loading...

“छोटी बहन की सहेली को चोदा”

Antarvasna sex stories, desi kahani, hindi sex stories, chudai ki kahani,

हैल्लो दोस्तों! अन्तर्वासना पोर्न स्टोरीज डॉट कॉम में आज आपको मेरी एक रियल स्टोरी शेयर कर रहा हूँ-में और मेरी बहन सेक्स का मस्त आनंद लेते है और हम दोनों को जब भी कोई अच्छा मौका मिलता है! तो हम हमारा वो समय बिल्कुल भी खराब नहीं करते और हम दोनों कम से भी कम दिन में एक बार तो चुदाई जरुर करते है! चाहे वो मज़े दस मिनट के लिए ही क्यों ना हो! में अपनी बहन को उसके महीनें की माहवारी के दिनों में भी चोदता! जिसकी वजह से उसकी चूत के खून से मेरा पूरा लंड लाल हो जाता था और हम दोनों दिनों दिन अब गंदे सेक्स करनें लगे थे! कभी कभी वो मेरा लंड चूसते हुए मेरा मूत भी पी जाती और कभी में उसका पेशाब पी लिया करता हूँ! यह सब करनें में हम दोनों को बहुत मस्त मज़ा आता| फिर जब भी हम अपनें घर में अकेले होते! तो बस हमारा एक यही काम होता! जिसको हम करनें लगते और एक बार चुदाई करते समय मेरी बहन नें मुझसे पूछा क्या तुझे कोई लड़की पसंद है? तो मैंनें उसकी चूत में बड़ी तेज धक्का देते हुए कहा! हाँ मुझे बहुत सारी लड़कियाँ पसंद है! लेकिन एक लड़की मुझे बहुत ज्यादा अच्छी लगती है और वो सभी लड़कियों से बिल्कुल अलग हटकर है! वो मेरे मन की रानी है|दोस्तों ये कहानी आप अन्तर्वासना पोर्न स्टोरीज डॉट कॉम पर पड़ रहे है|
अब उसनें मेरे मुहं से यह बात सुनकर मुझसे उस लड़की का नाम पता पूछा और पूछनें लगी कि वो लड़की कौन है? तब मैंनें उससे कहा कि अगर मैंनें उसका नाम तुम्हारे सामनें बोल दिया! तो तुम जानकर मुझसे गुस्सा हो जाओगी! इसलिए में बताना उचित नहीं समझता! तुम रहनें दो! तुम जानकर वैसे भी क्या करोगी? अब मेरी बहन नें मुझसे गुस्सा ना करनें का वादा करके मुझसे उसका नाम दोबारा पूछा और कहा कि तुम मुझे उस लड़की का नाम बताओ! में तुमसे कुछ भी नहीं कहूंगी! वो लड़की कौन है! बात जानकर मुझे बहुत ख़ुशी होगी प्लीज बताओ ना? तो मैंनें उसके इतना पूछनें पर “कृष्णा” नाम बता दिया| अब मेरी बहन नें वो नाम सुनकर एकदम चकित होकर मुझसे पूछा! क्या वो मेरी दोस्त कृष्णा तुम्हें पसंद है? फिर मैंनें कहा कि हाँ वो मुझे बहुत पसंद है और अब वो यह सभी बातें सुनकर एकदम चकित होकर बड़ी शांत हो गयी| अब उसको कुछ भी समझ नहीं आ रहा था| फिर मैंनें उससे कहा कि मेरा मन है कि में एक बार उसको भी चोदकर उसकी जवानी के मज़े ले लूँ और अब मैंनें अपनी बहन से पूछा क्या तुम उसके साथ चुदाई करनें में मेरी मदद कर सकती हो? तो वो हंसनें लगी और कहा कि हाँ में कोशिश जरुर कर सकती हूँ| उसके बाद तुम्हारी किस्मत है| अब मैंनें उसको तेज धक्का देकर कहा हाँ ठीक है! लेकिन तुम थोड़ा जल्दी करना! क्योंकि मुझे अब उसकी भी ऐसी चुदाई करनी है| फिर वो बोली कि हाँ ठीक है मुझे पहले उसको प्यार से समझाते हुए बात बड़ेगी में देखती हूँ कि वो क्या जवाब देती है? मैंनें कहा कि हाँ ठीक है! अभी बात करले आज घर में वैसे भी कोई नहीं है| फिर उसनें बोला तू एक बार मुझे अच्छी तरह जमकर चुदाई के मज़े दे पहले| उसके बाद फिर में उससे बात करती हूँ|

