loading...

पड़ोस की दीदी को उनके घर में जाकर चोदा

Antarvasna sex stories, desi kahani, hindi sex stories, chudai ki kahani

मैंनें बिना कोई समय गवांए उनका सर अपनी गोद में रखा और उनकी मैक्सी को पकड़ कर नीचे से ऊपर की तरफ खींच दिया और फिर उसे उनके बदन से अलग कर दिया| अब वो सिर्फ काली ब्रा और लाल पैन्टी में मेरे सामनें थीं| जिस दृश्य को देखनें के लिए मैं बरसों से इंतजार कर रहा था, वह अब मेरे सामनें था…

नमस्कार अन्तर्वासना के मेरे प्यारे दोस्तों| दोस्तों मेरा नाम आर्यन है और मैं कानपुर का रहनें वाला हूं| मेरी यह कहानी मेरे और एक दीदी के बीच घटी एक सच्ची घटना है| उन दीदी का नाम बेबी था| ये बात उस समय की जब मैं इण्टर में पढ़ता था|

चलिए कहानी शुरू करनें से पहले मैं आपको बेबी दीदी की बारे में थोड़ा सा बता देता हूँ| मेरा एक चचेरा भाई था, जिसका नाम गौरव था| वह सहारा बीमा का काम करता था| बेबी दीदी मेरे पड़ोस में ही रहती थीं और मेरे चचेरे भाई गौरव की सहारा कस्टमर थीं इसलिए वो अक्सर घर पर आ जाया करती थीं| जब भी मैं उन्हें देखता तो मेरा मन उन्हें चोदनें के बारे में सोचनें लगता था|

एक दिन मेरी किस्मत नें मेरा साथ दिया, मेरे परिवार वाले सभी लोग एक दिन के लिये कहीं बाहर चले गए थे लेकिन मैं नहीं गया था, क्योंकि मुझे अपना गणित का काम करना था और बड़ी मम्मी नें मुझसे कह दिया था कि बेबी दीदी के घर जा कर खाना खा लेना| मैंनें वैसा ही किया| मैं अपना सारा काम खत्म कर के बेबी दीदी के यहाँ चला गया|

जब मैं बेबी दीदी के यहां पहुँचा तो उनके यहाँ भी कोई नहीं था और बेबी दीदी तखत पर सिर्फ मैक्सी पहनें सो रही थीं| मैंनें सोचा चलो अच्छा हुआ, आज तो मेरी किस्मत चमक गयी| यह सोच कर मैं अंदर चला गया और धीरे से उनके घर का दरवाजा बंद कर दिया और फिर उनके बगल में जाकर लेट गया और अपनें पैरों से धीरे – धीरे करके उनकी मैक्सी को ऊपर करनें लगा|

जब मैं उनकी मैक्सी को ऊपर कर रहा था तो मुझे लगा कि बेबी दीदी जाग गयी हैं, लेकिन अभी वो सोनें का नाटक कर रही हैं| लेकिन मुझे अभी भी डर लग रहा था| तभी उन्होंनें मेरे मुँह की तरफ करवट ली और अपनें बूब्स को मेरे मुँह की ओर कर दिया| लेकिन वो तो मैक्सी के अंदर थे| खैर, फिर मैंनें हिम्मत करके धीरे से अपना हाथ आगे बढ़ाया और उनके बोबों को धीरे से छूनें लगा|

इतनें में उन्होंनें अपनी आंखें खोल दिया और कहनें लगी – आर्यन थोड़ा तेज दबाओ न|

मैं समझ गया कि वो गरम हो चुकी है| मैंनें भी मौका न गवांते हुए तुरन्त कहा – पहले अपनी मैक्सी को उतारो|

मेरा इतना कहनें पर उन्होंनें पलट कर कहा – अपनें आप ही उतार दो न|

मैंनें बिना कोई समय गवांए उनका सर अपनी गोद में रखा और उनकी मैक्सी को पकड़ कर नीचे से ऊपर की तरफ खींच दिया और फिर उसे उनके बदन से अलग कर दिया| अब वो सिर्फ काली ब्रा और लाल पैन्टी में मेरे सामनें थीं| जिस दृश्य को देखनें के लिए मैं बरसों से इंतजार कर रहा था, वह अब मेरे सामनें था|

