कपड़े पहनें और मैंनें उससे कहा कि अब तुम जल्दी से जाओ मेरे भाई बहन स्कूल से आते ही होंगे। तो फिर वो चला गया। तभी उसे जाता देख मेरे भाई बहन छुप गये थे ताकि रमेश को पता ना चले कि वो हमारी चुदाई देख रहे थे। अब मे नंगी ही पड़ी थी और बाथरूम मे चली गयी और अपनी चूत की सफाई करनें लगी।

शाम को जब हम सभी एक साथ बैठकर ख़ान खा रहे थे। तभी मेरी बहन मुझसे बोली कि दीदी आज दिन मे घर पर कौन आया था? तो मैंनें कहा कि कोई नहीं लेकिन तुम ऐसा क्यों पूछ रही हो? तो उसनें कहा कि बस ऐसे ही पूछ रही हूँ। तभी राजीव नें कहा कि दीदी आज दिन मे यहाँ पर जो कुछ भी हुआ है हमनें अपनी आँखो से सब कुछ देखा है। तभी में हड़बड़ा गयी और कहनें लगी कि क्या क्या क्या देखा तुम दोनों नें तो श्वेता बोली दीदी ज़्यादा बनो मत हमनें सब देखा कि कैसे आप और वो लड़का सेक्स कर रहे थे।

अब में बहुत घबरा गयी और कहनें लगी कि प्लीज़ किसी को बताना मत, तो वो बोली कि हम तो माँ को सब कुछ बताएँगे तो में उनके हाथ जोड़नें लगी कि प्लीज़ मत बताना में तुम जो बोलोगे वो करूँगी। तभी मेरा भाई बोला कि में तुम्हे और श्वेता को एक साथ चोदना चाहता हूँ। श्वेता तो पहले से ही राज़ी है लेकिन आप हमे परमिशन दो और तुम्हे भी चुदना होगा। मैंनें पहले तो नाटक किया फिर मान गयी। दोस्तों ये कहानी आप नाईटडिअर डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

फिर खाना खानें के बाद मे श्वेता और राजीव मेरे रूम मे आ गये और श्वेता नें राजीव के कपड़े और मेरे कपड़े खोल दिए और अपनें खुद के भी। फिर राजीव मुझे किस करनें लगा और श्वेता मेरी चूत चाट रही थी। अब मुझे बहुत मजा आ रहा था। मेरा भाई मेरे बूब्स दबा रहा था और उन्हे जोर जोर से चूस रहा था। मेरा भाई का लंड बहुत बड़ा था करीब 7 इंच का होगा और 2 इंच मोटा था। मेरे बॉयफ्रेंड रमेश का लंड इससे थोड़ा छोटा था।

तभी राजीव मेरे घुटनो पर आया और मेरी चूत मे अपना लंड डालनें लगा और उसनें अपना पूरा लंड जोर लगा कर डाल दिया मुझे ज़्यादा दर्द नहीं हुआ क्योंकि मेरी चूत पहले से ही पूरी खुली थी क्योंकि में रोज रमेश से चुदवाती थी। फिर राजीव मुझे ज़ोर ज़ोर से चोदनें लगा। तभी वो एकदम से स्पीड बड़ा कर चोदनें लगा और जोर के धक्को पे धक्के दिये जा रहा था कि अब हम तीनो के साथ साथ बेड भी पूरा हिलनें लगा था। शायद आज वो टूटनें वाला था। श्वेता मेरे बूब्स दबा रही थी और किस कर रही थी। फिर 15 मिनट बाद राजीव नें अपना सारा वीर्य मेरी चूत मे ही छोड़ दिया और मेरे ऊपर ही लेट गया इस दौरान में तीन बार झड़ चुकी थी। अब श्वेता नें राजीव का लंड अपनें मुहं मे लेकर फिर से लंड को खड़ा कर दिया और फिर श्वेता उसके ऊपर आ गयी और अपनी चूत मे उसका लंड फिट करके लंड के ऊपर बैठ गयी और ऊपर नीचे होनें लगी इससे मुझे पता चला कि श्वेता भी पहले कई बार चुद चुकी है। तभी तो उसनें इतनी आसानी से चूत मे लंड घुसा लिया। कुछ देर तक वो ऐसे ही चुदती रही और फिर राजीव उसके ऊपर आ गया और उसे पूरा जोर लगाकर चोदनें लगा। अब राजीव श्वेता की कमर को पकड़कर जोर जोर के धक्के देनें लगा और श्वेता सिसकियां लेनें और कहनें लगी चोदो मुझे और जोर से, तभी कुछ देर बार राजीव उसकी चूत मे ही झड़ गया और श्वेता भी दो बार झड़ चुकी थी।

