loading...

“अपनी बहन माही की चुदाई की मैंने”

Antarvasna sex stories, desi kahani, hindi sex stories, chudai ki kahani, sex kahani

हैलो फ्रेंड्स|| मेरा नाम अविनाश है मैं दिल्ली का रहनें वाला हूँ| मैं कोई पहलवान जैसा नहीं हूँ|| लेकिन एकदम फिट बॉडी है और 5 फीट 11 इंच की लम्बाई का बन्दा हूँ|

मेरी फैमिली में मम्मी:-डैडी और मेरी एक बहन है| मेरी मम्मी एक हाउस वाइफ हैं और पापा का अपना रिटेल का बिजनेंस है| मेरी बहन मुझसे दो साल छोटी है|| लेकिन हम दोनों एक ही कॉलेज में अपनी पढ़ाई कर रहे हैं|
मेरे घर में सभी काफी हंसमुख स्वभाव के हैं ख़ास तौर पर मेरे डैडी और मेरी बहन बहुत ही हंसमुख हैं|
जिस तरह से मैं और मेरी बहन दोनों एक ही कॉलेज में हैं|| तो वो ज़्यादा मॉडर्न बनकर पेश नहीं आती है| मेरे डैडी एकदम जॅकी श्रॉफ से दिखते हैं| कॉलेज में भी अक्सर मेरी फ्रेंड्स कहते हैं कि मेरे डैडी की काफ़ी अच्छी पर्सनॅलिटी है|

यह कहानी की दुनिया के मेरा पहला कदम है| इससे पहले मैंनें बहुत कहानियाँ पढ़ी हैं लेकिन कभी अपनी कहानी किसी के साथ शेयर नहीं कर पाया और फाइनली मैंनें डिसाइड किया कि क्यों ना मैं अपनी फैमिली सेक्स स्टोरी भी आप सब तक पहुँचाऊँ|| शायद आपको पसंद आए|

कहानी पूरी तरह से मेरे और मेरी बहन माही के साथ जुड़ी है|
वो रोज मेरे साथ मेरी बाइक पर कॉलेज जाती है|| लेकिन आनें के टाइम वो अपनी फ्रेंड्स के साथ आ जाती है| वो ये भी समझती है कि मुझे भी कॉलेज में लड़कियों के साथ घूमना पसंद है|
कॉलेज में मेरी इमेज एक प्लेबाय से कम नहीं है|| लेकिन कभी सेक्स का एक्सपीरियेन्स नहीं ले पाया|| क्योंकि दिल्ली में जगह अरेंज करना इतना ईज़ी नहीं है|
मैं अभी फाइनल इयर में था और मेरी बहन अभी फर्स्ट इयर में है|
उसे ट्रेडीशनल कपड़े ही पहनना ही पसंद हैं इसलिए वो सलवार सूट वगैरह पहन कर ही कॉलेज आती है| कभी:-कभी मम्मी के कहनें पर स्कर्ट भी पहन लेती है| मेरी कुछ खास फ्रेंड्स हैं जो अक्सर कहती हैं कि अविनाश अगर माही चाहे तो तुझसे हॉट दिख सकती है|
अक्सर मैं जब उसे बाइक पर कॉलेज के गेट पर ड्रॉप करता था|| तो उसके जानें के बाद मेरी फ्रेंड्स अक्सर कहती थीं ‘शुक्र है|| माही का भाई यहाँ पर है|| नहीं तो वो कॉलेज में एक हॉट बॉम्ब के नाम से जानी जाती||’
ये सब सुनकर मुझे अजीब लगता था कि मेरी वजह से मेरी बहन खुद को कुछ दबाव में महसूस कर रही है|
मैं उन लड़कियों से अक्सर पूछता कि आख़िर क्यों माही तुम्हें हॉट लगती है|| तो वो सब अक्सर कहतीं कि एक भाई की नज़र से मत देख|| और फिर देख|| ‘लुक एट हर बूब्स|| जैसे अन्दर कोई आयरन बॉल लगी हो|’

