loading...

“उसकी याद आज भी सताती है”-1

Antarvasna sex stories, desi kahani, hindi sex stories, chudai ki kahani,

मेरी कहानी
कॉलेज की लड़की की चुदाई की कहानी हिंदी में
को पढ़कर किसी पाठिका नें यह कहानी भेजी है! आप भी पढ़ें और आनन्द लें!
मंजू शर्मा

मेरा नाम साबिया है| निकाह को 7 साल हो गए है| मैं और मेरे पति इंदौर! मध्य प्रदेश में एक ही बैंक में जॉब करते हैं लेकिन हमारी ब्रांच अलग-अलग है| वो सीनियर मैनेंजर हैं और मैं मैनेंजर| निकाह से पहले मैं ग्वालियर में थी और वो भोपाल में|

एक बार मेरी एक महीनें की ट्रेनिंग थी और मुझे भोपाल में ही रहना था| नियत दिन और समय पर मैं भोपाल पहुँच गई| और भी कई शाखाओं से लोग आये हुए थे| बैंक नें 2 प्राइवेट गेस्ट हाउस बुक कर रखे थे और उनमें हर कमरे में 2-2! 3-3 लोगों को एडजस्ट किया था| मेरे कमरे में भी शेफाली नाम की एक लड़की थी जो झाँसी से आई हुई थी|

हमारे 3 इंस्ट्रक्टर थे और एक प्रोग्राम को-ऑर्डिनेंटर थे जिनका नाम शहजाद है! और वो अब मेरे पति हैं| बहुत ही खुशनुमा माहौल था! 2 दिन में ही सभी घुलमिल गए| मैंनें नोटिस किया कि शहज़ाद सर की नज़र लगभग मेरे पर ही रहती थी और वो किसी न किसी बहानें से मेरे से बात करनें या मुझे इम्प्रेस करनें की कोशिश करते रहते| और भी कई ट्रेनी मेरे पर लाइन मार रहे थे या वास्तव में हर कोई हर किसी पर लाइन मार रहा था जिनमें कुछ शादीशुदा मर्द भी थे|

मैं अपनें बारे में बता दूँ! उस समय मैं बहुत ही पतली सी थी और मेरे बूब्स भी कोई ज्यादा बड़े नहीं थे| कुल मिला कर मुझे ऐसा लगता था कि मेरे अंदर कोई खास आकर्षण नहीं था जो कोई मुझ पर लाइन मारे| हाँ! मेरी आवाज़ बहुत ही पतली और सुरीली है और शहज़ाद मेरी आवाज़ से ही प्रभावित हुए थे|

पहला सप्ताह खत्म हुआ और हमारा टेस्ट हुआ| शाम को एक छोटी सी पार्टी का प्रोग्राम रखा गया! जिसमें कहा गया कि जो कोई भी कुछ भी कहानी! कविता! चुटकुले! शेर! ग़जल या गाना कुछ भी सुनाना चाहे सुना दे|
मैं बहुत खुश थी क्योंकि मुझे गानें का बहुत शौक है|
मेरी बारी आई तो मैंनें लता जी का गाना ‘आपकी नज़रों नें समझा प्यार के काबिल मुझे’ सुनाया फिर तो जैसे महफ़िल रुक ही गई और हर और से किसी न किसी गानें की फरमाइश आनें लगी और मैंनें पांच और गानें सुनाये|

महफ़िल के बाद डिनर पर हम बैठे तो शहज़ाद सर नें अपनी कुर्सी मेरे साथ रखी ताकि कोई न कोई बात होती रहे| कभी प्लेट के बहानें तो कभी गिलास के बहानें उन्होंनें मुझे छुआ| मुझे भी अब उनमें दिलचस्पी होनें लगी थी|
जैसे ही डिनर ख़त्म हुआ और सब अपनें अपनें रूम में जानें लगे तो शहज़ाद सर नें मेरे से पूछ लिया- कल रविवार है आप क्या कर रही हैं?
मैं बोली- पहले तो मैं आराम से सो कर उठूंगी फिर पूरे हफ्ते के मैले कपड़े धोऊंगी फिर कुछ पढ़ाई-वढ़ाई|

