loading...

पापा ने की मेरी यादगार चुदाई पार्ट -2

Antarvasna sex stories, desi kahani, hindi sex stories, chudai ki kahani,

मैनें उसको उठाकर बिस्तर पर लिटा दिया. उसको हिप और राइट हॅंड में काफ़ी चोट लगी थी आगे क्या हुआ कंटिन्यू…………….. मैनें अनु को बेड पर लिटा दिया और बोला अनु क्रीम लगा दूं तो वो बोली हां पापा लगा दो मैं एक क्रीम लेकर आ गया मैनें अनु से पूछा बेटा दिखाओ कहाँ लगी है लगा देता हूँ.वो झेन्प सी गयी और बोली नही पापा मैं लगा लूँगी और अपना राइट हॅंड आगे बढ़ानें की कोशिश की लेकिन मूह से आअहह की आवाज़ लगाते हुए रुक गयी.

उसका राइट हॅंड जाम सा हो गया था अब उसनें अपना लेफ्ट हॅंड बढ़ाया और क्रीम अपनें हाथ में लेकर खोल दी और अपनें पिछवाड़े को मुझसे छुपानें की कोशिश करते हुए लेफ्ट हॅंड से अपनें राइट हिप को क्रीम से मालिश करनें की कोशिश करनें लगी लेकिन उससे ठीक तरह से मालिश नही हो पा रही थी और थोड़ा ट्विस्ट होनें की वजह से उसको दर्द भी हो रहा था और वो दर्द के कारण बार बार चहेरे के एक्सप्रेशन भी बदल रही थी

मैनें उसके हाथ की तरफ हाथ बढ़ाया और उसके हाथ से क्रीम छीन ली और बोला क्यूँ संकोच कर रही है बेड पर लेट जा मैं लगाए देता हूँ ऐसे भी एक हाथ से कितनी देर मालिश करेगी थक जाएगी चोट बहुत है और इस क्रीम को काफ़ी देर मालिश करनें से ही असर होगा चल ज़िद मत कर मुझसे कैसी शरम.

अनु ना चाहते हुए भी बेड पर लेट गयी मैनें उसको पेट के बल लेटनें के लिए बोला वो पेट के बल लेट गयी मैनें उसकी स्कर्ट को उसकी कमर पर चढ़ा दिया और उसकी पैंटी को राइट साइड से थोड़ा नीचे खिसका दिया मैनें उसकी पैंटी थोड़ी ही खिसकाई जिससे उसको शरम महसूस ना हो मैनें थोड़ी सी क्रीम निकाली और उसके हिप पर लगा दी और हल्के हाथ से मालिश करनें लगा उसके दोनो हिप्स के बीच का कट थोड़ा दिखाई दे रहा था जिसकी वजह से मेरा दिमाग़ खराब होनें लगा मैं मालिश कर रहा था तो उसकी पैंटी बार बार उपर खिसक आती थी और मैं उसको फिर से वहीं थोड़ा सा कर देता था

मैनें अनु से पूछा बेटा आराम मिल रहा है बेटा वो बोली पापा कोई फरक नही है तो मैनें बोला कई दिन तक अच्छी मालिश करनी पड़ेगी तभी आराम मिलेगा मैनें उससे बातें करते करते इस बार उसकी पैंटी को थोड़ा और नीचे खिसका दिया अब उसकी हिप्स की दरार आधे से भी ज़्यादा दिखाई दे रही थी मैं मालिश करते करते उसको उत्तेजित करनें की कोशिश करनें लगा मैं बीच बीच मे उसकी दरार मे हाथ लगाता रहता और जैसे ही उसकी हिप की दरार पर हाथ लगता वो हिप्स को हल्का सा सिकोड लेती थी मैं ऐसा बार बार करता और वो भी बार बार अपनें चुतडो को सिकोड लेती थी.

थोड़ी देर बाद मैनें फिर उससे पूछा बेटा कैसा लग रहा है थोड़ा आराम मिल रहा है क्या.तो वो बोली हां पापा ठीक है लेकिन अब रहनें दो तो मैनें कहा ठीक है लेकिन अब तुम्हे इस क्रीम से दिन में 3-4 बार मालिश करनी होगी वो बोली ठीक है पापा.और मैनें फिर से एक बार उसके हिप पे मजाकिया अंदाज में थप्पड़ लगाते हुए बोला चल अब आराम कर ले वो मेरी तरफ नीचे से उपर की तरफ उठते हुए मुस्करा दी वो पलटी और अपनी पैंटी उपर चढ़ा ली और जब वो अपनी स्कर्ट को डाउन कर रही थी तो मैनें देखा उसका आगे का हिस्सा गीला था मैं समझ गया कि मेरे स्पर्श से उसको सेक्स का अनुभव हुआ है मैं वहाँ से खड़ा हो गया और अपनें कमरे में चला गया थोड़ी देर बाद वो सो गयी और मैं फिर से उसके पास पहुँच गया .