‘लुक एट हर बैक|| पता नहीं कितनें जवान दिलों की धड़कन होगी ये||’
ये सब सुनकर मैं भी अपनी बहन को गौर से देखनें लगा, यहाँ तक कि घर में भी मैं उसे गौर से देखता|

मेरी गर्ल:-फ्रेंड अक्सर कहती:- अविनाश मेरे साथ कहीं चलो न|| हम लोग सेक्स का मजा लेंगे||

तो मैं उसे अक्सर पूछता:- क्या लड़कियों का भी माइंड सेक्स की तरफ घूमता रहता है?

तो वो कहती:- हाँ|| लड़कों से ज़्यादा||
फिर वो मुझ पर कमेंट भी मारती:- लेकिन मैं क्या करूँ|| मेरा बॉयफ़्रेंड तो कुछ करता ही नहीं है|

मैं हँस देता||
मैंनें अपनी गर्ल:-फ्रेंड को बताया:- देख मेरी बहन को|| वो भी तो कॉलेज आती है लेकिन वो इस बारे में नहीं सोचती|

तो वो बोली:- वो तुम्हारी बहन है|| तुम्हें थोड़ी ना बताएगी|| नहीं तो वो भी तरस रही होगी कि उसे कोई आकर मसल के रख दे|
मैं अपनी बहन से इतना फ्रैंक नहीं था लेकिन मैंनें इन्हीं सब बातों को सोच कर धीरे:-धीरे उसके साथ फ्रैंक होना शुरू कर दिया|

घर पर उसके सामनें अपनी गर्ल:-फ्रेंड्स से बात करना|| उसके कमरे में कभी:-कभी स्मोकिंग कर लेना इत्यादि||
मैं उससे अक्सर पूछता भी रहता था:- तुम्हें बुरा तो नहीं लगता|| तो वो अक्सर कहती:- अरे ये सब तो आजकल लड़कों में नॉर्मल बातें हैं इनका क्या बुरा मानना|
धीरे:-धीरे मैं उसके दिल का हाल जाननें की कोशिश करनें लगा और उसे मैंनें बताया:- मेरी गर्ल:-फ्रेंड ये कहती है कि हर लड़की हॉट दिखना चाहती है|

तो माही नें कहा:- हाँ|| ये बात सच है||

फिर मैंनें कहा:- तुम कॉलेज इतनी सिंपल बन कर क्यों जाती हो?

तो उसनें कहा:- लड़की हॉट दिखती है तो लड़के 100 बार कमेंट करते हैं और वो सब मेरे भाई को अच्छा नहीं लगेगा|
मैंनें कहा:- मुझे नहीं लगता कि माही तुम इतनी हॉट दिख पाओगी कि लड़के तुम पर कमेंट करेंगे|

वो बोली:- चलो फिर आज शॉपिंग करनें चलते हैं|| फिर कल कॉलेज में देखते हैं कि क्या होता है|
मैंनें बाइक घर से निकाल ली और आज माही खुश थी| फिर हम शॉपिंग मॉल में पहुँचे|| जहाँ माही नें कहा:- अच्छा तुमको लड़की कैसे हॉट लगती है?

मैंनें कहा:- ये बात मैं तुम्हें कैसे बताऊँ?

