loading...

“चुत की आग ने मुझे रंडी बना दिया”-18

Antarvasna sex stories, desi kahani, hindi sex stories, chudai ki kahani, sex kahani 

अब तक की इस सेक्स स्टोरी में आपनें पढ़ा कि जवान लड़की की चूत संजय के लंड से चुदाई के लिए गर्म होनें लगी थी और खानें के बाद डांस के दौरान वो और ज्यादा गर्म हो उठी थी|

अब आगे..
अजय वहाँ से निकला और कुर्सी पे जाकर बैठ गया:- बस भाई मैं तो थक गया.. टीना यार, प्लीज़ तेरे से एक काम है यहाँ आ ना|

टीना:- हाँ आती हूँ.. रुक मुझे पता है तेरा काम क्या है.. साला ठरकी कहीं का|

वीरू:- यार अब बहुत हो गया नाच:-गाना मैं थोड़ी कमर सीधी कर लूँ|

संजय:- वो राईट वाला कमरा देख रहा है ना.. वहाँ जाकर आराम कर ले|

टीना:- चलो मैं भी साथ चलती हूँ.. उस साले ठरकी का काम भी निपटा दूँ|

विक्की:- मैं भी आ जाऊं क्या.. यार थोड़ी सी थकान मेरी भी मिटा देना|

टीना:- जिसे आना है आ जाओ मैं चली|
एक:-एक करके सब चले गए|

अब फ्लॉरा थोड़ी घबरा गई कि अब वो क्या करे?

फ्लॉरा:- ये सब तो गए संजय यार मैं भी चलती हूँ.. मुझे लेट हो जाएगा|

संजय:- अरे कहाँ यार.. अभी कौन सा टाइम हुआ है.. और ये सब तो मस्ती करनें गए हैं.. थकान उतारनें.. तुम भी थकी हुई लग रही हो वो सामनें दूसरा कमरा है.. वहाँ तुम भी रेस्ट कर लो|

फ्लॉरा:- हाँ, मेरी पीठ में दर्द हो रहा है|

संजय:- अरे ऐसी बात है तो चलो इसका इलाज मेरे पास है.. मैं 5 मिनट में ठीक कर दूँगा|

फ्लॉरा:- इतनी जल्दी.. वो टीना तो कह रही थी..
इतना बोलकर फ्लॉरा चुप हो गई.. उसके होंठों पे एक मुस्कान आ गई, जिसे संजय अच्छी तरह समझ गया था|

संजय:- अरे दर्द तो बस 5 मिनट का ही है बाकी आधा घंटा तो मालिश का मज़ा लेना|

फ्लॉरा:- अच्छा ये बात है.. तो चलो|
दोनों अन्दर चले गए तो संजय नें डोर लॉक कर दिया, जिसे देख कर फ्लॉरा नें नाटक किया कि ये डोर क्यों लॉक किया?

संजय:- अरे यार फ्लॉरा अब प्लीज़ टाइम वेस्ट मत करो.. मुझे टीना नें सब बता दिया है.. तुम भी प्यासी.. मैं भी प्यासा आ जाओ एक बार मेरे गले लग जाओ|
फ्लॉरा शर्मा गई और भाग कर संजय के गले लग गई| अब संजय भी कहाँ पीछे रहता उसनें झट उसके होंठों पर अपनें होंठ टिका दिए और उसको चूसनें लगा| फ्लॉरा तो पहले ही टीना की बातों से गर्म हो गई थी| अब संजय का लंड वो चुत पर महसूस करके और गर्म हो गई| उसनें हाथ नीचे करके उसका जायजा लिया.. तो ख़ुशी से फूली ना समाई| वो वाकयी में एक तगड़ा लंड था|
संजय:- मेरी जान ऐसे पकड़ के ही खुश होगी.. या इसको प्यार भी करेगी?

फ्लॉरा:- करूँगी ना.. जी भर के करूँगी लंड की चुसाई तो मैं बड़े प्यार से करती हूँ|

संजय:- अच्छा तो कल झूठ क्यों बोली थी कि तू चुदी हुई नहीं है?

loading...

फ्लॉरा:- अरे यार पहली मुलाकात में कैसे हाँ कहती.. वैसे तुम लोगों को देख कर ही मैं समझ गई थी सब कितनें बड़े चोदू हो|

संजय:- अच्छा फिर भी यहाँ पार्टी में आ गई.. तुम्हें डर नहीं लगा?

फ्लॉरा:- तुम चोदू हो ये जानकर ही तो यहाँ चुदनें के लिए आई हूँ.. वरना मेरा क्या काम हा हा हा हा..