फिर मैंनें उसके मुहं से यह बात सुनकर खुश होकर पूरी तरह जोश में आकर करीब आधे घंटे तक लगातार धक्के देकर चोदा और अपनें वीर्य को उसकी चूत की गहराइयों में ही निकालकर कुछ देर थककर उसके साथ लिपटकर लेटे रहनें के बाद हम दोनों नें अपनें कपड़े पहन लिए और उसके बाद हम दोनों उस कमरे से बाहर निकलकर हॉल में चले गए| फिर मेरी बहन नें अपनी सहेली से फोन पर बात करना शुरू किया और तब मैंनें फोन का लाउडस्पिकर चालू कर दिया और बातों ही बातों में मेरी बहन उससे खुलकर बातें करनें लगी! वो बोली कि आजकल मेरा चुदाई करनें का बहुत मन करता है और इसलिए मेरी चूत में किसी के लंड को लेनें के नाम की बहुत खुजली होनें लगी है| फिर कृष्णा नें कहा कि हाँ ऐसी ही खुजली तो उसको भी अब बहुत ज्यादा होनें लगी है और वो भी किसी मस्त दमदार लंड से अपनी चूत की चुदाई करवाकर इसको शांत करना चाहती हूँ! में अपनी इस चूत से बड़ी परेशान हो चुकी हूँ ना जानें वो दिन कब आएगा? दोस्तों में उन दोनों की वो सभी बातें सुनते हुए खुश होकर हंसनें लगा और मुझे खुश देखकर मेरी बहन भी हंसनें लगी| फिर मेरी बहन नें उससे कहा कि अब हम कर भी क्या सकते है! हम कहीं बाहर जाकर अगर अपनी चुदाई भी तो किसी से नहीं करवा सकते! अगर किसी को पता चल गया था तो हमारी और हमारे घर वालों की इज़्ज़त इस काम की वजह से खराब हो जाएगी|दोस्तों ये कहानी आप अन्तर्वासना पोर्न स्टोरीज डॉट कॉम पर पड़ रहे है|

फिर यह बात सुनकर उसनें भी झट से हाँ कह दिया! लेकिन अब वो और भी ज्यादा जोश भरी बातें करनें लगी और उसी समय मेरी बहन नें कहा कि घर में सिर्फ़ एक भाई है! जिससे में अपनी चुदाई करवा सकती हूँ! लेकिन हमारे समाज में ऐसा नहीं चलता| अब यह बात सुनते ही में अपनी बहन के पास गया और मैंनें उसको अपनी गोद में बैठाकर उसकी चूत पर में अपनें हाथ को फेरनें लगा| अब मेरे बहन की दोस्त नें कहा कि यार ये समाज भी बड़ी हरामी चीज़ है और यदि तू अपनें भाई से अपनी चुदाई करवा भी लेती है! तो समाज को क्या और कैसे पता चलेगा यार? और फिर थोड़ा सा उदास स्वर में कहा कि तेरा तो फिर भी एक भाई है जिसके साथ तू अपनी चुदाई करवानें की बात सोच तो सकती है! लेकिन तू मेरे बारे में सोच में अपनें घर में एकदम अकेली लड़की हूँ| फिर मेरी बहन नें उससे कहा हाँ फिर भी यार भाई को कैसे चुदाई के लिए तैयार करे? तो उसकी दोस्त नें कहा अगर मेरा तेरी तरह कोई भाई होता ना तो अभी तक तो में उससे अपनी चुदाई के मज़े भी ले चुकी होती! लेकिन अब क्या कर सकते है! क्योंकि मेरा तो कोई भाई है ही नहीं! तू कितनी किस्मत वाली है यार जो तेरे पास इतना अच्छा सुंदर गठीले गोरे बदन वाला बड़ा ही सेक्सी भाई है! तू मेरी इन बातों का बिल्कुल भी बुरा मत मानना! लेकिन में सच कहूँ तो तेरे भाई को देखकर ही मेरा उसके साथ चुदाई करवानें का मन होनें लगता है|

