loading...

"दीदी के दोस्त की जबरदस्त चुदाई"

Antarvasna sex stories, desi kahani, hindi sex stories, chudai ki kahani, sex kahani

हैल्लो दोस्तों. मेरा नाम मयंक है और मेरी उम्र 21 है! दोस्तों यह मेरी पहली कहानी है जिसको में बहुत मेहनत से लिखकर आप तक पहुंचा रहा हूँ! वैसे मैंनें पिछले कुछ सालों में बहुत सारी सेक्सी कहानियों को पढ़कर उनके मज़े लिए और आप लोग मेरी कहानी को पढ़कर उसके मज़े जरुर लें. में उम्मीद करता हूँ कि यह आप लोगो को जरुर पसंद आएगी! दोस्तों यह कुछ साल पहले की बात है! मेरी दीदी की एक सहेली थी जिसका नाम पायल था! उसकी उम्र तब 20 साल थी और उसकी तब तक शादी नहीं हुई थी! वो दिखनें में थोड़ी सी साँवली थी. लेकिन उनके चेहरे की बनावट बहुत अच्छी थी! 

उसकी लम्बाई 5.5 थी और वो थोड़ी मोटी थी और उसके बूब्स का आकार 32 था और उसकी गांड को देखते ही मेरा उसको बहुत ज़ोर ज़ोर से दबानें का मन करता था और उसी समय उसकी चूत में अपना लंड डालकर उसके रसीले होंठो को चूसनें का मेरा बहुत मन करता था और में उसके पास बहुत छोटी क्लास से ट्यूशन पड़ता आ रहा था! वो मुझे पढ़ाते समय ज़्यादातर घर में अकेली रहती थी. क्योंकि उसकी छोटी बहन हॉस्टल में रहकर अपनी पढ़ाई कर रही थी

और उसके पापा तब तक उनके ऑफिस जा चुके होते थे और उसकी मम्मी की कुछ सालो पहले ही म्रत्यु हो गई थी! दोस्तों अब उसकी बहन भी बड़ी हो गयी थी वो भी अपनी बहन की तरह बहुत अच्छी दिखती थी और उसका भी सेक्सी गदराया हुआ बदन मुझे अपनी तरफ आकर्षित करनें लगा था. लेकिन वो अपनी घर पर कभी कभी आती थी और जब तक उसकी छुट्टियाँ रहती वो अपनें घर पर रूकती और उसके बाद वो वापस चली जाती!                                                              

दोस्तों वैसे मुझे पायल को 9th क्लास तक लगातार पढ़ाया था और मैंनें भी तब तक बहुत मन लगाकर अपनी पढ़ाई की तरफ ध्यान दिया और अच्छे नम्बरों से हमेशा पास हुआ. जिसको देखकर मेरे घर वाले पायल और सभी लोग बहुत खुश हुए क्योंकि में वैसे पढ़ाई में बहुत अच्छा होनहार बच्चा था. लेकिन जब में 10th क्लास में पहुंचा तब वो मुझे कुछ समय तक नहीं पढ़ा पाई और मैंनें उसके घर पर जाना बंद कर दिया था. क्योंकि उस समय उसके भी कॉलेज के पेपर चल थे और मेरे जानें से उसकी पढ़ाई में रुकावट आती थी और उसका ध्यान इधर उधर भटकता था और फिर कुछ दिनों के बाद उसके पेपर खत्म हो गये और में दोबारा उसके पास पढ़ाई करनें जानें लगा तो वो मुझसे हमेशा एक बहुत अच्छे दोस्त जैसा व्यहवार करती थी! वो हमेशा हंसकर बात करती और कभी कुछ भी नहीं छुपाती जिसकी वजह से हम दोनों एक दूसरे के साथ बहुत खुश रहते थे. हम दोनों का व्यहवार एक दूसरे के लिए बहुत अच्छा था और हम दोनों बहुत खुश रहते थे और अपनी पढ़ाई और कभी कभी हंसी मजाक भी किया करते थे!                                                          