संजय:- साली तू भी पक्की चुदक्कड़ है.. चल अब बातें ही करेगी या मुझे अपनें ये बड़े:-बड़े खरबूजे भी खिलाएगी|
संजय नें उसके मम्मों को पकड़ कर मसल दिया|
फ्लॉरा:- सब तुम्हारा ही है.. खा लो राजा|
संजय नें जल्दी से उसका टॉप निकाला.. अन्दर ब्लू ब्रा में कैद उसके चूचे कहर ढहा रहे थे| फिर जल्दी से उसकी कैप्री भी निकाल दी| अन्दर का नजारा देख कर संजय का लंड बेकाबू हो गया.. इतना सख़्त हो गया कि पेंट को फाड़कर बाहर आनें को बेताब था|
अन्दर फ्लॉरा नें जालीदार ब्लू पेंटी पहनी थी.. जिसमें से उस लड़की की लंबी चुत साफ नज़र आ रही थी और सबसे खास बात उसकी जाँघ पर राईट साइड एक तिल था.. जो उसकी सुन्दरता को अलग ही दर्शा रहा था|
फ्लॉरा इठला कर बोली:- डार्लिंग देख के ही हल्के होनें का इरादा है क्या?

संजय:- यार माँ कसम क्या फिगर है तेरा.. देख कर ही मज़ा आ गया| अब तेरी ऐसी मालिश करूँगा कि तू मेरी दीवानी हो जाएगी|

फ्लॉरा:- अच्छा ये बात है तो चलो अपनें लंड को भी आज़ाद कर दो.. ताकि मैं भी देख कर थोड़ा मज़ा ले लूँ|

संजय:- नहीं.. पहले तुझे पूरी नंगी तो कर दूँ.. तेरे ये मचलते चूचे और फड़कती नंगी चिकनी चुत को देख लूँ.. फिर तुझे लंड महाराज के दर्शन भी करवा दूँगा|
इतना कहकर संजू नें उसकी ब्रा निकाल दी.. फिर उसकी पेंटी भी निकाल दी| दोस्तो, क्या नजारा था फ्लॉरा के 36″ के गोल चूचे.. जैसे किसी नें आराम से उनको तराशा हो.. और चुत ऐसी लंबी नोकदार.. जैसे इसे लड़कों को रिझानें के लिए खास ऐसा रूप दिया गया हो| संजय तो पागल हो गया.. उसनें चुत पे एक किस कर दी|
फ्लॉरा:- आह.. संजय अब ऐसे ही तड़पाओगे क्या.. मेरे होंठ सूख रहे हैं.. अपनें लंड से मेरी भी प्यास बुझा दो|

संजय:- अभी लो मेरी जान.. तुझे लंड के दर्शन देता हूँ|
संजय नें जल्दी से अपनें कपड़े निकाल दिए| उसका 8″ का लंड बंदूक की तरह तना हुआ था, जिसे देख कर फ्लॉरा से रहा नहीं गया.. वो फ़ौरन घुटनों के बल बैठ कर लंड को चूसनें लगी|
फ्लॉरा के लंड चूसनें का अंदाज अलग ही था जो संजय को दूसरी दुनिया में ले गया|
संजय:- आह.. डार्लिंग उफ़ क्या चूसती है आह.. ऐसा लगता है आह.. बहुत लंड चूस चुकी तू.. आह.. उफ़ मज़ा आ गया|
फ्लॉरा लंड को पूरा मुँह में लेती.. फिर होंठ को दबा कर धीरे:-धीरे लंड बाहर निकालती और फिर गोटियां मुँह में लेकर एक चुसकी लेती| ये अंदाज इतना मस्त था कि बड़े:-बड़े लंड को बेहाल कर दे|
दस मिनट तक फ्लॉरा लंड चूसती रही| फिर संजय नें उसको पकड़ कर ऊपर उठाया और बिस्तर पर लेटा दिया|
अब संजय उसके मम्मों को चूसनें लगा उसके निप्पल को दांतों में दबा कर हल्का सा काट लेता, जिससे फ्लॉरा की आग और तेज हो जाती|
दोस्तों जैसा कि इन सबनें प्लान बनाया था| कमरे की खिड़की से सबके सब लड़की की चुदाई का लाइव शो देख रहे थे| अजय नें तो अपना लंड बाहर निकाल कर फ्लॉरा की नंगी जवानी देख कर सहलाना शुरू कर दिया था|
अजय:- हय साली.. क्या मस्त माल है उफ़ आह.. टीना प्लीज़ यार थोड़ा चूस दे ना|

टीना:- चुप साले हरामी.. ये देख कर मेरी खुद की हालत खराब है| मैं तो नहीं देख सकती.. अब तुम सब देखो और मौका देख कर चौका मार देना.. जैसा कि संजय नें बताया था|
संजय पागलों की तरह फ्लॉरा के चूचे चूस रहा था और अपनें हाथों से दबा रहा था|
फ्लॉरा:- आह.. आ संजू उफ़ आराम से आह.. प्लीज़ आह.. मेरी चुत आह.. उसको भी चूसो आह..