वो करवट के बल सो रही थी और उसका राइट हिप उपर की तरफ था मैं फिर से क्रीम लेकर उसके पास पहुँचा और उसकी स्कर्ट उपर कर दी और उसकी पैंटी को इस बार तो दोनो हिप की तरफ से ही नीचे कर दिया उसके दोनो हिप्स मेरे सामनें थे मैनें थोड़ी सी क्रीम ली और मालिश करना शुरू कर दिया मैनें थोड़ा आगे की तरफ धकेला तो उसकी चूत के उपर के छोटे छोटे बाल साफ दिखाई दे रहे थे लेकिन चूत नही दिख रही थी मैं धीरे धीरे उसके हिप्स को ही सहलाता रहा और कभी कभी अपना एक हाथ उसके आगे के बालों पर भी घुमा देता.उसके बूब्स पर जो कि नॉर्मल आकार के मालूम पड़ते थे उनपर भी मैं टच करनें लगा मुझे उसकी साँसों से महसूस हुआ कि वो जाग गयी है लेकिन उसनें अपनी आँखें बंद की हुई हैं

मैं एक हाथ से उसके हिप की मालिश कर रहा था और एक हाथ से उसके दोनो हिप्स को बड़े प्यार से सहला रहा था मैं काफ़ी देर तक ऐसे ही उसकी मालिश करता रहा लेकिन मैं इससे ज़यादा आगे नही बढ़ा मुझे डर था कि कहीं बात बिगड़ ना जाए और मैनें उसकी पैंटी को फिर से उपर कर दिया और वहाँ से उठ खड़ा हुआ और वो भी थोड़ी देर बाद जाग गयी मैं दोबारा से कमरे में गया और अनु से पूछा बेटा कैसी हो.

अनु बोली पापा ठीक हूँ मैनें उसको बोला बेटा ऐसे ही ठीक थोड़े ही हो मैनें तुम्हारी एक बार और मालिश की थी जब तुम सो रही थी अनुष्का बोली हां पापा मुझे भी लगा कि आपनें मालिश की थी.मैनें उससे बोला देखा बेटा मैं तुम्हारा कितना ख्याल रखता हूँ और तुम हो कि मेरा ख़याल ही नही रखती हो. अनु बोली कैसे पापा? मैं बोला कि तुम को मेरी खुशी अच्छी ही नही लगती इसीलिए तुम मेरे बारे मे सब कुछ अपनी माँ को बताना चाहती हो वो बोली नही पापा मैं तो सिर्फ़ आपको डरा रही थी जिससे आप ऐसी औरत के चक्कर मे ना पडो इस पर मैनें चुटकी लेते हुए कहा कि अगर मुझे पता होता कि तुम सिर्फ़ मुझे डरा रही हो तो मैं तुम्हारी डिम्पी आंटी को दोपहर को फिर बुला लेता इस पर वो मुस्कुरा दी और बोली पापा ये सब ठीक नही है.

अगर बाहर किसी को पता चलेगा तो हम लोगों की बदनामी होगी इस पर मैनें कहा कि तुम्हारी बात तो ठीक है लेकिन मेरा क्या मैं क्या करूँ तुम्हारी मोम मेरा ख्याल रखती नही मुझे देती ही नही इस वर्ड की मुझको देती ही नही सुनकर अनु नें अपना सिर नीचे झुका लिया और बोली तो क्या हुआ इस पर मैनें बोला तो क्या हुआ बेटा ये सेक्स ऐसी चीज़ है जिस में लोग कुछ भी कर सकते है और तुम बोल रही हो तो क्या हुआ?

वो चुप हो गयी और कुछ नही बोली दोनो ही शांत हो गये. फिर मैनें उससे कहा कि बेटा क्या तुम्हारे लिए कुछ बना दूँ भूख लगी होगी वो बोली हां पापा भूक तो लगी है लेकिन आज तो मैनें स्नान भी नही किया है तो मैं बोला तो अब कर लो इस पर वो बोली कि पापा मैं कैसे नहा पाउन्गी ऐसी हालत मैंमेरा राइट हॅंड तो बिल्कुल काम ही नही कर रहा और उठनें बैठनें के लिए भी आपके सहारे की ज़रूरत है.