दोस्तों मेरे मन में उसके लिए कभी कोई गलत सोच या ऐसा कोई भी विचार नहीं था! मेरी नजर में उसकी बहुत इज्जत थी. लेकिन एक दिन घटित हुई उस घटना के बाद मेरी सोच और देखनें का तरीका अब सब कुछ उसके लिए बिल्कुल बदल चुका था और सब कुछ उल्टा हो चुका था. जिसके बारे में मैंनें कभी नहीं सोचा था! एक दिन की बात है में अपनें ठीक समय पर उसके घर पर आकर अपनी पढ़ाई में लग गया और वो कुछ देर बाद रसोईघर से अपना काम खत्म करके मेरे पास आकर बैठ गई! उसका पूरा बदन पसीनें से नहा चुका था और उस दिन उसके कहनें पर में टेबल पर बैठकर पढ़ाई कर रहा था!

वो भी ठीक मेरे सामनें आकर बैठ गई! दोस्तों उस समय उसके बड़े गले का बिना बाहं का सूट पहना हुआ था और वो भी बिना चुन्नी! उसको ज्यादा गरमी लगनें की वजह से वो बार बार अपनें सूट में अपना एक हाथ डालकर पसीना साफ करनें लगी और तभी कुछ देर बाद वो मुझे पढ़ाते पढ़ाते आगे की तरफ पूरा झुक गई. जिसकी वजह से मुझे उसके बड़े गले के उस ढीलेढाले सूट से उसके बड़े आकार के झूलते लटकते हुए बूब्स दिखाई देनें लगे जिसकी वजह से मेरी आखें फटी की फटी रह गई और मेरा दिमाग खराब हो गया और अब में उसके बूब्स की गोलाईयों को बड़े ध्यान से लगातार घूर घूरकर देख रहा था. जिसकी वजह से कुछ ही सेकेंड में मेरा लंड भी तुरंत खड़ा होकर उसके बूब्स को सलामी देनें लगा! तभी अचानक से उसनें मुझे देख लिया और में अपनी नजर को उससे छुपाते हुए नीचे झुकाकर अपनी किताब में देखनें लगा. लेकिन मेरा मन अभी भी उस तरफ जा रहा था!                                           

में दोबारा से वही नजारा देखना चाहता था! फिर तभी उसनें मुझसे पूछ लिया कि क्यों मयंक तुम इस तरह से घूर घूरकर क्या देख रहे थे. अभी कुछ देर पहले तुम्हारा ध्यान कहाँ था? में तुमसे पूछ रही हूँ अपनी गर्दन ऊँची करके मुझे जवाब दो तुमनें अभी क्या देखा? तो मैंनें अपनी झुकी डरी हुई नजर को नीचे रखकर कहा कि कुछ नहीं!

तो उसनें कहा कि तुम मुझसे झूठ मत बोलो में सब जानती हूँ कि तुम क्या देख रहे थे? और अब उसनें मुझसे कहा कि जो तुम देख रहे थे क्या तुम उसका नाम भी जानते हो? चलो अब जल्दी से बताओ मुझे? अब मैंनें बहुत हल्की डरी दबी आवाज से कहा कि मम्मे. मेरे मुहं से यह जवाब सुनते ही उसकी आँखें फटी की फटी रह गई और अब उसनें मुझसे कहा कि हे भगवान मुझे नहीं पता था कि तुम इतनें गंदे शब्द काम में लेते हो. इतना कहनें के बाद उसनें अपनी चूत की तरफ इशारा करके मुझसे कहा क्यों फिर तो तुम्हे इसका नाम भी पता होगा? मैंनें कुछ देर सोचकर कहा कि हाँ यह चूत है. अब मेरा जवाब सुनकर उसनें पूछा अब इसका क्या नाम है? उसनें मेरे लंड की तरफ इशारा करके पूछा!                                                                                                
फिर मैंनें तुरंत कहा कि इसको लंड कहते है और फिर उसनें कहा कि अब मुझे पता चला कि तुम्हारे 1 और 2 पेपर में साइन्स में नंबर इतनें कम क्यों आए थे? क्योंकि तुमनें उसकी किताब को एक बार भी खोलकर ही नहीं देखा और अगर तुमनें उसको खोलकर देखा होता तो तुम इन तीनो अंगो का नाम बूब्स. चूत और लंड ना बताते क्योंकि तुम्हे उनका नाम ही पता नहीं है तुम्हे तो इनके दूसरे नाम पता है इनके असली नाम क्या है तुम नहीं जानते! दोस्तों उसके मुहं से यह शब्द सुनते ही मेरा लंड अब और भी ज्यादा टाइट हो गया! में पहले तो सोच में पढ़ गया कि इन सबका उस किताब से क्या मतलब है और उस किताब में ऐसा क्या लिखा हुआ है? और तभी मुझे ध्यान आया कि उस किताब में एक पाठ सेक्स के ऊपर भी है हो सकता है और यह सभी बातें वहीं पर लिखी हुई है!