तो उन्होंनें बोला कि अगर मुझे अच्छा लगे तो कल शाम को मूवी देखनें चलते हैं| शाम को थोड़ा जल्दी निकल जायेंगे| कुछ देर शहर में घूमेंगे और फिर शाम को मूवी देखनें के बाद डिनर बाहर करेंगे|
मुझे भी इसमें कुछ खास बुराई नहीं लगी और वैसे भी मैं उनसे अपनें आप को आकर्षित महसूस कर रही थी तो मैंनें हाँ बोल दिया|

छ: बजे हम मूवी हाल पहुँच गए! इंग्लिश मूवी थी! हाल में कोई खास रश नहीं था| हमारे वाली लाइन में 4 सीट छोड़ कर केवल एक जोड़ा और बैठा था| अब अँधेरा हॉल हो और दो जवान लोग पास-पास बैठे हों तो कोई पत्थर ही होगा जिसका सेक्स की तरफ ध्यान न जाए बल्कि मैं तो कहूँगी कि सेक्स के अलावा किसी और तरफ ध्यान जाता ही नहीं|

आधा घंटा बीत गया और हम मूवी देखते रहे| मैंनें महसूस किया कि शहज़ाद का ध्यान मूवी में नहीं था और वो बैचैन भी महसूस कर रहा था और बीच-बीच में चोर निगाहों से मुझे देखनें की कोशिश भी करता|
शायद वो डर रहा था|
अब मैं तो पहल कर नहीं सकती थी! फिर भी मैंनें कुछ करनें की सोची| मैंनें अपनें हाथ उठा कर एक ज़ोरदार अंगड़ाई ली और मेरा हाथ उसके चेहरे से टकराया तो मैंनें सॉरी बोल दिया|

थोड़ी देर बाद उसमें थोड़ी हिम्मत आई और उसनें अपना हाथ मेरे हाथ पर रख दिया| मैंनें भी अपना हाथ नहीं हटाया तो उसका हौंसला बढ़ा और उसनें मेरे हाथ को दबाना शुरू कर दिया|
तभी इंटरवल हो गया|

इंटरवल के बाद हमारी लाइन में बैठा जोड़ा पीछे वाली लाइन में जाकर बैठ गया| अभी पांच मिनट ही हुए होंगे कि शहज़ाद नें मेरा हाथ पकड़ लिया| जैसे ही मैंनें उसकी तरफ देखा उसनें मेरे बाएं गाल पर किस कर दिया|
मैंनें घबरा कर अपना हाथ पीछे खींच लिया|

ऐसे ही लगभग 15 मिनट बीत गए| मैं डर गई कि कहीं वो डर तो नहीं गया क्योंकि मैं भी चाहती थी कि वो कोई हरकत करे|
जब उसनें कोई हरकत नहीं की तो मैंनें ही उसके हाथ पर अपना हाथ रख दिया|

शहज़ाद का होंसला बढ़ा और उसनें घुमा कर मेरी गर्दन में हाथ डाला और मेरा चेहरा अपनी तरफ कर के मेरे होठों पर अपनें होंठ लगा दिए| मैं भी उसका साथ देनें लगी| तब उसनें अपना एक हाथ मेरे एक बूब पर रख दिया और उसे दबानें लगा|
जब 2-3 मिनट बीत गए तो मुझे भी अब कुछ कुछ होनें लगा तो मैंनें अपना एक हाथ शहज़ाद की पैन्ट के ऊपर रख कर उसके लंड को दबाना शुरू कर दिया|

अब शहज़ाद नें अपना एक हाथ मेरी कमीज़ उठा कर अंदर डाल दिया और मैंनें भी उसकी सहूलियत के लिए अपना एक बूब ब्रा से बाहर निकाल कर उसके हाथ में दे दिया| थोड़ी देर बाद उसनें मेरे बूब को छोड़ कर अपना हाथ मेरी सलवार के नाड़े की तरफ बढ़ाया लेकिन जब उससे नाड़ा नहीं खुला तो मैंनें खुद ही खोल दिया|