अब अपनी बहन की सहेली के मुहं से यह बात सुनते ही में एक बार फिर से हंसनें लगा और अपनी गोद में बैठी बहन के बूब्स और उसकी चूत को मसलनें सहलानें लगा| फिर उसी समय मेरी बहन नें उससे कहा कि अगर तेरा मन है तो तू अपनी किस्मत को आजमाकर देख ले! हो सकता है कि शायद मेरा भाई तुझे चोद दे! यह सब मेरे भाई के ऊपर है! लेकिन आगे होकर कोशिश तुझे ही करनी होगी| अब उसनें खुश होकर कहा कि मज़ा आ जाएगा! अगर एक बार ऐसा हो गया तो में उसके साथ जमकर अपनी चुदाई के मज़े लेकर अपनी प्यासी चूत को शांत कर सकती हूँ| अब मेरी बहन नें उससे बोला तू अपनी किस्मत को आजमाकर देख ले ना! तुझे किसनें मना किया है? तभी उसनें कहा कि मुझे बड़ी शरम आती है| अब मेरी बहन नें उससे कहा एक तो तुझे अपनी चुदाई भी करवानी है और तुझे यह काम करते हुए शरम भी आती है वाह रे चल तू एक काम कर कल तू मेरे घर आ| फिर हम दोनों बैठकर अच्छी तरह इस विषय पर आगे बात करेंगे| फिर उसनें कहा कि हाँ ठीक है में कल दोपहर के समय तेरे घर आ जाती हूँ और फिर उन दोनों नें फोन रख दिया और उन दोनों की वो बातें सुनकर में एकदम गरम हो गया| मैंनें अपनी बहन को गोद में उठाकर बेड पर लेटा दिया और उसके बाद मैंनें तुरंत ही उसकी पेंट और पेंटी दोनों को ही एक साथ उतारकर में उसकी चुदाई करनें लगा और कुछ देर उसकी मस्त मज़ेदार चुदाई करनें के बाद हम दोनों नें कल का विचार बनाना शुरू किया| फिर कुछ देर बाद दरवाजे पर लगी घंटी बज गयी! जिसकी वजह से हमारा उस समय प्लान नहीं बन सका और वो अधूरा ही रह गया! उसी रात को हम दोनों एक ही साथ सोए और दोबारा कल का प्लान बना रहे थे|

फिर मेरी बहन नें मुझसे कहा कि कल दोपहर को मम्मी के चले जानें के बाद मेरी वो दोस्त आ जाएगी! उस समय तू भी घर में ही रहना और वो आएगी तो में उससे इसी विषय के बारे में बात करूँगी और में उससे कहूंगी कि वो तुम्हें थोड़ा सा गरम करे और तुम भी उसको गरम करना! जिसकी वजह से वो गरम हो जाएगी और उसके थोड़ी देर के बाद में उससे कहूंगी कि मुझे एक जरूरी काम से बाहर जाना है और में उससे झूठ बोलकर कि में बस अभी दस मिनट में आती हूँ और में चली जाउंगी| उसके बाद तुम उसके साथ जो भी तुम्हें करना है कर लेना| दोस्तों मुझे अपनी बहन का यह प्लान बहुत अच्छा लगा| तभी मैंनें उससे कहा कि में उस रूम में एक माईक लगा दूँगा! जिसकी वजह से तुम दोनों की सभी बातें में दूसरे कमरे में बड़े आराम से सुन लूँगा और मुझे पूरा सब कुछ पता हो जाएगा| फिर उसनें कहा कि हाँ ठीक है| उसके बाद मैंनें खुश होकर उसके बूब्स और चूत को चूसा और उसके बाद ना जानें कब में खुश होता हुआ सो गया| फिर दूसरे में सुबह से ही बड़ा खुश था और मुझे देखकर मेरी बहन के चेहरे पर भी ख़ुशी थी! दोपहर के समय मेरी बहन की वो सहेली आ गई! उसनें घंटी बजाई और मैंनें जाकर दरवाजा खोल दिया| दोस्तों ये कहानी आप कामुकता डॉट कॉम पर पड़ रहे है|