फिर उसनें मुझसे कहा कि चलो अब किताब में से वो पाठ निकालो और मैंनें तुरंत ठीक वैसा ही किया और फिर वो मुझे पाठ पढ़ानें लगी. कुछ देर पढ़ाते पढ़ाते मैंनें एक शब्द की और इशारा करते हुए उससे पूछ लिया कि इसका क्या मतलब है? तो उसनें मुझसे कहा कि जिसे तुम चूत कहते हो उसे इस भाषा में योनी कहते हैं तभी उसनें एक चित्र की तरफ इशारा करते हुए मुझसे कहा कि देखो दिखनें में ऐसी होती है चूत. तो मैंनें उससे कहा कि अब आप भी क्यों बार बार यह चूत शब्द बोल रही हो?                                

तो उसनें मुझसे कहा कि जिससे तुम्हे जल्दी समझ में आ जाए! फिर मैंनें पायल से कहा कि मुझे इस फोटो में कुछ भी ठीक तरह से समझ में नहीं आ रहा है! फिर उसनें थोड़ा सा गुस्से में आकर मुझसे कहा कि तुम क्या चाहते हो कि अब में तुम्हें सही में अपनी चूत को खोलकर तुम्हे दिखा दूँ? में उसके मुहं से यह जवाब सुनकर एकदम चुप हो गया और अपनी गर्दन को नीचे झुकाकर कुछ सोचनें लगा! अब वो थोड़ा सा सोचकर मुझसे बोली कि ठीक है! में तुम्हे अपनी चूत दिखा दूँगी.                                                                  

लेकिन मेरी एक शर्त होगी? तो यह बात सुनते ही मेरे मन में खुशी के लड्डू फूटनें लगे और में मन ही मन बहुत खुश होनें लगा! फिर मैंनें उससे पूछा कि हाँ बताओ कैसी शर्त? तब उसनें मुझसे कहा कि ठीक है में तुम्हे अपनी चूत दिखा दूंगी. लेकिन अगर तुमनें किसी को इस बारे में बता दिया तो इसलिए तुम्हे भी अपना लंड मुझे दिखाना पड़ेगा! फिर उसके मुहं से यह बात सुनते ही मैंनें कहा कि हाँ क्यों नहीं अब में मन ही मन सोचनें लगा कि कभी बिन बादल के बारिश हुई है. आज तो यह ज़रूर मुझसे चुदेगी और मैंनें उससे कहा कि मुझे यह सब देखनें में शरम आएगी. अब उसनें कहा कि कोई शरम की बात नहीं है

हम बस देखकर उसकी जानकारियां ही तो ले रहे है! अच्छा अगर तुम्हे शरम आ रही है तो में तुम्हारी पेंट उतार देती हूँ और में अब जानबूझ कर बिल्कुल अंजान बना खड़ा रहा और फिर वो मेरी पेंट को उतारनें लगी! पेंट को नीचे उतारते ही उसनें मेरी अंडरवियर के ऊपर से जब मेरा तनकर खड़ा हुआ लंड देखा तो वो मुझसे बोली कि अरे यह बोतल खड़ी कैसे हो गई? तब मैंनें नादान बनकर कहा कि मुझे पता नहीं यह सब कैसे हुआ? लेकिन ऐसा मेरे साथ बहुत बार होता है. आप मुझे इसका कोई उपाय भी बता दो!                     
 

