loading...

टीचर पर दिल आ गया

Antarvasna sex stories, desi kahani, hindi sex stories, chudai ki kahani

दोस्तो, मेरा नाम मोहित है, मेरी उम्र 20 साल है| मैं लुधियाना पंजाब से हूँ लेकिन अब मैं नोएडा में रहता हूँ| मैंनें यहाँ पे एक बढ़िया सा फ़्लैट ले रखा है जिसमें सारी सुख सुविधाएं है| यहाँ में एमबीए की कोचिंग के लिए आया हूँ| मैंनें जिस कोचिंग सेंटर को ज्वाइन किया था, ये कहानी वहीं से शुरू होती है|

वहां पर एक टीचर निहारिका थीं, जिनको देख कर मैं उन पर फिदा हो गया था| वो मेरी इंग्लिश की टीचर थीं| जब पहले दिन मैं क्लास में आया तो पहला लेक्चर उनका ही था| उनका 36-30-36 फिगर साइज़ बहुत ही सेक्सी था| उनके चुचे एकदम तनें हुए थे|
दोस्तो, वो मुझको पहली नजर में ही बहुत मस्त माल लगी थीं| मैं क्लास में सिर्फ़ उनको ही देखता रहता था| ये बात टीचर नें भी समझ ली थी| मेरा स्टडी पर कोई ध्यान नहीं था, मैं सिर्फ़ उनको ही देखता रहता था| मुझे उनसे प्यार हो गया था| मेरा मन कर रहा था कि उनको अपनी बांहों में भर लूँ और ढेर सारा प्यार करूँ|

दस दिन इस तरह ही निकल गए| वो रोज़ क्लास में आतीं और मैं उनको ही देख कर अपना लंड सहलाता रहता| कभी उनके करीब आनें के लिए मैं उनसे जानबूझ कर कोई ना कोई सवाल पूछता रहता| ये उनको भी समझ आता था कि मेरा क्या मतलब है| वो बस मुस्कुरा कर रह जाती थीं

अब मैंनें हिम्मत करके आगे बढ़नें की सोचा| जब वो कहीं अकेली होतीं, तो मैं जानबूझ कर उनके पास चला जाता|

एक दिन उन्होंनें मुझसे पूछा- तुम क्लास में मेरी तरफ़ इस तरह क्यों देखते हो?
तो मैंनें उन टीचर को बोल दिया- मुझे आप बहुत अच्छी लगती हैं, मन करता है कि मैं आपको ढेर सारा प्यार करूँ, आपको आपको अपनी बांहों में भर लेनें का मन करता है|
इसी बात में मैंनें आगे उनको आई लव यू बोल दिया|

वो कुछ पल मेरी तरफ़ इस तरह देखती रहीं| फिर पता नहीं क्या हो गया और वो वहां से चली गईं|
मैंनें सोचा कि मेरी तो लग गई|
फिर मैं 4 बजे अपनें रूम पर आ गया और सोचनें लगा कि अब क्या होगा|

रात में मेरे सेल फ़ोन पर एक कॉल आई|| अननोन नम्बर था| मैंनें पिक किया तो वो टीचर का फोन था|
उन्होंनें बोला- मैं निहारिका बोल रही हूँ, तुमनें जो आज मेरे से कहा, ये ठीक नहीं है|| मैं मैरीड हूँ|
मैंनें कहा- मेम, मुझको पता है कि आप मैरिड हो लेकिन मुझको आप बहुत अच्छी लगती हो, मेरा मन आपको ढेर सारा प्यार करनें का करता है| मेरा जी करता है कि आपको खूब प्यार करूँ| मैं आपको अपनी बांहों में भरना चाहता हूँ| मेरा मन नहीं लगता है| मेरा कोई दोस्त नहीं है, आई लव यू निहारिका|| मैं तुम्हारी साँसों को पी लेना चाहता हूँ, आपके हर अंग को चूमना चाहता हूँ|

निहारिका मेम नें फ़ोन काट दिया और फिर जब मैं सुबह कोचिंग सेंटर गया तो क्लास अटेंड की| टीचर आईं उन्होंनें मेरे से कोई खास बात नहीं की| लेक्चर खत्म होनें पर वे स्टाफ रूम में चली गईं|
फिर उन्होंनें मुझको बुलाया| मैं बेख़ौफ़ उनके पास गया|| वो अकेली थीं| उन्होंनें मेरे से पूछा- तुम पागल हो क्या?
तो मैंनें कहा- हाँ निहारिका, मैं पागल हूँ|

अभी वे कुछ समझ पातीं कि मैंनें उनके गालों पर किस कर लिया|
निहारिका मेम नें मेरे मुँह पर चांटा मारा और बाहर चली गईं| मेम वॉशरूम की तरफ जा रही थीं| मैं भी उनके पीछे चला गया और उनके पीछे जाकर उनको हग कर लिया और फिर एक वाशरूम में अन्दर खींच कर उनको किस कर दिया| इतनें में कोई वॉशरूम के बाहर कोई आ गया, वो चुप हो गईं और चुपचाप खड़ी रहीं|