जैसे ही उसनें मेरे दानें पर हाथ लगाया तो मुझे जैसे करंट सा लगा और मेरा पानी निकल गया! पहली बार किसी नें उस जगह को छुआ था|
अब मेरी इच्छा थी कि मैं शहज़ाद का भी काम कर दूँ! मैंनें उसकी ज़िप खोली! जैसे ही उसके लंड को बाहर निकालनें के लिए अंदर हाथ डाला तभी हॉल की बत्तियां जल गई और मूवी खत्म हो गई|

हम पिक्चर हाल से बाहर आये! नज़दीक ही एक रेस्टोरेंट में डिनर किया और 10|30 गेस्ट हाउस आ गए|

अपनें रूम में आ कर मुझे लगभग 2 बजे तक नींद नहीं आई मुझे अंदाज़ा था कि यही हाल शहज़ाद का होगा|

अगले दिन से फिर ट्रेनिंग शुरू हो गई| शाम को शहज़ाद नें मुझे बोला कि डिनर गेस्ट हाउस की बजाए बाहर करें|
मुझे लगा कि वो कल वाला अधूरा काम पूरा करनें का जुगाड़ लगा रहा था| मेरा भी मन किया कि शहज़ाद का काम कर देना चाहिए पर ऐसा कुछ नहीं हुआ| हम एक रेस्टोरेंट में गए और डिनर का आर्डर किया| डिनर आ गया और हम डिनर करनें लगे|

खाना खाते-खाते शहज़ाद नें मुझे बोला कि वो एक बात कहना चाहता है|
मेरी सहमति मिलते ही उसनें मुझे ‘आई लव यू’ बोल दिया|

मैं चुप रही| मेरा जवाब न पाकर उसे बैचैनी होनें लगी|

वापिस गेस्ट हाउस में आकर वो अपनें कमरे में और मैं अपनें कमरे में चले गए| दो दिन बाद मेरी रूम पार्टनर के घर से फ़ोन आ गया कि उसकी माँ की तबियत ख़राब है और वो चली गई|

loading...

अब मैं कमरे में अकेली रह गई| अगले दिन मुझे नींद नहीं आ रही थी| एक तो कमरे में मच्छर थे और कुछ मैं बैचैन थी| मैंनें रात को लगभग एक बजे शहज़ाद को फ़ोन किया| दो बार ट्राई करनें के बाद उसनें फ़ोन उठाया|
मैंनें उसे नींद से जगानें के लिए माफ़ी मांगी और पूछा कि कोई मच्छर भगानें वाली चीज़ है तो उसनें बोला की ऐसा तो कुछ उसके पास नहीं था|

फिर थोड़ी देर बाद उसका फ़ोन आया कि उसके कमरे में मच्छर नहीं हैं! अगर नींद न आ रही हो तो मैं उसके कमरे में आ जाऊं| हमारे कमरे एक ही फ्लोर पर थे| मैं पहले तो 15-20 मिनट सोचती रही! फिर मैंनें जानें का फैसला किया|
मैंनें जो गाउन पहना था उसी में ही उसके कमरे में चली गई|

वहाँ एक डबल बेड था 5-10 मिनट हमनें बातचीत की और फिर मैंनें उसे कहा कि लाइट बंद कर दे| मैं सोनें की कोशिश कर रही थी पर अब नींद नहीं आ रही थी और मूवी वाले दिन की बातें याद आनें लगी| मुझे लगा कि शहज़ाद भी जाग रहा था|
मैंनें उसे आवाज़ दी तो पता लगा कि वो भी जग रहा था|
मैंनें पूछा कि नींद नहीं आ रही क्या तो उसनें बोला कि उसकी शुरू की नींद पूरी हो चुकी है अब नींद आराम से ही आएगी|

कमरे की लाइट बंद थी लेकिन कोरिडोर की लाइट से कुछ रोशनी खिड़की के शीशे से अंदर आ रही थी यानि कि घुप्प अँधेरे वाली स्थिति नहीं थी|