फिर उसनें कहा कि चलो अभी देखते है और इतना कहकर उसनें एक ही झटके में मेरी अंडरवियर को भी नीचे उतार दिया अंडरवियर के उतरते ही मेरा लंड उसनें देखकर कहा कि हाँ अब पता चला वो अब गौर से मेरे लंड को देखनें लगी दोबारा उसनें अपनी चकित नजरों से देखते हुए कहा कि मुझे अब पता चला कि तुम्हारी बोतल (लंड) क्यों खड़ी हुई क्योंकि यह अब पूरी भर चुकी है लगता है कि फैक्ट्री में बहुत ज्यादा काम चल रहा है. जिसकी वजह से ऐसा तुम्हारे साथ हो रहा है! वैसे इस उम्र में ऐसा होना स्वभाविक है यह सभी के साथ होता है!

फिर मैंनें उससे पूछा कि यह फैक्ट्री कहाँ है? तो उसनें मेरे लंड के नीचे मेरे दोनों आंडों पर हाथ रखकर उन्हें धीरे से सहलाते हुए कहा कि यह है तुम्हारी फैक्ट्री जहाँ पर एसिड यानी वीर्य बनता है. उसके बाद उसनें मेरा लंड अपनें हाथ में ले लिया तो हाथ में लेते ही मुझे करंट सा लगा! मैंनें मन ही मन में कहा कि अगर इसके हाथ में लेनें से पता लगा कि इसके हाथों में इतना करंट है तो फिर इसकी चूत में तो पूरा ट्रॅन्सफॉर्मर लगा हुआ होगा! अब वो बोली कि सबसे पहले इस फैक्ट्री में एसिड बनता है उसके बाद इस बोतल में आता है इस बोतल से निकलकर टेस्ट ट्यूब में चला जाता है और फिर पूरे 9 महीनें तक इसका उत्पादन चलता है! उसके बाद हमारे सामनें वो परिणाम आ जाता है जिसके लिए सभी को चिंता लगी रहती है!

फिर मैंनें पूछा अब यह टेस्ट ट्यूब कहाँ होता है? तब उसनें कहा क्यों तुमनें क्या अभी तक टेस्ट ट्यूब देखी नहीं है? तुम जब देखोगे तब तुम्हे उसका पता चल जाएगा और इतना कहकर अब वो अपना सूट उतारनें लगी और में अपनी व्याकुल नजरों से वो नजारा देखनें लगा! मैंनें देखा कि अब उसके वो दोनों बूब्स उसकी ब्रा से बाहर आनें के लिए एक दूसरे से लड़ झगड़ रहे थे! उनको देखकर ऐसा लग रहा था कि जैसे उन्हें किसी नें जबरदस्ती ठूसकर उस ब्रा में एक साथ बैठा दिया हो!                                           

फिर उसनें सूट को खोलनें के बाद अपनी पेंटी को भी उतार दिया. जिसकी वजह से उसकी नंगी चूत अब मेरी आखों के सामनें आ गई और वो बहुत सुंदर दिख रही थी और मेरी चकित नजरे उससे हटनें को बिल्कुल भी तैयार नहीं थी! फिर तभी मैंनें उससे पूछा कि यह टेस्ट ट्यूब कहाँ है? तब उसनें कहा कि वो ऐसे नहीं दिखेगी. में सबसे पहले इस टेबल पर लेट जाती हूँ उसके बाद वो तुम्हे बहुत आसानी से साफ साफ दिखेगी! में तुमसे जैसा जैसा कहूँ तुम वैसा ही करते जाना! फिर मैंनें कहा कि हाँ ठीक है और अब वो नंगी होकर उस टेबल पर लेट गई! उसनें मुझे अपनें पास आनें के लिए कहा तो में तुरंत पास आ गया!

loading...