तो मैनें कहा कि मैं तुम्हारी मदद कर दूँगा. अनु बोली पापा मैं आपके सामनें कैसे नहाऊंगी मैनें कहा जैसे बचपन में नहाती थी.वो शर्मा गयी और बोली नही पापा ऐसा करती हूँ कि गीले कपड़े से शरीर पोंच्छ लेती हूँ और कपड़े चेंज कर लेती हूँ आप उसी में मेरी मदद कर देना मैं बोला ठीक है और उसनें वहीं से बोला पापा सामनें कपबोर्ड मैं मेरे अंडर गारमेंट्स हैं थोड़ा दे दो मैनें कपबोर्ड में देखा 03-04 कलर्स की पैंटी और ब्रा उसमें थे ब्लॅक कलर की पैंटी और ब्रा भी थे जो कि नेंट मे थे उनमें शरीर छुपानें के लिए कुछ नहीं था तो मैनें उससे पूछा कौन से वाले तो उसनें कहा पापा ब्लू वाले दे दो तो मैनें कहा मुझे तो ये ब्लॅक वाले अच्छे लग रहे हैं आज इनको ही पहनो और उनको लेकर उसके सामनें खड़ा हो गया उसनें मेरे हाथ से झेन्पते हुए उनको ले लिया और बोली पापा आप बहुत गंदे हो इस पर मैनें कहा क्यूँ अनु?

अनु बोली आपनें वही लिए हैं जिनमें सबसे ज़्यादा दिखाई दे. तो मैनें बोला हां अनु मैं भी तो देखूं कि मेरी बेटी कितनी सुंदर दिखती है ऐसे कपड़ों में.

वो बोली मुझे शरम आएगी इनको आपके सामनें पहिननें में प्लीज़ ब्लू वाले ले लो ना अब मुझे लगनें लगा था कि अनु मेरी हरकतों से थोड़ा थोड़ा उत्तेजित होनें लगी थी और अगर ऐसा ही चलता रहा तो बात बन सकती है वो फिर बोली पापा पापा थोड़ा मुझे खड़ा कर दो मैनें उसे अपनी बाहों में भर लिया उसकी चुचियाँ मेरे सीनें से सटी हुई थी और मेरे दोनो हाथ उसकी पीठ को पकड़े थे मैं उसको लेकर खड़ा हो गया वो मेरे सामनें थोड़ी सी संभलकर खड़ी हो गयी और खड़ी होकर स्कर्ट में से लेफ्ट हॅंड की सहायता से पैंटी को खिसकानें लगी और उसे उतारनें मे सफल भी हो गयी उसे पता था कि वो बिना मेरी मदद के उसे पहन नही सकती है मैं उसके पास गया और बोला पैंटी लाओ उसनें तुरंत अपनी ब्लॅक पैंटी मुझे दे दी.

मैं उसके नीचे बैठ गया जब मैं नीचे बैठा तो मैनें देखा उसकी उतरी हुई पैंटी आगे से गीली है क्यूंकी उसकी चूत का माल मैनें जब मालिश की थी तो एग्ज़ाइट्मेंट की वजह से निकला होगा और शायद अब भी वो मेरे बिहेव से ऐसा ही फील कर रही है. अब मैनें उसे अपनें कंधे पर हाथ रखनें को बोला उसनें अपना हाथ मेरे कंधे पर रख दिया और अपना लेफ्ट पैर थोड़ा उपर कर लिया ताकि मैं उसकी पैंटी को उसमें पहना सकूँ मैनें उसकी पैंटी को जैसे ही उसके पैर में फसाया उसकी स्कर्ट थोड़ी सी और उपर हो गयी और मुझे उसकी मुनिया के दर्शन हो गये उसकी छोटी सी मुनिया को देखते ही मेरे चेहरे का कलर बदल गया जिससे अनु को भी मालूम हो गया कि मैनें उसकी चूत को देख लिया है लेकिन वो क्या करती कुछ नही बोल पाई.

मैनें जब उसकी पैंटी को उपर खिसकाया तो उसकी मुनिया को भी हल्का सा टच किया. अनु मेरे हाथ के टच होते ही थोडे से झटके से काँपी सी थी अब उसकी ब्रा की बारी थी उसनें बोला पापा पहले शरीर और बॅक गीले कपड़े से पोंच्छ दो मैं एक गीला कपड़ा लाया और उसनें अपनी टॉप उतार दी और मेरे सामनें अपनी पीठ करके खड़ी थी.