फिर हम साथ साथ बेड पर लेट गये तो मैंनें कहा श्वेता तू पहले भी चुद चुकी है ना तो उसनें कहा हाँ दीदी। तो मैंनें कहा किसके साथ चुदी तो उसनें कहा कि में अपनें बॉयफ्रेंड के साथ और भाई के साथ। उसनें कहा कि जब आप बाहर चुदनें जाती थी तब मै और भाई घर पर ही चुदाई करते थे और भाई का एक दोस्त मुझे बहुत चोदता है। तभी मुझे ये जानकर बहुत हैरानी हुई कि राजीव अपनें दोस्त से श्वेता को चुदवाता है। तो मैंनें राजीव से कहा कि तू खुद चोदता है तो ठीक है लेकिन अपनें दोस्त से इसे क्यों चुदवाता है? तो वो कुछ बोलता उससे पहले ही श्वेता बोली कि भैया भी उसकी बहन को चोदता है। तो वो भी तो भैया की बहन को चोदेगा, तो में भी उससे चुदवाती हूँ।

तभी राजीव फिर से अपना लंड खड़ा करके फिर से मुझे चोदनें को तैयार हो गया, लेकिन मैंनें उसे कहा कि अब नहीं हम रात मे ये सब कुछ दोबारा करेंगे। तुम ये बात श्वेता को मत बताना हम दोनों ही अकेले चुदाई का मजा लेंगे और फिर में रात होनें का इंतज़ार करनें लगी। जब रात मे श्वेता सो गई तो मैंनें राजीव को दूसरे रूम मे बुला लिया। फिर उसनें आते ही मुझे किस करना शुरू कर दिया और में पागलो कि तरह उसे किस करनें लगी और वो मेरे होंठो को चूसनें लगा और अब धीरे से उसनें अपना एक हाथ मेरे बूब्स पर रख दिया और उसे दबानें लगा और साथ मे अपनें हाथ से मेरी चूत को सहला रहा था और बहुत देर तक उसनें मेरे बूब्स को चूसा, मुझे बहुत मज़ा आ रहा था।

अब मेरी बॉडी को चूमते चूमते नीचे आकर मेरी चूत को चाटनें लगा और अब मेरी जांघे फैला दी, फिर चूत को जीभ से चोदनें और चाटनें लगा। कुछ देर बाद चूत चाटनें के बाद उसनें लंड को हाथ से पकड़ कर चूत के मुहं पर लगाया और एक ही झटके मे अपना तना हुआ लंड जोर से मेरी चूत मे डाल दिया। तभी में बहुत जोर से चिल्लाई, उसनें मेरे मुहं पर अपना मुहं रखा और मेरे मुहं को अपनें मुहं से सील कर दिया। फिर राजीव मुझे ज़ोर ज़ोर से झटके देकर चोदनें लगा।

फिर करीब बीस मिनट तक राजीव मुझे चोदता रहा और अब थोड़ी देर बाद वो झड़नें लगा था। उसनें मेरी चूत मे अपना सारा वीर्य डाल दिया। मेरा दर्द थोड़ा कम हुआ और अब मुझे भी कुछ अच्छा लगनें लगा। में अभी भी राजीव के नीचे दबी हुई थी और वो अब तक मेरे ऊपर ही था और कुछ टाईम बाद वो नीचे आया और मुझे अपनी बाँहों मे भर लिया और किस करनें लगा और फिर वो बोला कि मेरी जान बहुत मज़ा आया तुम्हारी चुदाई मे और तुम्हे? अब मैंनें कहा कि राजीव मुझे बहुत डर लगता है, कहीं में प्रेग्नेंट हुई तो वो कहनें लगा कि मेरी जान में हूँ ना सब सम्भाल लूँगा।

फिर राजीव नें लाईट ऑफ की और मुझे अपनी बाँहों मे पकड़ कर बोला कि गुड नाईट अब आज के लिए बहुत है और अब हम सोते है। मैंनें कहा कि राजीव मुझे अपनें कमरे मे जानें दो, तो वो कहनें लगा कि आज से तुम मेरे साथ ही सोना, में तो रोज़ तुझे चोदुंगा मुझे किस करनें लगा और मेरे बूब्स मसलनें लगा और में उसके नीचे दबी हुई थी। अब वो मुझे चूमते चूमते ज़रा नीचे झुका और मेरे बूब्स को चाटनें लगा और बूब्स को जोर से मुहं मे लेकर चूसनें लगा। वाह क्या मेरी जान ये बूब्स कितनें प्यारे है। एक एक करके उसनें मेरे बूब्स को ज़ोर ज़ोर से चूसा। फिर वो मुझसे कहनें लगा कि मेरी जान मेरा लंड अपनें हाथ मे लेकर तुम उसे सहलाओ। अब मैंनें कहा कि में ऐसा नहीं कर सकती हूँ।