दोस्तों मैंनें जब पहली बार उसकी चूत देखी तो में उसको देखता ही रह गया और मुझे उसकी चूत से निकलते हुए पानी को देखकर ऐसा लग रहा था कि जैसे उसकी चूत अब मेरा लंड अंदर लेनें के लिए अपनी लार टपका रही है. वो मेरे लंड से अपनी चुदाई करवानें के लिए तरस रही है और वही हाल मेरे लंड का भी था! वो यह सब देखकर अब बहुत ज्यादा दर्द होनें लगा था और उसको अब अपना वीर्य कैसे भी करके जल्दी से बाहर निकालना था!                                                                            

तभी मैंनें एकदम से उसकी चूत पर अपना एक हाथ रख दिया जिसकी वजह से उसके मुहं से सिसकियाँ फूट पड़ी और फिर मैंनें चूत को अपनें हाथ से सहलाते हुए उससे कहा कि अच्छा तो यह है टेस्ट ट्यूब! फिर उसनें कहा कि हाँ अच्छा अब तो तुम्हे चूत का मतलब उसका काम सब कुछ अच्छी तरह से समझ में आ गया ना? तभी मैंनें कहा कि हाँ लेकिन एक मिनट में ज़रा अच्छी तरह से इसको देख तो लूँ और इतना कहकर अब में उसकी चूत की दरार पर अपनी एक उंगली को फेरनें लगा और उसकी गरमी को महसूस करनें लगा! वो अब जोश में आकर सिसकियाँ भरनें लगी और उसके बाद मैंनें टेबल के एक तरफ आकर उसकी छाती की तरफ इशारा करके पूछ लिया कि मम्मे को क्या कहते है. वो किस काम के होते है? अब उसनें मुझसे बड़े ही सेक्सी अंदाज़ में कहा कि इसको ब्रेस्ट या बूब्स कहते है और अगर तुम इनको भी देखना चाहते हो तो देख सकते हो. में तुम्हे वो भी दिखा सकती हूँ!

दोस्तों फिर क्या था मुझे उसके इस जवाब का ही इंतजार था उसके कहते ही मैंनें तुरंत उसकी ब्रा को भी खोल दिया और ब्रा को बूब्स के ऊपर से हटाते ही मुझे ऐसा लगा कि जैसे उसके दोनों बूब्स बाहर खुली हवा में आकर मुझसे धन्यवाद कह रहे हो वो दोनों बहुत खुश नजर आ रहे थे अब मैंनें उससे अंजान बनकर पूछ लिया कि यह किस काम आते हैं? तब उसनें कहा कि यह फैक्ट्री 9 महीनें के बाद परिणाम आनें के बाद अपना उत्पादन शुरू करती है!                                                  

दोस्तों में अब बातों बातों उसके बूब्स को दबानें निप्पल को सहलानें लगा. जिसकी वजह से वो करहनें लगी सस्स्स्सिईईईई आआहहम्‍म्म्मम करनें लगी! अब मैंनें उसके दोनों बड़े आकार के निप्पल को अपनी उंगलियों में लेकर खींचते हुए उससे पूछा कि यह क्या है? तब उसनें कहा कि यह इस फैक्ट्री का नल है यहाँ फैक्ट्री में जो भी दूध बनता है वो सब यहीं से होकर बाहर निकलता है और यह चूसनें के काम में आते है और इस दूध से छोटे बच्चे अपना पेट भरते है!

दोस्तों में अब उसकी अधूरी बात को सुनकर तुरंत नीचे झुक गया और उसके एक निप्पल को अपनें मुहं में लेकर चूसनें लगा. जिसकी वजह से वो धीरे से चीख पड़ी बोली आह्ह्हह्ह उफ्फ्फ्फ़ तुम यह क्या कर रहे हो. थोड़ा आराम से चूसो ना? यह क्या कहीं भागे जा रहे है जो तुम्हे इतनी जल्दी है. प्लीज थोड़ा धीरे से करो इनको ऐसे नहीं खींचते बस इनको हल्के से सहलानें पर ही दूध इनके बाहर आनें लगता है! अब में उसके मुहं से यह बात सुनकर बारी बारी से उसके दोनों निप्पल को जोश में आकर ज़ोर ज़ोर से चूसनें और काटनें लगा और दर्द की वजह से वो बोली आईईइ में मर गई तुम इनको काट क्यों रहे हो ऊह्ह्ह्हह तुम ऐसा करोगे तो मेरे बूब्स के निप्पल टूट जाएँगे प्लीज थोड़ा धीरे करो मुझे बहुत दर्द हो रहा है!                                                                