मैनें उससे बोला इसको ब्रा नही उतारना क्या ऐसे ही सॉफ करना है क्या वो बोली पापा आप सिर्फ़ पोछ दो मैं अपनें आप पहन लूँगी मुझे पता था कि वो शरम की वजह से बोल रही है लेकिन मुझे ये भी पता था कि वो ब्रा अपनें आप नही पहन पाएगी मैनें उसकी गोरी पीठ को पीछे से गीले कपड़े से सॉफ कर दिया अब मैनें अपना हाथ पीछे से ही उसके पेट की तरफ बढ़ा दिया जैसे ही मेरा हाथ उसके पेट को टच किया वो फिर काँप सी गयी मैनें उससे पूछा क्या हुआ बेटा वो बोली कुछ नही पापा और बोली पापा अब रहनें दो आप थोड़ा बाहर चले जाओ मैं इसको पहन लूँगी इस पर मैं बोला ठीक है और बाहर चला गया मैं बाहर खिड़की से देखता रहा उसकी पीठ मुझे दिखाई दे रही थी उसनें अपनें लेफ्ट हॅंड की मदद से ब्रा को उतारा और नेंट वाली काली ब्रा को पहननें की कोशिस करनें लगी वो लगभग 05 मिनिट तक प्रयास करती रही लेकिन उससे उसका हुक बंद नही हुआ इतना सब देखकर मैं पीछे से वहाँ पहुँच गया और उसके हुक को बंद कर दिया इस पर वो बोली थॅंक यू पापा आप कितनें अच्छे हो मेरा कितना ख्याल रखते हो इस पर मैं फिर बोला और तुम मेरा कितना ख़याल रखती हो बोलो? इस पर वो बोली पापा मैं भी आपका बहुत ख़याल रखती हूँ.

मैनें कहा अच्छा तो फिर जब तक तुम्हारी माँ नही आ जाती डिम्पी को बुला लूँ नाइट नाइट के लिए इस पर वो बोली पापा उस औरत का नाम आप बार बार क्यूँ लेते हो वो बहुत गंदी है उसके कॉलोनी मैं कई लोगों के साथ चर्चे हैं ऑर तो ऑर उसनें अपनें घर दूध देनें वाले तक को नही छोड़ा है मैं इसीलिए आपके उपर गुस्सा हो रही थी कि कॉलोनी वाले अगर उसको हमारे घर एक दो बार आता जाता देख लेंगे तो वो समझ जाएँगे इस पर मैं बोला तो इसका मतलब मैं ऐसे ही परेशान रहूं बिना सेक्स के. वो बोली नही पापा मैं तुम्हारी कुछ हेल्प ज़रूर करूँगी लेकिन उस औरत से दूर रहना मैं बोला फिर कब हेल्प करोगी जब तुम्हारी मोम आ जाएगी तब वो बोली नही पापा आज ही मैनें अनु को बोला थॅंक यू बेटा आइ लव यू.

अब मुझे कन्फर्म हो गया कि आज रात को अनु मेरी हेल्प करेगी मगर कैसे? क्या उसकी कोई फ्रेंड है जिसको वो चुद्वायेगि या वो खुद मुझसे चुदेगि ये कन्फर्म नही था लेकिन मेरा अंदाज़ा यही था कि वो खुद ही समर्पण करेगी. मैनें मौका मिलते ही डिंपल को फोन लगाया और उसे बताया कि मेरी बेटी सुबह की बात को लेकर जो नाराज़ थी वो मान गयी है और तो और उसनें बोला है कि वो मेरी हेल्प करेगी इस काम में मुझे अंदाज़ा है कि या तो वो खुद देगी या उसकी कोई ऐसी फ्रेंड है ऑर वो तुमको तो बिल्कुल देखना भी नही चाहती है तुम्हारा पति आज यहीं है या टूर पर है तो डिंपल बोली वो तो 4-5 दिनो के लिए बाहर है तो मैनें बोला तुम एक काम करना मेरे घर का मैन गेट रात को खोल दूँगा तुम हॅंडी कॅम लेकर आना और चुपके हमारी वीडियो बनाना जिससे हमारे काम में आगे अनु रुकावट ना पैदा करे मैं तुम्हें मिस्ड कॉल करूँगा और तुम आ जाना डिम्पी बोली ठीक है डिंपल को अपनें घर बुलाना मेरी लिए इतना ख़तरनाक होगा इसका मुझे अंदाज़ा नही था उसनें मुझे और मेरी बेटी को ब्लॅकमेल किया और आगे क्या हुआ ये मैं अपनी नेंक्स्ट स्टोरी पार्ट-3

loading...
error: Protected