तभी वो चिल्लाया और मुझे कहनें लगा कि में जो कहूँ वैसा करो और तुझे इसके बाद मे लंड को चूसना भी है क्या तुम अपनें बॉयफ्रेंड का लंड नहीं चूसती? फिर मैंनें कहा नहीं अब उसनें मुझे ज़ोर से बैठा दिया, फिर मैंनें उसका लंड अपनें हाथ मे लिया और सहलानें लगी और अब ऐसे ही कुछ टाईम बाद मेरे बूब्स को चूसनें के बाद वो उल्टा हुआ और अपना लंड मेरे मुहं के सामनें रखा और अब कहनें लगा कि मेरी जान इसे अपनें मुहं मे लेकर चूसो और तुम्हे मेरा लंड तो रोज़ ही चूसना है। मुझे अच्छा नहीं लगा था फिर भी में उसका लंड मुहं मे लेकर चूसनें लगी और वो मेरी चूत चूस रहा था। मेरी लाईफ मे पहली बार में ऐसा कर रही थी। राजीव बोला ज़ोर से चूसो में ज़ोर से चूसनें लगी, तभी मेरी चूत से पानी निकलना शुरू हुआ और राजीव वो आराम से पीनें लगा और उसनें मेरे मुहं मे अपना वीर्य छोड़ दिया। फिर मुझे भी वो पीना पड़ा था और अब राजीव नें मुझे अपनी बाँहों मे लिया और मुझे चूमनें लगा। वो कहनें लगा कि मेरी जान तू तो बड़े अच्छे तरीके से चूसती है बहुत मज़ा आया अब तो रोज़ इसी तरह लंड को चूसना और में तेरी चूत को चाटूंगा।

तभी मैंनें राजीव को कहा कि अब मुझे जानें दे, तभी वो कहनें लगा कि मेरी जान अब तो रोज़ रात मेरे साथ तुझे एक ही बिस्तर मे गुजारनी है। फिर राजीव मेरे ऊपर चढ़ गया और अपना तना हुआ लंड मेरी चूत मे ज़ोर से डाल दिया, तभी मेरे हाथों को चूमते चूमते मुझे झटके देकर चोदनें लगा। अब ज़ोर ज़ोर से झटके देता ही जा रहा था। राजीव का लंड मेरी चूत के अंदर घूम घूम कर चुदाई कर रहा था। तभी राजीव नें अपनी स्पीड बड़ा दी वो और तेज़ी से चोदनें लगा उसनें करीब आधे घंटे तक मुझे चोदा। उसनें मुझे चाँद तारे दिखा दिये थे। ऐसे तो मुझे मेरे यार नें भी नहीं चोदा था।

फिर करीब बीस मिनट बाद में झड़नें लगी लेकिन वो नहीं रुका, तभी कुछ देर बाद चुदाई करते करते उसकी स्पीड और बड़ गई। तभी मुझे लगा कि शायद वो भी अब झड़नें वाला है और फिर वो मेरी चूत मे ही झड़ गया और सारी चूत अपनें वीर्य से भर दी। जैसे ही चूत मे लंड से वीर्य गिरा मुझे ना जानें क्या हुआ, में पूरी अकड़ गई और तभी उसकी स्पीड भी कम हुई। फिर कुछ देर बाद लंड अपनें आप ही चूत से बाहर आ गया छोटा हो कर। उस रात नींद मे से उठकर उसनें मुझे कई बार चोदा मेरी चूत फाड़ी और कई बार मेरी गांड भी लेकिन अब में उससे बहुत खुश थी। फिर हम रोज चुदाई करनें लगे आज श्वेता के कई बॉयफ्रेंड है और वो उनसे चुदवाती है और में भी अपनी फ्रेंड्स को अपनें भाई से चुदवाती हूँ और भाई के दोस्तो से चुदती हूँ ।।

धन्यवाद …

जो कहानियाँ अभी पढ़ी जा रही हैं

loading...
error: Protected