फिर में कुछ नहीं बोला और बड़े आराम से बिना कुछ सुनें दोनों बूब्स को एक एक करके चूसता रहा जिसकी वजह से वो सिसकियाँ लेती रही और फिर कुछ देर बूब्स को चूसते चूसते में अब अपना एक हाथ नीचे उसकी चूत पर ले गया और अब मैंनें अपनी एक उंगली को उसकी चूत में डाल दिया और ऊँगली को धीरे धीरे चूत के अंदर बाहर करनें लगा! वो जिसकी वजह से अब पूरी तरह से गरम हो चुकी थी और उसके मुहं से सिसकियाँ फूट पड़ी आआअहह उम्म्म्मममम प्लीज थोड़ा धीरे करो! अब में कुछ देर बाद उठकर उसके सर के पास गया और मैंनें अपना तना हुआ लंड उसके होंठो पर रख दिया! उसनें बिना कुछ कहे तुरंत अपना मुहं खोलकर लंड को अपनें मुहं में ले लिया और बहुत आराम से अनुभवी रांड की तरह वो मेरा लंड चूसनें लगी और फिर कुछ देर बाद लंड को मुहं से बाहर निकालकर उसके टोपे पर अपनी जीभ को फेरनें लगी!

उधर में ज़ोर ज़ोर से उसके दोनों बूब्स को दबा रहा था और अब तक उसकी दोनों निप्पल तनकर खड़ी हो चुकी थी और बूब्स लाल रंग के हो चुके थे! करीब 15 मिनट तक वो लगातार मेरा लंड चूसती चाटती रही! फिर जब में झड़नें वाला था तो मैंनें अपना सारा वीर्य उसके मुहं में निकाल दिया और वो उस टेबल पर पीठ के बल लेटी हुई थी. इसलिए मेरा वीर्य उसके मुहं से बाहर निकलकर आँख की तरफ जानें लगा और मैंनें अपनी उंगली से सारा वीर्य साफ किया और अपनी उंगली को उसके मुहं में डाल दिया!                

उसनें अपनी जीभ से मेरी ऊँगली को चाटकर मेरी उंगली पर लगा सारा वीर्य भूखी बिल्ली की तरह चाट लिया और में अब उसकी जांघो के बीच में आ गया और उसकी जांघो को अपनी जीभ से चाटनें लगा और चूमनें लगा. जिसकी वजह से वो अपनें कूल्हों को इधर उधर हिलानें लगी. जिसको देखकर मुझे उसके जोश बेताबी का अंदाजा लग चुका था और अब में चाटते चूमते हुए उसकी चूत पर अपनी जीभ को फेरनें लगा और उसकी चूत के दानें को अपनी जीभ से हिलानें लगा! जीभ के दानें पर छूते ही वो एकदम से उछल पड़ी और उसके मुहं से आह्ह्ह्ह्हह्ह स्सईईईइ की आवाजे आनें लगी!

अब में उसकी चूत का रस अपनी जीभ से चाटनें पीनें लगा और मैंनें उनकी गीली चूत का सारा रस पी लिया और वो जोश में आकर उछलनें लगी! फिर उसके बाद मैंनें अपनी जीभ को उसकी चूत के अंदर डाल दिया और अंदर बाहर करनें लगा जिसकी वजह से वो अब बहुत मादक आवाज़ें निकालकर मुझे उतेज़ित करनें लगी आम्‍म्म उन्न्न्नन्न सस्स्सस्स आह्ह्हह्ह्ह हाँ और अंदर डाल दो इसको हाँ पूरा अंदर तक ले जाओ. वाह मज़ा आ गया. लेकिन थोड़ी ही देर बाद वो भी झड़ गयी और इतनें में मेरा लंड एक बार फिर से होश में आकर पूरे जोश में आ चुका था और अब मेरा लंड कहीं छुपनें के लिए कोई छेद ढूंड रहा था!                                       