फिर हमनें एक दूसरे को देखकर मुस्कुराकर एक दूसरे का स्वागत किया| उसके बाद उसनें मुझसे मेरी बहन के बारे में पूछा कि वो कहाँ है? तो मैंनें हंसते हुए उसको जवाब देखकर कहा कि वो अपनें रूम में है! तब वो भी उसी रूम में जानें लगी| उस समय में पीछे से उसकी मटकती हुई गांड को घूरनें लगा! जो दिखनें में बड़ी ही आकर्षक आकार में बहुत बड़ी गोलमटोल थी| दोस्तों मैंनें उस रूम में उसके आनें से पहले ही एक माईक लगा दिया था और में पास वाले कमरे में बैठकर हेड फोन से उन दोनों की वो बातें सुननें लगा| अब मेरी बहन नें अपनी सहेली से कहा अगर तुझे मेरे भाई के साथ चुदाई के मज़े चाहिए तो तू यह काम कर ले! मुझे बिल्कुल भी बुरा नहीं लगेगा और मुझे इस बात की ख़ुशी होगी कि तुझे कम से कम अपनें मन की संतुष्टि अपनी चुदाई की इस खुजली वाली परेशानी से कम से कम मुक्ति तो मिलेगी| अब वो कहनें लगी कि में यह सभी बातें उसको कैसे कहूँ! वो मेरे मन की बात को कैसे समझेगा! में ऐसा क्या करूं? तो मेरी बहन नें उससे कहा कि तू उसको थोड़ा सा अपनें अंग का प्रदर्शन करके गरम कर उसको अपनी तरफ आकर्षित कर हो सकता है कि शायद वो गरम हो जाए और वो अपनें आप को तेरी चुदाई करनें से रोक ना सके! वो तुझे चोद जिसकी वजह से तुझे उसको कुछ बोलना ही नहीं पड़ेगा! बस तुझे उसके साथ दिखानें का थोड़ा सा नाटक ही करना पड़ेगा| अब उसनें मेरी बहन से पूछा कि में कैसे उसको गरम करूं! मुझे तो वो सब भी करना नहीं आता? तो बहन नें उससे बोला कि जैसे तू उसके सामनें अपनी चूत! गांड! बूब्स पर अपनें हाथ रख उसके सामनें अपनें इस गोरे हॉट सेक्सी बदन का थोड़ा सा अंग प्रदर्शन कर! जिसकी वजह से वो अपनें होश खोकर तेरी चुदाई का यह काम जरुर खत्म करे| दोस्तों में उन दोनों की यह बातें सुनकर बहुत गरम हो गया और फिर कुछ देर बाद मेरी बहन नें उससे कहा कि उसको किसी काम से नीचे जाना है और वो बस दस मिनट में ही वापस आ जाएगी और उससे कहा कि यह इतना अच्छा मौका उसको दोबारा नहीं मिलनें वाला! क्योंकि अब तुम दोनों ही पूरे घर में अकेले हो और बात उससे कहनें के बाद वो झट से उठकर खड़ी हो गयी|

loading...

फिर में अपनें कमरे से बाहर निकलकर हॉल में आकर बैठ गया और कुछ देर बाद भी मेरी बहन की वो दोस्त अभी भी उसी रूम में बैठी थी| अब मेरी बहन कमरे से बाहर आई और उसनें जाते हुए मुझे मेरे उस काम के लिए शुभकामनाएँ देनें के बाद उसनें मुझसे धीमे स्वर में कहा कि वो अपनें दूसरे दोस्त के पास जा रही है! वो करीब दो घंटे के बाद वापस आ जाएगी और मुझसे यह बात बोलकर वो चली गयी| फिर मैंनें उठकर दरवाजा अंदर से बंद किया और अब में बेड पर आकर बैठकर उसके बाहर आकर मुझे गरम करनें के बारे में सोच ही रहा था कि उसी समय वो बाहर आ गई और उसनें मेरे सामनें मुझे दिखाते हुए अपनी गांड पर थोड़ा सा हाथ घुमाया और मेरी तरफ देखकर मुस्कुराई और फिर वो किचन में चली गयी| फिर जब वो किचन से बाहर आई तो मैंनें देखा कि उसनें अपनी चूत पर अपनें एक हाथ को रखा हुआ था! वो अपनी चूत को मेरे सामनें सहला रही थी और में अपनी आखें फाड़ फाड़कर उसकी चूत की तरफ देख रहा था| अब उसनें मुझसे पूछा कि बाथरूम कहाँ है! उसको बड़ी ज़ोर से पेशाब आ रहा है और उसका वो हाथ तब तक भी चूत के ऊपर ही रखा हुआ था| फिर मैंनें उसको अपनें साथ ही बाथरूम तक लेकर गया और उसको बाथरूम बता दिया और वो झट से बाथरूम के अंदर चली गयी और जाते समय वो मेरी तरफ मुस्कुरा रही थी|