उसनें कहा:- भाई शर्माओ मत|| मुझे सब पता है कि तुम कैसे लड़कियों को आँखें खोल:-खोल कर देखते हो|
तो मैंनें भी उसे खुल कर बता दिया:- लड़की का एक हॉट लुक हो|| जिसे देख कर दिल में ‘हॉट थॉट्स’ आएं|| चाहे वो सेक्स के ही क्यों ना हों|
माही बिल्कुल भी शर्मा नहीं रही थी और वो मेरी बातों को हंस कर सुन रही थी| फिर मैंनें बताया:- बूब्स की क्लीवेज अच्छा होना चाहिए और बूब्स थोड़े से तो उभरे हुए दिखनें ही चाहिए| लड़की की चाल में एक बात होनी चाहिए|| हिप्स का चाल के साथ बैलेंस बनना चाहिए|| मतलब हिप्स का मटकना अच्छा होना चाहिए|
फिर उसनें शॉपिंग मॉल में बहुत सारे फैशन टॉप्स और बॉटम ट्राई किए|| लेकिन मुझे ट्रायल रूम के बाहर निकल कर नहीं दिखाए| फाइनली उसनें कुछ कपड़े खरीदे और हम घर आ गए|
रात में उसनें कहा:- भैया कल आप कॉलेज अकेले जाएँगे और मैं आपके बाद खुद आ जाऊँगी|

मैंनें भी कहा:- ठीक है||
अगले दिन मैं कॉलेज पहुँच गया|

कुछ देर बाद मेरी गर्लफ्रेण्ड आई और मेरा हाथ पकड़ कर मुझे कॉलेज के गेट पर ले जानें लगी|

मैंनें पूछा:- क्या बात है?

लेकिन उसनें नहीं बताया|
मैं कॉलेज के गेट पर पहुँचा और देख कर दंग रह गया कि मेरी बहन एक ‘सुपर हॉट बॉम्ब’ की तरह खड़े होकर अपनी फ्रेंड्स से बातें कर रही है और सब उसे ऐसे देख रहे हैं जैसे कोई ‘हॉट सेलेब्रिटी’ आ गई हो|
गहरे गले वाला टॉप और लो:-वेस्ट स्लिम फिट जीन्स|| लाइट मेकअप और उसके लाइट पर्फ्यूम की खुश्बू चारों तरफ बिखर रही थी| उसके मम्मों का क्या बताऊँ कैसे लग रहे थे|| इससे पहले मुझे कभी अहसास नहीं हुआ कि उसके मम्मे इतनें हार्ड होंगे|
उसनें मुझे देखा|| एक स्वीट सी स्माइल दी और फिर अन्दर कॉलेज की तरफ जानें लगी|

सभी लड़कियों उसे इन्फीरियरटी कॉम्प्लेक्स के साथ देख रही थीं|

सच में वो सबसे अलग दिख रही थी| वो अन्दर ऐसे जा रही थी जैसे कोई रैम्प पर चल रहा हो|
उसके इस रूप से तो मैं दंग रह गया, वो आज़ आग का शोला दिख रही थी|
कोई लड़का कुछ बोल रहा|| तो कोई कुछ|| पहली बार मैंनें फील किया कि अपनी बहन को देख कर मेरा लण्ड खड़ा होनें लगा था| मैं चकित था कि ये कैसे हो गया|| एक सलवार:-सूट में दिखनें वाली सिंपल लड़की एक ‘सेक्स बॉम्ब’ कैसे बन गई है|
कॉलेज में वो दिन काफ़ी अजीब रहा|| शाम को माही नें कहा:- भैया मैं अब आपके साथ ही जाऊँगी|
अगले दिन से वो फिर से मेरे साथ बाइक पर बैठ गई|| पहले अक्सर वो दोनों टाँगें एक साइड करके बैठती थी|| लेकिन उस दिन फिल्मी स्टाइल में वो दोनों तरफ अपनी टाँगें फैला कर बाइक पर बैठी|
उफ़फ्फ़|| उसके बैठनें का तरीका|| मैं तो पागल ही हो गया||

मैं पूरे रास्ते भर उसके मम्मों को महसूस करता रहा|| वो भी काफ़ी चिपक कर बैठी हुई थी|
रास्ते में लड़के कमेंट भी कर रहे थे कि ‘क्या माल है||’ कोई कह रहा था कि ‘क्या कपल है!’