फिर में सीधा खड़ा हुआ और मैंनें अपना लंड उसकी चूत के छेद पर रखकर धीरे धीरे लंड को चूत पर रगड़नें लगा. जैसे किसी बकरे को हललाल करनें से पहले उसे सहलाया जाता है. में भी उसकी चूत को अपनें लंड से सहला रहा था दोस्तों पायल की चूत की सील अभी तक टूटी नहीं थी और वो अब तक अपनी कुंवारी वर्जिन चूत को अपनें साथ लिए अब तक घूम रही थी! यह देखकर में और भी ज्यादा खुश हो गया! अब मैंनें जोश में आकर अपना लंड उसकी चूत के छेद पर रखकर निशाना बनाते हुए धीरे से एक झटका मार दिया. जिसकी वजह से मेरे लंड का टोपा उसकी चूत में चला गया और वो दर्द की वजह से बहुत ज़ोर से चीख पड़ी आआआअहह सस्स्स्स्स्स्सस्स उह्ह्हह्ह प्लीज यार थोड़ा धीरे से डालो ना मेरी जान निकल रही है!

अब मैंनें फिर से दूसरा झटका मार दिया और उसकी चूत पूरी गीली होनें की वजह से मेरा लंड थोड़ा सा और अंदर चला गया उसके बाद मैंनें एक और ज़ोर से झटका मार दिया! अब मेरा आधा लंड उसकी चूत के अंदर चला गया और अब तक उसकी सील भी टूट गयी थी. लेकिन उसको बहुत ज्यादा दर्द हो रहा था. क्योंकि मैंनें जोश में आकर ज्यादा ज़ोर लगाकर अपनी लंड उसकी चूत में डाल दिया था! उस ज़ोर जबरदस्ती के लिए उसकी चूत बिल्कुल भी तैयार नहीं थी एक तो उसकी पहली जबरदस्त चुदाई ऊपर से चूत का छेद छोटा और लंड उसके आकार में ज्यादा मोटा लंबा था जिसनें उसकी चूत के अंदर जाकर उसको पूरा हिलाकर रख दिया था! वो कुछ देर तक पड़ी दर्द से तड़पती रही और मैंनें अपनें लंड को एक जगह पर रखकर चुपचाप लेटा रहा!                                

दोस्तों में उसका यह काम करके मन ही मन बहुत खुश था! अब मैंनें उससे कहा कि मुबारक हो जानेंमन आज तुम्हारी फैक्ट्री का उद्घाटन हो गया अब तुम जब चाहो जैसा चाहो माल अपनी फैक्ट्री में बना सकती हो! तभी वो ज़ोर से चीख पड़ी मुझसे कहनें लगी आह्ह्ह्ह फाड़ दी साले नें मेरी आइईईईईईई चूत. मुझे बहुत दर्द हो रहा है उफफ्फ्फ्फ़ में मर जाउंगी प्लीज अब बाहर निकाल ले! तब मैंनें उससे कहा कि रंडी साली कुतिया चल अब चुपचाप चुदवाती रह वरना तुझे आज में रंडी की तरह चोद दूँगा!

उसके बाद मैंनें अपनी तरफ से एक और झटका मार दिया और अब मेरा पूरा लंड उसकी चूत में चला गया और सीधा उसकी बच्चेदानी से जाकर टकरा गया. जिसकी वजह से वो फिर से चीख पड़ी साले कुत्ते हरामी उफ्फ्फ क्या तू आराम से धक्के देकर नहीं चोद सकता? उईईईई माँ में मर गई तूनें तो आज मेरी जान ही निकाल दी! फिर मैंनें नीचे की तरफ देखा तो उसकी चूत और मेरा लंड खून से पूरे भर चुके थे! मैंनें एकदम से उसकी चूत से लंड को खींचकर बाहर निकल लिया और लंड के बाहर निकलते ही एकदम से पूछा कि आवाज़ आई जिसको सुनकर ऐसा लगा जैसे कि पेप्सी की बोतल का ढक्कन खुल गया हो! फिर उसके बाद मैंनें उसकी पेंटी से अपना लंड और उसकी चूत को साफ किया और अब में दोबारा अपना लंड उसकी चूत में डालनें लगा!                                  