फिर दो मिनट के बाद वो बाहर आ गई| तब उसनें जानबूझ कर मेरे सामनें चाबी को नीचे गिरा दिया और फिर वो उस चाबी को उठानें के लिए मेरे सामनें झुक गई! जिसकी वजह से मुझे उसकी गोरी उभरती हुई छाती साफ साफ नजर आनें लगी थी और में बड़ा ही चकित होकर उसके बूब्स को घूर घूरकर देख रहा था| फिर वो सीधी होकर किचन में जा रही थी! उसी समय मैंनें बिना देर किए उसको पीछे से पकड़कर बहुत ज़ोर से अपनी बाहों में भरकर पीछे गर्दन पर चूमना शुरू किया| फिर कुछ देर बाद उसको मैंनें अपनी तरफ घुमाया और उसको पीछे ले जाते हुए सामनें वाली दीवार के सहारे खड़ा करके में उसके होंठो पर चूमनें लगा था और उसके होंठो को चूमनें चाटनें के साथ साथ में उसके बूब्स को भी दबा रहा था! ऐसा करनें में मुझे बड़ा मस्त मज़ा आ रहा था! क्योंकि उसके बूब्स आकार में बड़े होनें के साथ साथ बहुत ही मुलायम था! वो ऐसा अहसास मज़ा था! जिसको में किसी भी शब्दों में लिखकर नहीं बता सकता| फिर कुछ देर यह सब करके उसको गरम करनें के बाद में उसको अपनी गोद में उठाकर अपनें रूम में लेकर मैंनें उसको बेड पर लेटा दिया| फिर मैंनें बिना देर किए तुरंत ही अपनी टी-शर्ट और पेंट को खोल दिया और उसके बाद में उसकी शर्ट को खोलनें लगा! जैसे ही मैंनें उसकी शर्ट को खोला मुझे नजर आया कि उसनें एक बड़ी ही सेक्सी गुलाबी रंग की आकर्षक ब्रा पहनी हुई थी| मैंनें उसकी ब्रा को भी तुंरत ही उतार दिया और उसके बाद उसकी जींस उसी के साथ पेंटी को भी खोलकर मैंनें उसको पूरा नंगा कर दिया|

फिर मैंनें उसके बाद अपनी अंडरवियर को भी खोल दिया! जैसे ही मैंनें उसकी पेंटी को खोला तो उसके तुंरत ही नीचे बैठकर मेरे लंड को अपनें हाथों में भरकर झट से पूरा का पूरा लंड अपनें मुहं में ले लिया| उसके बाद वो पागलों की तरह मेरे लंड को चूसनें लगी और उसके ऐसा करनें की वजह से मुझे बहुत मस्त मज़ा आ रहा था और वो ख़ुशी से झूम उठी! वो किसी अनुभवी रंडी की तरह मेरा लंड चूसनें में बहुत व्यस्त नजर आ रही थी और थोड़ी देर तक लंड को बड़े मज़े से चूसनें लगी| अब तक में बहुत जोश में आकर पूरी तरह से गरम हो चुका था और अब मेरा झड़नें का समय पास आ चुका था और उसके चूसते हुए ही मैंनें अपनें लंड का सारा वीर्य उसके मुहं में छोड़ दिया! जिसको उसनें अपनी जीभ से चाट चाटकर साफ कर दिया! वो बड़ी खुश नजर आ रही थी| अब में उसके ऊपर लेटकर उसके बूब्स को चूस रहा था और साथ ही उसकी चूत को भी अपनें एक हाथ से छूकर सहला रहा था| फिर कुछ देर बूब्स को चूसनें के बाद में अब उसकी नाभि को चाट रहा था! जो बड़ी गहरी गरम भी बहुत थी! यह काम करनें में मुझे बड़ा मस्त मज़ा आ रहा था और उसका जोश भी धीरे धीरे बढ़ता जा रहा था| फिर मैंनें उसकी चूत में अपनी एक उंगली को डालकर अंदर बाहर करनें लगा और वो जोश में आकर आहह ऊफ्फ्फ्फ़ की आवाज़ करनें लगी| फिर थोड़ी देर बाद उसनें मुझसे बोला कि तुम अब अपना लंड इसके अंदर डाल दो और अब तुम मेरी चुदाई करो| फिर मैंनें उसके मुहं से यह बात सुनकर खुश होकर तुरंत ही अलमारी से एक कंडोम निकाला और उसको अपनें लंड पर लगाकर मैंनें अब लंड को उसकी गीली कामुक चुदाई के लिए तरस रही चूत में अपनें एक ही जोरदार धक्के के साथ पूरा अंदर डालकर मैंनें अब उसको चोदना शुरू किया और मेरे हर एक धक्के से उसके मुहं से सिर्फ़ दर्द की वजह से आह्ह्ह्हह ऊउईईईईई माँ मर गई प्लीज धीरे करो! ऊउफ़्फ़्फ़ क्या तुम आज मुझे मार ही डालोगे! मुझे बड़ा तेज दर्द हो रहा है! अब बस भी करो बहुत हुआ आईईईइ माँ में मर गई! बचाओ मुझे की आवाज़ आ रही थी! लेकिन फिर भी मैंनें उसके दर्द उन आवाजों की तरफ बिल्कुल भी ध्यान नहीं दिया और में अपनें काम में लगा रहा! उसको मैंनें करीब आधे घंटे तक लगातार तेज गति के धक्के देकर चोदा|