एक मेरा लण्ड भी बैठनें का नाम नहीं ले रहा था|
किसी तरह से हम घर पहुँचे|| घर पर मम्मी नहीं थीं|| वो सब्जियाँ लेनें के लिए गई थीं|

हम दोनों घर के अन्दर गए|| मैं सोफे पर शांत जाकर बैठ गया|
थोड़ी देर बाद मेरी बहन मुझे पानी देनें के लिए आई, उसनें जीन्स चेंज कर ली थी और एक शॉर्ट पहन कर आई थी|| जिसमें उसकी जाँघों नें मुझे और भड़का दिया|

loading...

पानी देते समय उसनें एक स्माइल दी और कहा:- लो, ठंडा पानी पी लो||
मैं खुद को रिलेक्स करनें के लिए स्मोकिंग करनें लगा| अपनी बहन का वो रूप बार:-बार मुझे पागल कर रहा था|
थोड़ी देर बाद मेरी बहन आई|| सामनें वाले सोफे पर बैठ गई और कहनें लगी:- भैया टेन्शन में क्यों हो?

वो हंस भी रही थी|| मैंनें कहा:- शायद मुझे कुछ चाहिए||

मेरी बहन तपाक से बोली:- यस आई नो यू नीड सेक्स नाओ||
इतना सुनते ही मैं उस पर टूट पड़ा|| उसनें कहा:- वेट ब्रदर|| अभी मम्मी का आनें का ख़तरा है|| हम लोग रात में पूरी मस्ती से सब कुछ करेंगे|

मैं बहुत खुश हुआ और उसके होंठों पर एक हार्ड स्मूच किया|
अब मैं रात होनें की प्रतीक्षा करनें लगा, भूख भी नहीं लग रही थी|| कुछ भी अच्छा नहीं लग रहा था|| बस अपनी बहन की चूचियाँ दिमाग में घूम रही थीं|
मैं आज तक कुँवारा था|| सो मैं बाथरूम गया और थोड़ा सा तेल लेकर अपनें लण्ड की मालिश करनें लगा| इसकी मोटाई से ही अहसास हो रहा था कि आज मेरी बहन को इसे झेलना भारी पड़ेगा| मेरे लंड का रूप बहुत खतरनाक लग रहा था|
शाम में मैं अपनी छत पर घूम रहा था, तभी बहन आई और बोली:- क्या हुआ? टाइम नहीं कट रहा?

मैंनें कहा:- दिल कर रहा है कि तुझे यहीं लिटा लूँ और पूरी रात पेलता रहूँ|

मेरी बहन नें कहा:- बातों से नहीं किसी और चीज से पेला जाता है|
मुझे लगा कि जैसे वो मुझे चैलेंज कर रही है|

‘ठीक है|| बताता हूँ किस चीज से पेला जाता है|’

वो कंटीली अदा से आँख मार कर भाग गई|
रात हुई और वो मेरे कमरे में आई, करीब 5 मिनट के बाद उसनें आँखों से इशारा किया:- शुरू करें||

उसनें पिंक ट्रांसन्स्पेरेंट नाइटी पहनी हुई थी और वो बला की खूबसूरत लग रही थी|
मैंनें उसे होंठों पर किस करना शुरू किया वो भी पूरा सपोर्ट कर रही थी|| किस करते:-करते वो मेरी शर्ट के बटन खोल रही थी और अन्दर बालों भारी छाती पर हाथ फिरा रही थी|
उसकी सिसकारियाँ मुझे और पागल कर रही थीं| धीरे:-धीरे मैंनें अपनें हाथ उसके मम्मों पर पहुँचा दिए|

ओह माय गॉड|| उसकी ब्रा के अन्दर उसके मम्मे बाहर आनें को छटपटा रहे थे|

मैंनें ब्रा का हुक तोड़ दिया|
माही नें कहा:- ब्रो रिलॅक्स|| आई एम ऑल युअर्ज़|

फिर उसनें धीरे से मुझे कान पर किस करते हुए कहा:- मेरे बूब्स को नहीं चूमोगे?