मैंनें अपना लंड उसकी चूत में डाल दिया और अब में धीरे धीरे झटके मारनें लगा! अब मुझसे ठीक तरह से झटके भी नहीं मारे जा रहे थे. क्योंकि में आज पहली बार किसी को चोद रहा था और मुझे चुदाई का इतना अनुभव नहीं था करीब पांच मिनट के बाद वो मुझसे कहनें लगी कि तू अब अपना लंड बाहर निकाल ले. देख आज में तुझे कैसे चोदती हूँ! उसके बाद मैंनें ठीक वैसा ही किया जैसा जैसा उसनें मुझसे कहा अब उसनें मुझसे टेबल पर लेटनें को कहा तो में तुरंत लेट गया और उसके बाद वो मेरे ऊपर टेबल पर चढ़ गयी और थोड़ा सा नीचे बैठकर उसनें मेरा लंड अपनें एक हाथ से पकड़ लिया और उसको अपनी चूत के छेद पर रखकर सेट किया और अब वो उस पर धीरे धीरे से नीचे बैठनें लगी और लंड अंदर जाता चला गया! जैसे ही मेरा लंड उसकी चूत में गया तो में धीरे से चीख पड़ा आह्ह्ह्ह आराम से कर ना रंडी. दर्द हो रहा है!

 मुझसे बोली कि क्यों मेरे दलाल अब पता चला ना दर्द कैसे होता है? मेरा दर्द तो तुझे इतनी देर से दिखाई नहीं दिया अपनें दर्द के लिए तू चिल्लानें लगा चल अब तू चुपचाप लेटा रह नहीं तो आज में आज तेरा बलत्कार कर दूँगी! अब वो मुझसे इतना कहकर लंड को अपनी चूत के अंदर लेनें लगी और थोड़ी देर के बाद मेरा पूरा लंड उसकी चूत में चला गया और पूरा अंदर जाते ही उसनें दर्द की वजह से अपनी आँखें बंद कर ली और में धीरे धीरे उसके बूब्स को दबानें सहलानें लगा! फिर थोड़ी देर बाद हम दोनों का दर्द बहुत कम हो गया और अब वो धीरे धीरे ऊपर नीचे होनें लगी. जिसकी वजह से लंड चूत के अंदर बाहर होनें लगा और में भी लेटा लेटा अपनें कूल्हों को ऊपर की तरफ उठाकर धक्के लगानें लगा और उसके निप्पल को ज़ोर ज़ोर से दबानें लगा!                                                   

फिर कुछ देर बाद हम दोनों की रफ़्तार तेज़ हो गयी करीब 15 मिनट तक हम दोनों एक दूसरे को ऐसे ही चोदते रहे और उसके बाद हम दोनों एक साथ ही झड़ गये और मैंनें अपना सारा वीर्य उसकी चूत में ही निकाल दिया और वो अब ऊपर नीचे होनें की वजह से बहुत बुरी तरह से थक चुकी थी. इसलिए वो अब मेरे ऊपर लेट गयी और हम दोनों एक दूसरे को किस करनें लगे! फिर कुछ देर बाद हम दोनों खड़े हो गये तो मैंनें उससे कहा कि क्यों आज से तो तुम्हारी फैक्ट्री में उत्पादन शुरू हो जाएगा? तब उसनें मुझसे मुस्कुराते हुए कहा कि नहीं हमनें यह सब कुछ उस समय में किया है जब उत्पादन होनें का कोई खतरा नहीं होता!

फिर उसकी यह बात सुनकर हम दोनों हंसनें लगे और अब हमनें अपनें अपनें कपड़े पहन लिए और तब उसनें मुझसे कहा कि में तुम्हे बस सिखाना चाहती थी. लेकिन तुम तो पहले से ही इस काम में बहुत अनुभवी निकले तुमनें अपना पूरा जोश. मेहनत. लगन को लगाकर इस काम को किया! में तुम्हारे इस काम को देखकर बहुत खुश हूँ और मुझे उम्मीद है कि तुम्हे आज पढ़ाया हुआ यह पाठ सब कुछ बहुत अच्छी तरह से समझ आ चुका होगा! दोस्तों इसके बाद में मन लगाकर अपनी इंजिनियरिंग की पढ़ाई में लग गया और मुझे दोबारा कभी भी किसी को चोदनें का मौका नहीं                                                                 

Add a Comment

Your email address will not be published.

loading...