फिर उसके बाद जब में झड़कर शांत हुआ! तब जाकर मैंनें उसकी चूत से अपनें लंड को बाहर निकाला! जो धीरे धीरे छोटा होता चला गया और अब में उसके पास ही लेट गया और मैंनें उससे पूछा क्यों मज़ा आ गया ना तुझे मेरे साथ अपनी चुदाई करवानें में? तो उसनें भी हाँ कहा बोली मुझे अपनी इस पहली चुदाई इस सेक्स अनुभव में तुम्हारे साथ बड़ा मस्त मज़ा आया और मुझसे यह सभी बातें करनें के बाद वो मेरे ऊपर लेटकर मुझे चूमनें मेरी छाती को सहलानें लगी और कुछ देर बाद मेरे ऊपर आकर मेरे लंड को अपनी चूत में डालकर वो खुद ही उछलनें लगी! जब वो उछल रही थी! तब में उसके बूब्स को दबा रहा था| फिर मैंनें कुछ देर बाद घड़ी की तरफ देखा तो अब मेरी मम्मी के वापस आनें का समय होनें वाला था! इसके बारे में मैंनें उससे कहा! तब वो मेरे ऊपर से हटकर खड़ी हो गयी| फिर हम दोनों बाथरूम के तरफ गये और अपनें को साफ करनें लगे! लेकिन मुझे अब उसकी एक बार फिर से चुदाई करनें का मन कर रहा था! इसलिए मैंनें तुरंत ही उसको वहीं बाथरूम में लेटा दिया| उसके बाद उसके दोनों पैरों को पूरा खोलकर अपनें लंड को चूत की गहराई में पहुंचाकर मैंनें उसकी चुदाई करना शुरू किया और मैंनें उसको बाथरूम में करीब बीस मिनट चुदाई के मज़े दिये| उसके बाद जब में झड़नें वाला था और तभी मैंनें तुरंत ही अपनें लंड को उसकी चूत से बाहर निकालकर अपनें वीर्य को लंड को हाथ में लेकर मुठ मारते हुए पूरा नीचे फर्श पर निकाल दिया| फिर उसके बाद हम दोनों नें ठंडा होकर अपनें अपनें बदन को साफ किया और उसके बाद कपड़े पहन लिए और हम बाहर आ गए| उस समय मैंनें उससे कहा कि अब उसको अपनें घर चले जाना चाहिए! क्योंकि अब मेरी मम्मी आनें वाली है! वो तुम्हें अकेले में मेरे साथ देखेगी तो उनको हम दोनों पर शक हो जाएगा|

फिर वो कहनें लगी कि हाँ ठीक है और अब हम दोनों दरवाजे के पास खड़े हो गये और एक दूसरे को बाहों में भरकर हमनें चूमना शुरू किया| उसके बाद मैंनें उससे उसका मोबाईल नंबर माँगा| फिर उसनें मुझे अपनें फोन का नंबर तुरंत दे दिया और उसनें भी मेरा फोन नंबर ले लिया और उसके बाद वो मुझसे बाय कहती हुई हंसकर अपनें घर चली गयी| दोस्तों यह थी मेरी कहानी! लेकिन यह अभी अधूरी है! में बहुत जल्दी आप सभी को इसके आगे क्या क्या हुआ और हम तीनों नें मिलकर कैसे चुदाई की! वो मज़े लिए जरुर अपनी अगली कहानी इस कहानी के दूसरे हिस्से में बताऊंगा

loading...