उसके मुँह से ये बात सुनकर मैं एकदम से पागल हो गया और उसके नंगे मम्मों को चाटनें लगा|
वो भी ‘अहहहा हाहहाआ|| आहहहहाहा||’ करती जा रही थी|

इसके बाद उसनें अपनें हाथों से मेरे लण्ड को टटोलना शुरू कर दिया|

लाइट्स ऑफ थीं|

उसके हाथ में मेरा बड़ा लण्ड जैसे ही आया|| तो माही नें कहा:- प्लीज़ स्विच ऑन करो न|| मुझे तुम्हारा बड़ा लण्ड देखना है||
मैंनें लाइट्स ऑन कीं और वो मेरे सामनें घुटनों के बल बैठ गई| मेरी जीन्स और अंडरवियर नीचे करनें के बाद उसके मुँह से निकला:- वोउव|| उसके गोरे हाथों की ऊँगलियों के बीच मेरा मजबूत काला भुजंग लण्ड साफ़ दिख रहा था|
थोड़ी देर बाद उसनें अपनें होंठों के स्पर्श से मुझे पागल कर दिया|

उसकी फ्लेवर्ड लिपस्टिक से मेरा लण्ड महकनें और रंगनें लगा था| वो भी ऐसे पेश आ रही थी|| जैसे सकिंग में कितनी एक्सपर्ट है|

मेरे लण्ड से वो बिल्कुल भी डर नहीं रही थी|
फिर मैंनें उसे सिसकारते हुए कहा:- आह|| अगर तुमनें इसे ज़्यादा चूसा तो मैं तुम्हारे मुँह में ही डिसचार्ज हो जाऊँगा|

वो समझ गई और उसनें मुँह से लवड़ा निकाल दिया|
इसके बाद मैंनें उसे बिस्तर पर धक्का दे करके लिटा दिया और उसकी पेंटी को उतारनें लगा| उसनें अपनी चूत को बिल्कुल चिकना किया हुआ था|

मैंनें ज़्यादा टाइम ना लगाते हुए अपनें होंठ उसकी चूत से लगा दिए|
वो पागल हो चुकी थी और बोले जा रही थी:- फक्क मीईईईई|| अहह|| भाई|| लण्ड पेल दो||

थोड़ी देर के बाद मैंनें अपनें लण्ड को उसकी चूत पर लगाया, मैं खुद भी सोच रहा था कि इतना बड़ा लौड़ा इसकी जरा सी फांक में कैसे अन्दर जाएगा|
फिर एक हल्का सा स्ट्रोक लगाया|| बिल्कुल ऐसा अहसास हुआ कि उसका कुँवारापन टूट गया|

उसकी साँसें अटक गई|| आँखें ठहर गईं|| और वो मरी सी आवाज में बोल रही थी:- ओह्ह|| स्लोय्यययई|| बहुत मोटा है|| तुम्हारा लण्ड है या गरम रॉड|| दर्द हो रहा है|| धीरे|| आह्ह||
मैं पूरे संयम के साथ लगा रहा|| उसके मम्मों को चूसता रहा|

फिर थोड़ी देर के बाद वो नॉर्मल हुई|| और मैंनें तेज धक्के देना शुरू किए|
हम आपस में बहुत गंदी:-गंदी बातें कर रहे थे| पूरा कमरा चूत चुदाई की ‘फच फच||’ की आवाजों के साथ गूँज रहा था|

कुछ देर के बाद वो शांत हो गई और मैं भी|| निढाल हो गया|

उसके चेहरे पर तृप्ति के भाव थे|
तब से मेरी छोटी बहन को बस सेक्स की भूख है||

आप तो जानते ही हैं कि जब जलेबी शीरा पी जाती है तो वो कितनी मीठी हो जाती है इसी तरह वो भी बेहद खूबसूरत और मस्त हो चुकी है|

loading...