loading...

पापा ने की मेरी यादगार चुदाई

.

Antarvasna sex stories, desi kahani, hindi sex stories, chudai ki kahani,

आज मैं आपको अपनें एक दोस्त की कहानी उसी की ज़ुबानी सुनाता हूँ.जो उसनें मुझे मैल की है.

मेरा नाम राहुल है.मेरे परिवार में मेरी बीवी दिव्या एज 42एअर,2 बेटियाँ प्रियंका एज 20,अनुष्का(अनु) 18 साल है.मैं राजशर्मास्टॉरीज की कहानियाँ अपनें ऑफीस कंप्यूटर पर खाली समय में पढ़ता रहता हूँ और इसलिए मेरे मन में भी कभी कभी अपनी छोटी बेटी अनुष्का जो कि सरीर में काफ़ी हशट पुष्ट है को लेकर ग़लत विचार आते रहते थे.लेकिन मैं अपनें रिस्ते के बारे में सोचकर अपनें मूड को डाइवर्ट कर लेता था. मेरे घर के पास रहनें वाले एक दोस्त की बीवी डिंपल के साथ संबंध भी है मैं उसके घर समय निकालकर चुपके से जाता रहता हूँ .

अब मैं अपनी स्टोरी पर आता हूँ.मेरी दोनो बेटिओं की स्कूल की छुट्टियाँ थी.छोटी बेटी अनुष्का को फीवर था और दिव्या के मायके में एक शादी थी.दिव्या नें बोला कि मैं प्रोग्राम कॅन्सल कर देती हूँ.तो मैनें कहा कोई बात नहीं,तुम जाओ लेकिन शादी अटेंड करते ही आ जाना.तो वो बोली 2-3 दिन तो लग ही जाएँगे,तो मैनें कहा कोई बात नहीं लेकिन जल्दी आनें की कोशिश करना.और अगले दिन वो बड़ी बेटी को साथ लेकर मायके सुबह 06.00 पर ही चली गयी.घर में अब मैं और मेरी बेटी के अलावा कोई नहीं था और मेरी बेटी को सुबह 9-10 बजे तक जागनें की आदत है.

मैनें अपनें दोस्त की बीवी डिंपल को फोन किया कि कहाँ हो वो पार्क में मॉर्निंग वॉक के लिए आई थी तो मैनें कहा मेरे घर आजाओ,दिव्या मायके गयी है.वो जल्दी से आ गयी.मैं उसको पहली बार अपनें घर पर बुलाया था.डिंपल बोली अनुष्का तो यहीं है.मैनें कहा वो तो 9-10 बजे तक जागेगी तब तक तो हमारा गेम हो जाएगा.और मैं उसको अपनें कमरे में ले गया.अपनें कमरे का गेट बंद किया और डिंपल के मस्त 32-30-34 शरीर का मज़ा लेनें लग गया.थोड़ी देर बाद ही किसी नें गेट नॉक किया हम दोनो ही डर गये दोनो नें जल्दी जल्दी से अपनें कपड़े पहनें और मैनें डिंपल को बेड के नीचे छुपा दिया.जब मैनें गेट खोला तो देखा अनुष्का बाहर खड़ी है.उसनें पूछा पापा अंदर कौन है ,मोम और दीदी तो चले गये,आप किससे बातें कर रहे थे.मैनें हकलाते हुए बोला कोई नहीं.लेकिन मेरे बोलनें के अंदाज से उसको शक हो गया कि कोई है.वो सीधे बेड के पास झाँकनें लगी और अंदर देखकर बोली डिम्पी आंटी,उसनें बोला बाहर निकलो वो जब बाहर निकली तो देखा उसके शरीर पर एक भी कपड़ा नही था.और उसकी चूत और पेट पर मेरा वीर्य सॉफ दिखाई दे रहा था.अनुष्का बोली डिम्पी आंटी आप अभी यहाँ से चली जाओ वरना बहुत बुरा होगा.वो चुपचाप वहाँ से चली गयी.लेकिन अनुष्का मुझसे कुछ नहीं बोली.जब वो चली गयी तो मैं अनु के रूम में गया और उसे बोला सॉरी अनु बेटा ग़लती हो गयी.