उन्हें इस स्थिति में देख कर अब मेरा अपनें ऊपर से कंट्रोल खत्म होता जा रहा था| मैं उनके ब्रा के ऊपर से उनके चूचों को चूसनें लगा| इस दौरान दीदी नें पैंट के ऊपर से ही मेरे लन्ड को पकड़ लिया और दबानें लगीं| मुझे तो सच में बहुत ही ज्यादा मजा आ रहा था| करीब 5 मिनट तक ऐसे ही उनके बोबे चूसनें के बाद मैं ऊपर की तरफ आ गया और उनके नरम गुलाबी होंठों पर मैंनें अपनें होंठ रख दिया और उनके गुलाब की पंखुड़ियों के जैसे होंठों को चूसनें लगा| वो भी मेरा पूरा साथ दे रही थीं और मेरे होंठों को बहुत ही मस्ती में चूस रही थीं|

इस तरह हम करीब 10 मिनट तक लिप किस करते रहे| इस दौरान मैंनें अपनी जीभ को भी उनके मुंह में डाल दिया था और उन्होंनें मेरी जीभ को भी बहूत ही अच्छे से चूसा था| इसके बाद फिर हम अलग हुए और उन्होंनें उठकर मेरी शर्ट और पैन्ट को भी उतार दिया| अब मैं भी सिर्फ अंडरवियर में था|

अब मैंनें बिना देर किए उनकी ब्रा को खींच कर उतार दिया और बेबी को पकड़ कर उनके बूब्स को जोर – जोर से दबानें लगा| जिससे वो एक दम जोश में आ गई थीं और आह – आह करनें लगीं| फिर उन्होंनें अपनी पैन्टी को भी उतार दिया और उन्होंनें मुझसे कहा – आर्यन, अब मुझसे रहा नहीं जा रहा है| चोद दो मुझे अब और मत तड़पाओ|

उनकी खुली हुई नंगी और चिकनी चूत देख कर मुझसे रहा न गया और मैंनें अपना मुँह उनकी चूत पर लगा दिया और उनकी चूत को चाटना शुरू कर दिया| जिससे वो आह आह ऊँह ऊँह की आवाज करनें लगी थीं और फिर बोलीं – कब डालोगे अपना लन्ड मेरी चूत में जब मैं झड़ जाऊंगी तब?

उनके मुंह से यह सुन कर मैंनें भी देर करना ठीक न समझा क्योंकि मेरा लंड भी उनकी चूत को फाड़नें के लिए तड़प रहा था| मैं तुरंत ही सीधा हुआ और अपनी अंडरवियर निकाल दी और फिर मैंनें बेबी की दोनों टांगों को फैलाया और अपनें लंड को उनके चूत के मुँह पर रख दिया और हौले – हौले रगड़ना शुरू कर दिया|

उनकी चूत पहले से ही पनियाई हुई थी| मेरे लन्ड रगड़नें से वह और भी गीली हो गई| फिर मैंनें एक हल्के से धक्का लगाना शुरू किया| पहले धक्के में मैंनें अपना आधा लंड उनकी चूत के अंदर कर दिया था और जैसे ही मैंनें दूसरा धक्का मारा मेरा लंड उनकी सील को तोड़ते हुए पूरा अंदर चला गया| सील टूटनें की वजह से उनकी चूत से खून और मुँह से दर्द भरी हुई आह – आह की आवाजें निकल रही थीं|

कुछ देर तक मैंनें धीरे – धीरे धक्के लगाए| फिर जब उन्हें मजा आनें लगा और वो अपनी गांड़ उठा – उठा कर चुदवानें लगीं तो मैंनें अपनें धक्के तेज कर दिए| अब उन्हें बहुत मजा आ रहा था और वो कह रही थीं – फक मी, फक मी हार्ड आर्यन|

अब मैंनें उन्हे पकड़ा और उनके बूब्स दबाते हुए चोदनें लगा| वो आह आह आआह करते हुए चिल्ला रही थीं| मैंनें उनके बूबों को खूब दबाया और उन्हें चोदता रहा| कुछ देर बाद वो झड़ गयी| फिर भी मैं उन्हें चोदता रहा और अब थोड़ी देर बाद मैं भी झड़नें वाला था| अब मेरा वीर्य निकलनें लगा| मैंनें अपनें वीर्य की एक पिचकारी उनकी चूत में ही मार दी और फिर लन्ड को बाहर निकाल लिया|

इसके बाद बेबी दीदी नें मेरा लंड अपनें मुँह में लेकर चूसना शुरू कर दिया और चूसते – चूसते मैंनें बाकी का वीर्य उनके मुँह में छोड़ दिया| इस प्रकार यह खेल करीब 5 घंटे तक आह आह ऊँह ऊँह की आवाजों के साथ चलता रहा, फिर मैं वापस अपनें घर आ गया|

loading...
error: Protected