मैं टीचर को चूमता रहा और फिर मैंनें अपना एक हाथ उनकी कमर में डाल लिया और उनका फेस अपनी तरफ़ घुमा कर उनके होंठों को चूमनें लगा| फिर वो कुछ नहीं बोलीं| मैंनें उनकी आँखों पर किस किया… उनकी नाक और गालों पर चूमा|| माथे पर चूम कर उनसे ‘आई लव यू||’ कहा और अपनी बांहों में भर लिया| मेम चुप थीं वे मुझे रोक भी नहीं रही थीं|

मैंनें अपना एक हाथ उनकी सलवार के अन्दर ले गया और ज़ोर से उनकी पिछाड़ी को दबानें लगा और होंठों को चूमनें लगा| अब मेम भी मुझे साथ देनें लगीं|

इसके बाद हम अलग हो गए थे|| क्यों वो जगह सेफ नहीं थी| बाहर आकर मैं उनको अपनें साथ अपनें फ़्लैट में ले आया इधर आते ही मैंनें निहारिका मेम को अपनी बांहों में भर लिया| उनकी साँसें तेज और गर्म हो गई थीं|

फिर मैंनें उनके कपड़े उतार दिए और बेड पर लिटा कर मैंनें उनको अपनी बांहों में भर लिया| अब मैं बेताबी से मेम को चूमनें लगा और उनके होंठों का रस पीनें लगा| मेम भी मेरे होंठों को चूस रही थीं| मैं उनके मम्मों से खेलनें लगा|
बगल की टेबल पर जैम की बोतल रखी थी| मैंनें मेम के चूचों पर जैम लगा दिया और चूसनें लगा| फिर मैंनें उनके पेट पर भी जैम लगाकर चाटनें लगा|

अब टीचर एकदम गरमा गई थीं| मैंनें उनकी पेंटी भी उतार दी और उनकी गोरी चुत पर चॉकलेट सीरप लगाया कर चाटनें लगा| निहारिका मेम की चुत से पानी निकलनें लगा था और चॉकलेट सीरप में मिलकर बड़ा टेस्टी लग रहा था| मैं उनकी चुत को पूरी मस्ती से चाट रहा था, मुझे बहुत मजा आ रहा था|

निहारिका मेम भी बहुत गर्म हो गई थीं| वो 69 में आ गई और वो मेरे लंड को अपनें मुँह में लेकर चूसनें लगीं| मैं उनकी मक्खन जैसी चुत चाट रहा था|
कुछ टाइम के बाद हम दोनों झड़ गए ओर एक-दूसरे का रस पी गए| हम दोनों एक-दूसरे को बांहों में भर कर लेटे रहे| मैं उनके बालों से खेलता रहा|

मैंनें निहारिका मेम को थैंक्स बोला और उनके रसीले होंठों को चूसनें लगा| मैंनें कहा- प्लीज़ मुझको छोड़ कर मत जाना|
टीचर नें भी बड़े प्यार से मेरे होंठों को चूमा और कहा- कभी नहीं|| तुमनें मुझको आज बहुत खुश किया| मैंनें पहली बार इस तरह का सेक्स किया है|

कुछ देर यूं ही प्यार करनें के बाद मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया| अब मैंनें उनको अपनें ऊपर आनें को कहा और वो मेरे ऊपर आ गईं; मेम नें मेरे लंड को अपनी चुत के अन्दर ले लिया और मेरे ऊपर लेट गईं| हम दोनों एक-दूसरे को चूमनें लगे| अब मेम धीरे-धीरे मेरे लंड पर ऊपर-नीचे होनें लगीं|

दोस्तो, इतना मजा आ रहा था कि मन कर रहा था कि इस तरह ही सारी उम्र करता रहूँ|| और ये वक्त कभी ख़त्म ही ना हो|
इस तरह हम दोनों सेक्स का खूब मजा लेते रहे|

फिर मेम मेरे नीचे आ गईं और मैंनें उनके ऊपर आकर अपना लंड मेम की चुत के अन्दर डाल कर उनके ऊपर लेट गया| मैं उनके होंठों को चूसनें लगा|| कभी उनके मम्मों को चूसता और कभी उनके कानों की लौ को चूमता| हम दोनों धीरे-धीरे सेक्स करते रहे|

हम दोनों ही कामवासना में डूबे हुए थे| सेक्स खत्म करनें का मन ही नहीं था| इसके बाद तीसरे आसन का दौर चालू हुआ|| हम दोनों बाथरूम में आ गए और टब में बैठ कर सेक्स करनें लगे| निहारिका मेम मेरी गोद में बैठ गईं|| इस तरह चुदाई में बहुत मजा आ रहा था| शावर के नीचे भी चुदाई हुई| इस तरह हम अपनी चरम सीमा पर आ गए| दोनों ही झड़ गए|

फिर मैंनें उन टीचर के साथ बहुत बार सेक्स किया| मेम कहती थीं कि मेरे लंड में बहुत नशा है|| ये बहुत देर तक चलता है|

इस तरह से मैंनें अपनी सेक्सी टीचर को चोदा| यहीं से मेरे जिगोलो बननें की भी शुरूआत हो गई| फिर मैंनें अपनी एक और टीचर की सहेली फ्रेंड के साथ सेक्स किया और अब मैं बहुत हैप्पी हूँ|| मेरी लाइफ में फुल एंजाय है|

जो कहानियाँ अभी पढ़ी जा रही हैं

loading...
error: Protected