हम बातें करनें लगे| शहज़ाद नें मेरे से पूछा कि मैंनें उसकी बात का जवाब नहीं दिया तो मैं चुप हो गई| उसनें जब दोबारा पूछा तो मैंनें हंसकर उसे बोला- शहज़ाद! तुम्हें अक्ल नहीं है! लड़की का चुप रहना भी उसकी हाँ कहनें का एक अंदाज़ होता है|

इतना सुनना था की शहज़ाद नें मुझे अपनी ओर खींच लिया और करवट बदल कर पीठ के बल हो गया| उसके इस तरह से खींचनें से मैं एकदम शहज़ाद के ऊपर आ गई और उसनें मुझे सिर से पकड़ कर अपनें होंठ मेरे होंठों पर चिपका दिए|
लगभग 15 मिनट तक हम लिप किस करते रहे|

अब सेक्स की गर्मी दोनों को लगनी शुरू हो गई थी| फिर उसनें मुझे बिठाया और मेरे मेरे गाउन की बेल्ट खोल कर उसे उतार दिया| अब मैं सिर्फ पेंटी में रह गई| शहज़ाद नें मेरे बूब्स को मसलना और चूसना शुरू कर दिया|
मैं पहले ही बता चुकी हूँ कि मेरे बूब्स कोई खास बड़े नहीं थे पर फिर भी संतरे जितनें तो थे ही|

किसी भी मर्द की आदत होती है कि बूब्स छोटे हों या बड़े पर अगर औरत सामनें नंगी लेटी हो तो मर्द उन्हें छोड़ता नहीं है और मसलता और चूसता ही है| मैं भी अब गर्म हो गई थी| मैंनें शहज़ाद की बनियान उतार दी और उसके अंडरवियर से लंड को बाहर निकाल कर धीरे धीरे उसके साथ खेलनें लगी|

शहज़ाद नें मुझे लिटा दिया और मेरी पेंटी उतार दी| अब मैं बिल्कुल नंगी थी|

शहज़ाद नें मेरे दानें को मसलना शुरू किया तो मेरी सिसकारियां निकलनें लगी| मेरी सिसकारियों नें उसे भी बहुत उत्तेजित कर दिया और उसनें अपना अंडरवियर उतार दिया! मेरी टांगों के बीच आ गया|
तभी उसनें बेड स्विच से लाइट ऑन कर दी! मैंनें घबरा कर अपनी आँखें बंद कर की और अपनें हाथों से अपनें बूब्स को ढक लिया! अपनी दोनों टांगों को एक दूसरे से क्रॉस करवा कर अपनी चूत को भी ढक लिया|

शहज़ाद मुझे अपनी चूत दिखानें को बोलनें लगा और मैं उससे लाइट बंद करनें को कह रही थी|
तब शहज़ाद नें बोला कि उसनें इससे पहले कभी चूत नहीं देखी इसलिए उसे देखना चाहता है|

मुझे उस पर बहुत प्यार आया और मैंनें अपनी टांगें खोल दी| शहज़ाद नें दोनों हाथों से मेरी कुंवारी चूत को फैला कर देखा फिर उसनें अंदर उंगली डाल दी| मुझे थोड़ा सा दर्द हुआ पर उसके उंगली आगे पीछे करनें से मैं सहज हो गई|

शहज़ाद ज्यादा इंतज़ार न कर सका और उसनें अपनें लंड को मेरी चूत पर लगा दिया|
मेरी चूत कुंवारी थी और टाइट थी! लंड अंदर नहीं गया और फिसल गया|

उसनें फिर सेट करके जोर लगाया और लंड नें अपना रास्ता बनाते हुए अपना टोपा अंदर भेज दिया| शहज़ाद नें फिर जोर लगाया तो आधा लंड अंदर चला गया| मेरे शरीर में दर्द की लहर दौड़ गई| मैंनें लंड निकालनें को बोला लेकिन उसनें नहीं निकाला| उलटे एक और ज़ोर का झटका लगा दिया! मेरी चीख निकल गई|