वो बोली ये क्यूँ किया आपनें,आप मोम के पीछे ये सब करते हो मैं मोम को ये सब बताउन्गि.मैनें कहा अनु मोम को मत बताना प्लीज़.तो वो बोली क्यूँ नही बताउ. तो मैनें कहा ठीक है तुम्हारी मर्ज़ी है लेकिन तुम्हारी मोम मेरे साथ नही सोती है अक्सर तुम लोगों के साथ ही सोती है और मेरा ख्याल नहीं रखती तो मैं क्या करूँ बताओ. वो शांत रही और कुछ नहीं बोली और मैं भी वहाँ से अपनें कमरे में चला आया.मैं अब यही सोचता रहा कि अगर अनु नें सब कुछ बता दिया तो क्या होगा.अब मेरे दिमाग़ में विचार आनें लगे कि कैसे मैं अपनी बेटी को बतानें से रोकू.मेरे पास एक ही रास्ता था कि उसकी भी कोई ग़लती हो तो मैं उसको ये बात मेरी बीवी को बतानें से रोक पाउ.मगर मेरे पास उसका कुछ नहीं था.वो तो मुझसे अब बात करनें के लिए भी तैयार नही थी.मैं सोचता रहा कि उससे बात करनें का कोई रास्ता निकले जिससे उसका दिल नरम हो जाए.

अनु अभी तक नॅचुरल कॉल्स के लिए बाथरूम मे नही गयी थी.मेरे दिमाग़ मे एक आइडिया आया उसके मुताबिक बाथरूम मे वॉश बेसिन और टाय्लेट शीट के पास मोबाइल आयिल फैला दिया और बाथरूम के बाहर अपनें वो स्लीपर रख दिए जिनसे तो मैं कई बार नॉर्मल फर्श पर भी स्लिप हो गया था.मेरा आइडिया था कि अगर वो स्लिप हुई तो उसके चोट ज़रूर लगेगी और उसकी देखभाल तो मुझे ही करनी होगी.और देखभाल करते करते अनु को मनानें का चान्स लेकर देखते हैं.मैं अपनें रूम में जाकर बैठ गया और उसका बाथरूम जानें का इंतजार करता रहा.अनु थोड़ी देर बाद ब्रश लेकर बाथरूम की ओर बढ़ी उसकी तबीयत तो ऐसे ही ठीक नहीं थी कमज़ोरी भी थी उसनें वही स्लीपर पहनें और जैसे ही अंदर घुसी मुझे एक ज़ोर की आवाज़ सुनाई दी.वो स्लिप हो गयी थी.मैनें देखा कि वो पीठ के बल गिरी हुई है,उसकी राइट कोहनी से ब्लड निकल रहा है और अपनें कूल्हे को पकड़ कर आआआआआआः आआआआआआआआहह कराह रही है,आँखों मे आँसू आ रहे हैं उसकी स्कर्ट उपर उठी हुई है उसकी गोल भरी हुई दूधिया जांघें और चॉकलेट कलर की पैंटी जो सॉफ दिखाई दे रही थी मेरा दिमाग़ खराब करनें लगी जबकि मैनें अपना प्लान उससे बात करके उसे समझानें के लिए बनाया था .

मैनें उसे पूछा क्या हुआ.वो बोली स्लिप हो गयी.मैनें पूछा कहाँ लगी वो बोली राइट हॅंड में और हिप के पास.मैनें बोला चलो खड़ी हो जाओ.उसनें उठनें की कोशिश की तो उसको दर्द और बुखार की कमज़ोरी के कारण से चक्कर आनें लगे वो वहीं पर बैठ गयी तो मैनें कहा क्या हुआ तो वो बोली पापा सिर घूम रहा है चक्कर आ रहे हैं.तो मैनें कहा चल मैं तुझको बेड पर लिटा देता हूँ.जब मैनें उसको उठानें के लिए राइट हॅंड को पकड़ कर उसको गोदी मे लेना चाहा तो उसको बहुत दर्द हुआ और वो बोली पापा नही ऐसे तो काफ़ी दर्द हो रहा है.मैनें उसको फिर से फर्श पर बैठा दिया और गोदी की बजाय उसको सीधे खड़े खड़े उठनें के लिए बोला.वो मेरा सहारा लेकर खड़ी हो गयी.मैनें उसको अपनें से सटा लिया और उसके 32 इंच बूब्स का स्पर्श महसूस करनें लगा.

मैनें जान भूजकर उसकी स्कर्ट को उपर उठाकर ही अपनें कंधे पर उठा लिया.अब उसके बूब्स मेरे कंधों से उपर और उसकी चॉकलॅटी पैंटी वाला पिछवाड़ा मेरे राइट हॅंड से उठाया हुआ था.मैनें जानभूजकर उसको अपनें राइट हॅंड से हिप के पास प्रेस किया जहाँ उसको चोट लगी थी.अनु बोली पापा आराम से उठाओ चोट लगी है.मैनें कहा कहाँ.वो बोली हिप के पास तो मैनें उसके हिप को लेफ्ट हॅंड से टच करके सहलाते हुए बोला यहाँ. तो बोली हां पापा.मैनें कहा कोई बात नहीं कोई क्रीम लगा देंगे.और मैनें उसको बेड पर लेटा दिया.आगे क्या हुआ इसके बारे में मैं आपको अपनी नेंक्स्ट स्टोरी में बताऊँगा

loading...
error: Protected