संजय:- मेरी जान मेरे पास एक ही मुँह है.. उससे दूध चूसूं या चुत.. तेरी जैसी आइटम के लिए तो एक मुँह चुत पे और एक गांड में तीसरा एक मम्मों पे चौथा दूसरे आम पर और एक तेरे मुँह में लंड डाल कर तुझे मज़ा दे|

फ्लॉरा:- आहा काश इतना मज़ा मिल जाए आह.. मगर उफ़ ये आह.. सही नहीं उफ़ सब मिलकर आह.. मेरी हालत आह.. खराब कर देंगे आह.. चूसो अफ..

संजय:- डार्लिंग डरो मत.. खुल कर एंजाय करो.. वो जवानी का क्या फायदा जिसमें कोई मजा ना हो.. आज मौका है सोचो 5 लंड एक साथ तुम चूस रही हो सोचो कितना मज़ा आएगा|
फ्लॉरा की वासना इतनी बढ़ गई थी कि उसे होश भी नहीं रहा और सबसे बड़ी बात लंड चूसनें की.. तो दोस्तों ये फ्लॉरा की सबसे बड़ी कमजोरी है| जब ये अपनी कहानी बताएगी तब आप समझ जाओगे|
फ्लॉरा:- आह.. उफ़फ्फ़ संजू आह.. सच में उफ़ बुलाओ आह.. अब चाहे कुछ भी हो आह.. आज तो सबके आह.. चूस लूँगी आह.. बुलाओ आह.. जल्दी करो अब मेरी आँखों में बस लंड घूम रहे हैं.. आह…

संजय नें खड़े होकर दरवाजा खोल दिया.. सब अन्दर आ गए, साथ में टीना भी आ गई| वो इस यादगार चुदाई को देखना चाहती थी|

अन्दर आनें के साथ ही सब एक झटके में नंगे हो गए और गोल घेरा बना कर खड़े हो गए|
फ्लॉरा:- वाउ यार तुम सबके लंड तो ज़बरदस्त हैं.. आज तो मेरी सारी प्यास मिट जाएगी| ओह अजय, तुम्हारा तो मेरे ब्वॉयफ्रेंड जैसा है.. मैं पहले तुमसे ही शुरू करूँगी|
फ्लॉरा किसी रंडी की तरह एक:-एक करके सबके लंड चूसनें लगी| वो सब तो पहले ही बहुत गर्म थे और फ्लॉरा की चुसाई से अब उनका कंट्रोल जाता रहा|
वैसे तो विक्की वीरू और साहिल के लंड 7″ के थे मगर साहिल के लंड की मोटाई सबसे ज़्यादा थी और वो फ्लॉरा के मुँह में ठीक से जा नहीं पा रहा था|

फ्लॉरा:- उफ़ आह.. लंड आह.. लंड कितनें मस्त हैं आह.. साहिल क्या खाते हो तुम आह.. कितना मोटा है ये.. आह.. पता नहीं जिस लड़की की चुत में ये जाएगा तो उसकी क्या हालत होगी.. आह..

साहिल:- जानेंमन डरो मत.. बड़े प्यार से डालूँगा इसे, अब तो पूरा साल तुझे मज़ा देना है आह.. क्या चूसती है ओफ..

संजय:- बहुत हो गया चूसना.. चलो मेरी जान अब चुदाई के लिए तैयार हो जाओ|
संजय नें फ्लॉरा को गोदी में उठा लिया और बिस्तर पर लेटा दिया और बाक़ी सब गली के कुत्तों की तरह लार टपकाते हुए बिस्तर पर आ गए|
फ्लॉरा:- संजय प्लीज़ आराम से करना.. पूरा एक साल हो गया, उंगली के अलावा मेरी चुत में कुछ नहीं गया|

वीरू:- अच्छा साली सुबह तो बड़ी शरीफ़ बन रही थी| हमें तो पता था तू चुदी हुई है|

संजय:- चुप साले अब कोई बकवास नहीं.. ये कोई रंडी नहीं जो तू ऐसे बात करेगा| आज से ये हमारी दोस्त है ओके|
फ्लॉरा:- थैंक्स संजय.. मगर चुदाई के वक़्त मैं रंडी बनना चाहती हूँ.. सब मुझे गालियाँ देना, तब ज़्यादा मज़ा आएगा|

संजय:- अच्छा ये बात है साली छिनाल.. मैं तेरी तरफ़दारी कर रहा हूँ और तू खुद रंडी बनना चाहती है, तो ले अब संभाल मेरा लंड.. पहले इससे चुदेगी तो बाद में सबके लंड आराम से ले पाएगी|

फ्लॉरा:- आह.. अभी नहीं.. पहले सब एक साथ मेरी चुत को चाटो और चूसो आह.. मेरे मम्मों को खा जाओ|
फ्लॉरा के कहनें की देर थी कि विक्की और वीरू उसके मम्मों पे चिपक गए और साहिल उसकी चुत को चूसनें लगा| इधर अजय नें अपना लंड उसके मुँह में डाल दिया|

Add a Comment

Your email address will not be published.

loading...