लेकिन इससे पहले शहज़ाद कुछ और करता! उसका लंड छूट गया! वो मेरे साइड में लेट गया और थोड़ी देर बाद लंड खुद ही बाहर आ गया|

मेरी कामवासना अधूरी रह गई थी! मैंनें बाथरूम जा कर अपनी चूत को साफ़ किया और आकर बेड पर लेट गई|

शहज़ाद नें धीरे धीरे मेरे बूब्स को छेड़ना शुरू कर दिया तो मैंनें भी उसके लंड को हिलाना शुरू कर दिया जिससे वो फिर से खड़ा होनें लगा| शहज़ाद मेरे बूब्स से खेल और चूस रहा था! जब बहुत देर उसनें और कुछ नहीं किया तो मैंनें उसका एक हाथ पकड़ कर थोड़ा नीचे किया|

वो मेरा इशारा समझ गया और अपनें हाथ से मेरी चूत की कलियों और दानें को सहलानें लगा| उत्तेजना में मेरी सिसकारियाँ निकल रही थी जिससे वो भी उत्तेजित हो गया और अपनी एक उंगली और फिर दो उंगली मेरी चूत में डाल कर आगे पीछे करनें लगा|

मैंनें उसे एक और उंगली डालनें को बोला! अब वो 3 उँगलियाँ मेरी चूत में डाल कर मुझे पूरा आनन्द दे रहा था और मैं उसके लंड को जितना कठोर बना सकती थी! बना रही थी|

फिर मैंनें अपनी टांगें पूरी चौड़ी कर दी! शहज़ाद मेरी टांगों के बीच में आया और लंड को मेरी चूत पर लगा कर धक्का लगा दिया| लंड आधा अंदर चला गया| अब मुझे दर्द भी नहीं हुआ|
फिर उसनें धीरे धीरे आगे पीछे होना शुरू किया और उसकी स्पीड बढ़ती गई जैसे कोई रेल का इंजन करता है| लगभग 3-4 मिनट बाद मेरे पेट और और उसके नीचे के हिस्से में ज़बरदस्त अकड़न हुई और मैंनें कांपते हुए पानी छोड़ दिया|

शहज़ाद का क्योंकि दूसरी बार था इसलिए उसका इंजन अभी चल रहा था| वो अब पसीनें-पसीनें हो चुका था और हांफ रहा था पर रुक नहीं रहा था| उसके पसीनें की खुशबू से मेरे अंदर फिर उत्तेजना का संचार होनें लगा और अब मैं भी नीचे से अपनी कमर उठा कर उसका साथ देनें लगी|
7-8 मिनट बाद शहज़ाद की गति तेज़ हो गई और वो मेरे अंदर ही झड़ गया| मैं भी उसके साथ ही झड़ गई|
हम हांफते-हांफते एक दूसरे की बगल में पड़े हुए थे कब नींद आ गई पता ही नहीं चला|

सुबह जब शहज़ाद के फ़ोन का 7 बजे अलार्म बजा तो नींद खुली| दोनों नें एक दूसरे को मुस्कुरा कर देखा| शहज़ाद नें खींच कर अपनें होंठ मेरे होंठों पर लगा दिए| मुझे भी आजाद होनें की कोई जल्दी नहीं थी|
5 मिनट बाद शहज़ाद नें मुझे छोड़ा|
मैंनें उसे बोला कि वो कोरिडोर में जा कर देखे कि कोई है तो नहीं क्योंकि मैंनें अपनें कमरे में जाना था और मैं उस समय सिर्फ गाऊन में थी|

उसनें जब देखा कि कोई नहीं है तो मैं भाग कर अपनें कमरे में चली गई|

अब तो हमारी यही रूटीन बन गई! शाम को डिनर बाहर करते! घूम फिर कर रात को आते और कभी वो मेरे कमरे में और कभी मैं उसके कमरे में| अगले कुछ दिन यही चलता रहा| फिर मेरी माहवारी आ गई उसके बाद हमारी ट्रेनिंग भी खत्म हो गई और सब अपनें अपनें घर|
बाकी अगले भाग में!

loading...